मायावती के लिए ब्राह्मण शंख बजाएगा ? क्या ब्राह्मण 14 साल पीछे जाएगा ? (Uttar Pradesh Election 2022)

बहुजन समाज पार्टी ने 2022 विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Election 2022) के लिए अपने पत्ते खोल दिए हैं..बीएसपी ने 2007 की तरह ही ब्राह्मण वोटरों पर फोकस करना शुरू कर दिया है..दलित और ब्राह्ममण कॉम्बिनेशन से ही मायावती जी 2022 फतेह करेंगी..बसपा के कार्यकर्ता ब्राह्मणों के घर घर जाकर 2007 के चुनावों की याद दिलाएगें…मायावती के इस कदम ने विपक्षी पार्टियों को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है..लेकिन बीएसपी के लिए सवर्ण वोटर क्या सोचता है…

हमारा मक्सद किसी को डीमोटिवेट करने का नहीं है लेकिन एक बात भारत एक सोच जरूर कहना चाहता है कि 2007 से 2021 के बीच 14 साल का अंतर है..इन 14 सालों में बहुत कुछ बदल गया है..ब्राह्मणों के पास बीजेपी सबसे सॉलिड और सबसे ठोस विकल्प आ चुका है..लेकिन फिर भी राजनीति में राजनितिक पार्टियों को वोटरों को लुभाने का पूरा हक है..(Uttar Pradesh Election 2022)

मायावती का कहना है कि ब्राह्मणों का सम्मान सिर्फ बहुजन समाज पार्टी में हैं..अन्य पार्टियां तो सिर्फ बाह्मणों का इस्तेमाल करती हैं..बसपा और ब्राह्मण ही एक साथ मिलकर उत्तर प्रदेश को विकास के तरफ ले जा सकते हैं….ब्राह्मण परिवारों के घर-घर जाकर बसपा उनके बीच संबंध बनाए और उनको 2007 के विधानसभा चुनाव की याद दिलाएं..क्योंकि 2007 में ब्राह्मणों के समर्थन से मायावती की सरकार बनी थी..बीजेपी की सरकार में ब्राह्मणों की बात नहीं सुनी जा रही है उनको नजरअंदाज किया जा रहा है

साथ ही मायावती ने ये भी कहा है बिकरु कांड में बेकसूर बेटी खुशी दुबे को न्याय दिलाने की बात कही उन्होने कहा कि विकास दुबे अपराधी था..तो उसको पकड़कर आदालत के सामने पेश करना था..उन्होने ये भी कहा कि खुशी दुबे का केस अभी तक ब्राह्मणसभा लड़ रही था लेकिन अब बसपा पार्टी खुशी दुबे का केस लड़ेगी…

-----

यूपी में 16 प्रतिशत ब्राह्मण है जो किसी भी पार्टी को सत्ता में लाने के लिए काफी है..ब्राह्मणों के ही वोट बैंक से 2007 में मायावती सत्ता में आयी थी..अब 2022 के विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Election 2022) के लिए 6 महीने ही रह गए हैं..ब्राह्मण वोट का बड़ा हिस्सा प्रदेश सरकार से नाराज है..इसी बात का फायदा उठाते हुए सभी ब्राह्मणों का वोट साधने में जुटे हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *