Black Money वापस लाने वाली मोदी सरकार में ही 13 साल के रिकॉर्ड टूटे ? : संपादकीय व्यंग्य

India's black money in Swiss banks : काला धन ना हो गया..चूं चूं का मुरब्बा हो गया..7 साल से ला रहे हैं लेकिन ला ही नहीं पा रहे हैं..मोदी जी की सरकार..भारत का काला धन विदेशों से लाने का दावा कर रही थी..लाना तो दूर..काला धन नित नए नए कीर्तिमान बना रहा है..काले धन का नाम सुनते ही लाल हो जाने वाली..मोदी जी की सरकार में काले धन ने पिछले 13 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है…मोदी जी की सरकार में सबसे ज्यादा काला धन विदेशों में जमा हुआ है..दोस्तों स्विस बैंक की रिपोर्ट कह रही है कि साल 2020 में 212 प्रतिशत ज्यादा काला धन उनकी बैंकों में जमा हुआ है..भारत का पैसा विदेशों में कैसे जमा हो जाता है..मोदी सरकार में विदेशों में काला धन क्यों बढ़ गया..आपको आज सब कुछ बताएंगे..लेकिन मोदी जी का 2014 का प्रवचन सुनिए..कोई भी मोहित हो जाए..

काला धन खोजने के चक्कर में मोदी जी ने पूरे देश को लाइन में लगा दिया..पूरा पहाड़ खोदकर बर्बाद कर दिया..लेकिन एक भी काला चूहा नहीं पकड़ पाए…रिजर्व बैंक ने कहा साहब 99 प्रतिशत नोट वापस बैंक आ गए हैं..नोटबंदी बेमतलब ही कर दी..सरकार ने बाद में ये कहकर मन बहलाया कि नोटबंदी से आतंकियों के पास पैसा नहीं बचा है..अब आतंकियों का बटुआ कौन चेक करता..सरकार ने जो कहा वो मानना जरूरी और मजबूरी दोनों है..जब से ये खबर आई है कि मोदी सरकार में विदेशों में जमा होने वाले काले धन ने पिछले 13 सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है..तब से देश कह रहा है..अरे बाप रे तकलीफ सिर में थी..और मोदी जी ने टांग में ट्यूमर बताकर ऑपरेशन कर दिया..मोदी जी 2014 में काला धन वापस लाने के लिए उत्सुक थे..हर भारतवासी का हिस्सा बांट दिया था..नहीं सुनिए..बोर मत होईये..विडियो तो अभी शुरु हुआ है..

भारत के बाहर स्विस बैंकों में भारतीयों का 20 हजार 700 करोड़ रूपए जमा है..भारत से छिपाकर विदेशी बैंकों में पैसा जमा करना काला धन ही है..दोस्तों बात बढ़ने लगी..तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आईं कहा अजी वो इसलिए जमा हुआ होगा…वो उस लिए जमा हुआ होगा..अजी वो कंपनियों का पैसा होगा..ये उसी सरकार की मैडम हैं..जिनके लोग पहले आंख मूंदकर कहते थे..कि भारत से छिपाकर विदेशी बैंक में जमा धन काला धन ही है..मैडम को भी ठीक से कुछ नहीं मालूम है सिर्फ अंदाजा मार रही थीं..लेकिन इस बात के लिए पूरी श्योर हैं कि भारत के बाहर..देश से छिपाकर जो पैसे विदेशी बैंकों में जमा हुआ है वो काला धन नहीं है..हां मैं जानती हूं आप कालाधन वापसी और स्वघोषित स्वदेशी बाबा रामदेव से भी कुछ पूछना चाहते हैं..उनका जवाब भी आपको बताऊंगी..लेकिन काला धन चौकीदार के होते हुए विदेशों में गया क्यों ये जान लीजिए..

मैंने जिन अर्थ शास्त्रियों से बात की है उनके मुताबिक भारत की अर्थव्यवस्था मोदी सरकार में सुरक्षित नहीं रही…बड़े बड़े उद्योगों के शटर डाउन हो गए..बड़े बड़े सरकारी उपक्रम बिक गए..बड़े बड़े कारोबारी भारत छोड़कर भाग गए..जिस स्पीड से बैंकों के विलय की खबरें आने लगीं..लगने लगा कि पैसा भारत की बैंकों में असुरक्षित है..और घर में रखा धन तो काला होता ही है..इसीलिए विदेशी बैंकों को भारत के बड़े उद्योगपतियों ने सुरक्षित ठिकाना समझा और यही कारण है..विदेशी बैंकों में..भारत की मुद्रा ने पिछले 13 सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है..लेकिन जो धन भारत के विकास में लगाया जा सकता है..वो विदेशी बैंकों में पड़ा है वो काला धन ही है..इसमें कोई डाउट नहीं होना चाहिए..

-----

रामदेव बताते थे कि बीजेपी ही काला धन विदेश से वापस ला सकती है..वही एकमात्र विकल्प है..अब रामदेव से पूछा गया कि बाबा जी..आपने जो सरकार बनवाई है उसमें तो काले धन ने तो 13 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया..कैसे हो गया सब..बाबा बोले..काला धन भी बढ़ रहा है, और काले मन भी बढ़ रहे हैं..मोदी जी ने काले धन के उपाए किए हैं लेकिन अभी भी काले धन के चोर बेईमान बाज नहीं आ रहे हैं..सुना बाबा अब दूध पीते बउवा बन गए हैं..दोस्तों मेरी वेबसाइट पर मेरे आर्टिलक पढ़िए..बेबसाइट के नोटिफिकेशन को ok जरूर करिए..मुझे ट्विटर पर फॉलो जरूर करिए..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

-----

सवाल – काला धन क्या होता है ? Question – What is black money?
जवाब- देश से छिपाकर जो पैसा विदेशी बैंकों में बिना भारत सरकार की जानकारी के जमा किया जाता है उसे काला धन कहते हैं ? Answer- The money that is hidden from the country and deposited in foreign banks without the knowledge of the Government of India is called black money?

सवाल – कालाधन वापस कैसे लाया जा सकता है ? Question – How can the Indian government bring back black money from foreign banks?

सवाल – कालाधन विदेशी बैंकों से भारत की सरकार वापस कैसे ला सकती है ? Answer- To bring back black money from foreign banks, it is necessary to have a double taxation treaty with that country. Otherwise the government of India cannot know the money deposited in the bank of any country and the name of its account holder.

सवाल- भारत की सरकार से चुराकर कालाधन सबसे ज्यादा किस देश की बैंक में जमा किया जाता है ?
Question- In which country bank is deposited the maximum amount of black money stolen from the government of India?

जवाब- भारत के धनाड्य लोगों का सबसे ज्यादा काला धन स्विटजरलैंड की बैंकों में जमा होता है. जिनको लोग आसान भाषा में स्विस बैंक कहते हैं. टैक्सचोरों और ब्लैकमनी रखने वालों के लिए स्विटजरलैंड और स्विसबैंक स्वर्ग की तरह हैं. Answer- Most of the black money of the rich people of India is deposited in the banks of Switzerland. Which people simply call Swiss bank. Switzerland and Swissbank are like heaven for tax evaders and black money holders.

-----

डिस्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

6 thoughts on “Black Money वापस लाने वाली मोदी सरकार में ही 13 साल के रिकॉर्ड टूटे ? : संपादकीय व्यंग्य

  • June 22, 2021 at 1:04 am
    Permalink

    तब क्या हो जब काले धन की बात 2013 में वित्त मंत्रालय या योजना आयोग या फिर आरबीआई से लीक हो जाए। तो 2014 इलेक्शन के नतीजे एक तरफा हो जाते हैं। उस समय कांग्रेस के नाक के नीचे ऐसे प्लान लीक हो गए। और आज नतीजा सभी के सामने है। और काले धन का प्लान कोई भाजपा का नही था ये प्लान बटेर की तरह हाट में लग गया था बाकी कुछ नही।
    1. बैंक कस्टमर id
    2. मोबाइल फ़ोन कनेक्शन प्रति व्यक्ति फिक्स करना साथ में केवाईसी
    3. बचत बैंक खाते खुलवाना (जिसे जन धन योजना के नाम से जाना जाता है)
    4. नोट बंदी ( नॉट सक्सेस)

    2020 पूरे देश में यूपी सरकार ने सबसे पहले गरीब मजदूर की बात उनके लिए आर्थिक सहायता देना और मजदूरों का पूरे रजिस्ट्रेशन की शुरुआत (आधा अधूरा प्लान)। जब को करना कुछ और ही था। बाकी की जानकारी चाहिए तो कॉन्टैक्ट कर लेना विथ प्रूफ मिल जायेगी।
    और आगे क्या होने वाला है मैं ये भी बता देता हु।
    पूरे देश में निचले तबके के व्यापारियों ( जैसे पटरी दुकानदार , ठेले वाले, सेल मैन, किराना स्टोर आदि) के लिए current account खोले जाएंगे। (ये खाते खोलने के लिए योजना का क्या नाम दिया जिया जायेगा वो तो सरकार ही जाने) अर्थव्यवस्था को गति देने और अर्थव्यवस्था में डिजिटलाइज्शन को बढ़ावा देने के लिए।
    और भी काफी कुछ देश के लिए किया जा सकता है लेकिन सरकार को करना क्या है या क्या करना चाहिए दूर दूर तक कुछ लेना देना नही है।
    बस इतना जरूर करवाएंगे की आरबीआई मोनेट्री पॉलिसी में कुछ ढील दे। 😀😀😀😀😀

    जब पूरे देश में कोई ये बात नही जानता था देश में नोट बंदी होगी। तब मुझे सब पता था ये जो जनधन खाते खोले गए थे वो इसी नोट बंदी करने के लिए खोले गए। कोई काला धन विदेश से नही आने वाला था। और ये मीडिया में10 से 15 लाख़ की बात सामने आई वो तो कुछ और ही प्लान था। लेकिन 15 लाख़ को काला धन से जोड़ दिया गया। वो तो सब इलेक्शन जीतने के लिए सिर्फ बाते थी। जबकि यदि पूरे देश में सिर्फ प्रति व्यक्ति 50 हजार रुपए ही दिए जाए तो तो अर्थव्यवस्था चौपट हो जायेगी। महंगाई गरीबी और बेरोजगारी और अधिक बढ़ जाएगी। और कही प्रति व्यक्ति 15 लाख़ दे दिए जाए तो देश इकोनॉमी का दाह संस्कार करना पड़ जायेगा।
    और 2014 का इलेक्शन एक तरफा हो गया।
    मैं इस बारे में कभी कोई बात नहीं करना चाहता था लेकिन जिस तरह से देश की इकॉनोमी बर्बाद हो गई है। गरीबी बेरोजगारी महंगाई बढ़ी तो मुझे बर्दास्त नही हुआ जिस देश में 80 करोड़ लोगों प्रति व्यक्ति 5 किलो अनाज देना पड़ रहा हो उस देश में इतना ज्यादा टैक्स और करना क्या सरकार के पास पैसा की कमी है। ऐसा ही रहा तो कही पूरे देश की जनता 5 किलो अनाज के लिए लाइन में खड़ी दिखे। ये चीजें देश के लिए कोई गर्व की बात नहीं होगी। लेकिन नेता जी तो ये कह कर ढिंढोरा पीट रहे की मैंने 80 करोड़ लोगों को अनाज दिया ।
    आगे मैं बहुत कुछ बता सकता हूं विथ प्रूफ।

    Reply
    • June 23, 2021 at 6:38 pm
      Permalink

      आपकी महान राय के लिए धन्यवाद

      Reply
  • June 23, 2021 at 8:27 pm
    Permalink

    You r doing very good
    A suggestion for you if you want to attract youth then you should try podcasts like audio sources for news
    Now a days all r very busy bt anyone can listen audio during work or etc….
    I hope you understand

    Reply
    • June 24, 2021 at 1:44 pm
      Permalink

      दीपक जी आप हमारे विचारों को पसंद करते हैं..इसके लिए आपका बहुत बहुत आभार..आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *