संसद में धोखा खा गए अखिलेश, रविकिशन ने खींची टांग

गोरखपुर से सांसद और भोजपुरी स्टार रवि किशन ने मंगलवार को लोकसभा में सपा प्रमुख अखिलेश यादव को अपना निशाना बनाया. रवि ने यश भारती के मुद्दे पर अखिलेश को घेरा है.

akhilesh and ravi kishan debate in parliament yash bharti award
akhilesh and ravi kishan debate in parliament yash bharti award

संसद में अखिलेश यादव ने कहा है कि जब उत्तर प्रदेश में उनकी सरकार थी तब रवि किशन को यश भारती पुरस्कार मिला था और 50 हजार रुपये बतौर पेंशन हर महीने उन्हें मिलते थे. उत्तर प्रदेश सरकार ने विभिन्न क्षेत्रों के जाने माने लोगों को यश भारती पुरस्कार दिये हैं. जिसमें 50 हजार रुपये की सम्मान राशि दी जाती थी. दरअसल अखिलेश ये जानना चाहते थे कि क्या केंद्र सरकार पद्म पुरस्कारों के लिए किसी प्रकार की सम्मान राशि देने पर विचार कर रही है.

लेकिन फिर क्या था अखिलेश यादव के संसद में इतना कहते ही रविकिशन तुरंत खड़े हो गए और अखिलेश की बात को सिरे से नकारते हुए कहा कि यूपी में सपा या बसपा किसी सरकार ने उन्हें इस तरह का कोई सम्मान कभी नहीं दिया. रवि अखिलेश को और सुनाने जा रहे थे लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने अगले प्रश्न की घोषणा कर दी.

-----

लेकिन जैसे ही रवि किशन की बोलने की बारी आई तो तुरंत खड़े हुए और फिर अखिलेश को घेर लिया. सफाई देते हुए रवि ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार से उन्हें कभी यश भारती सम्मान नहीं मिला, न ही कोई राशि मिली है. तभी अखिलेश भी जवाब देने के लिए उठे लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ने हल्के फुल्के अंदाज में ये कहते हुए इस बहस को समाप्त कर दिया की इस पर फिर किसी दिन विस्तार से चर्चा कर लेंगे.

-----

मसला बस इतना सा था कि सदन में प्रश्नकाल चल रहा था और उसी दौरान पद्म पुरस्कारों से जुड़ा पूरक प्रश्न पूछा गया. तभी अखिलेश यादव ने अपनी सरकार की तारीफ कर दी कि उत्तर प्रदेश की पूर्व सपा सरकार ‘यश भारती’ सम्मान देती थी और पेंशन के तौर पर 50 हजार रुपये मासिक की राशि भी दी जाती थी. इसी बीच उन्होंने इस सदन में मौजूद सदस्य रवि किशन को भी इसमें लपेट लिया.

अखिलेश ने फिर कहा कि मेरा सवाल है कि क्या केंद्र सरकार भी पद्म पुरस्कारों से सम्मानित लोगों के लिए कोई सम्मान राशि देना शुरू करेगी. बस इसी में इतना बवाल हो गया. बतादें कि अखिलेश ने रविकिशन का नाम यशभारती के लिए लिया तो था लेकिन रविकिशन का नाम यशभारती पाने वालों की लिस्ट में नहीं है.