BJP के राज्यपाल ने हद कर दी, अमृतकाल में रावण जलाना मना है

बीजेपी के FIR वाले अमृत काल में आपका स्वागत है..बीजेपी के नेता और जम्मू कश्मीर के राज्यपाल मनोज सिन्हा ( Manoj sinha ) ने बताया है कि महात्मा गांधी के पास कोई डिग्री नहीं थी..महात्मा गांधी होते तो..बीजेपी के राज्यपाल मनोज सिन्हा ( Manoj sinha ) पर एक FIR जरूर फेंककर मारते..लेकन अफसोस कि वो FIR वादी नहीं..अहिंसा वादी थे ।

1888 में गांधी ने की वकालत की पढ़ाई

बीजेपी में जिनसे डिग्री दिखाने को कहा जा रहा है वो तो दिखा नहीं रहे हैं..दूसरों की डिग्री में तोकझांक कर रहे हैं….व्ट्अप यूनिवर्सिटी के प्रत्येक क्षात्र को मालूम होनी चाहिए कि 1888 में गांधी जी वकालत की पढ़ाई करने के लिए ब्रिटेन गए थे..जून 1891 में वो वकालत की पढ़ाई पूरी करने के बाद वापस अपने देश आ गए थे..फिर 1893 में गांधी जी गुजराती व्यापारी शेख अब्दुल्ला के वकील के तौर पर काम करने के लिए दक्षिण अफ्रीका चले गए..जहां उन्होंने आंदोलन वान्दोल किए थे..गांधी जी की डिग्री ना हो गई..मोदी जी डिग्री हो गई..बीजेपी के बिहार वाले सांसद की डिग्री हो गई..स्मृति ईरानी की डिग्री हो गई..जिसका अता पता ही नहीं मिल रहा ।

राज्यपाल मनोज सिन्हा ( Manoj sinha ) बड़े हैं..संवैधानिक पद हैं..इस लिए ज्याद कुछ क्या ही कहूं..लेकिन एक नमूने और हैं । इस आदमी को रावण के पुतला जलाने से तकलीफ है..ये कुछ दिन पहले तक खुद को बीजेपी के नेता बताते थे..ये वही हैं जिन्होंने नोएडा की सोसाइटी में महिला को गालियां दी थीं और हाथ उठाया था..हां सही पहचाना..क्या धुआंधार गालियां बकते हैं..तो अब श्रीकांत भाई त्यागी ने अमृतकाल में ऐलानिया घोषणा कर दी है कि .अगर किसी ने रावण का पुतला फूंका तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा..क्योंकि पंडित था ।

यहाँ सब ही ज्ञानी है

ज्ञानी तो लादेन भी था..ज्ञानी तो हाफिस सईद भी है..ज्ञानी तो दाउद भी है..ज्ञानी तो राम रहीम भी था..ज्ञानी तो आसाराम भी था..ज्ञानी तो महिसासुर भी था..ज्ञानी तो कंस भी था..लेकिन ये सब अमृत काल में नहीं थे..रावण को खोया हुआ सम्मान दिलाने के लिए बीजेपी के पूर्व भाईसाहब ने आवाज उठाई है। व्हट्सअप यूनिवर्सिटी में रावण के संस्कारी होने के नोट्स छपते ही होंगे..दोस्तों अमृत काल में अब रावण को धरती पर आकर भारत से चुनाव लड़ जाना चाहिए ।

ये किसी भी रावण रूपी मानसिकता के पल्लवित होने का बिल्कुल सही और अनुकूल मौसम है…अभी तक पत्रकारों..कार्टूनिस्टों..एक्टिविस्टों..विपक्ष..स्टूडेंट..कर्मचारियों को FIR के दम पर चलाने वाले अमृत काल में .रावण का पुतला फूंकने वालों पर भी FIR होगी..जो समय भी जल्द आ ही जाएगा जब..व्यक्ति की पहचान उसकी पीढ़ियो से नहीं..उसके गुणों से नहीं..FIR में दर्ज धाराओं से होगी..

अब बुराई का अंत नहीं..एकत्र हो

अब से बुराई का अंत नहीं..एकत्र किया जाएगा.. भारत विश्वगुरू की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है..जहां मोदी सरनेम वाले ही चोर क्यों होते हैं..कहने पर राहुल गांधी को 2 साल की जेल हो सकती है..वहां रावण की बेइज्जति करने पर मुकदमा तो हो ही सकता है..मोदी उपनाम वाले तो केवल प्रधानमंत्री हैं..रावण तो ज्ञानी भी था…उम्मीद है अमृत काल में रावण को उनका खोया हुआ उसका उचित सम्मान मिल जाए.