कांग्रेस क्यों सिल रही है ‘PM मोदी’ के लिए बड़े-बड़े ‘झोले’, आखिर क्या है कारण ?

लोकसभा चुनाव में सभी पार्टियों ने बीजेपी को सत्ता से हटाने की ठान ली है. पूरे देश में एक साइड मोदी और दूसरी तरफ पूरा विपक्ष है. सभी पार्टियां बीजेपी के खिलाफ रैलियां करने में लगे हैं. मगर कांग्रेस की तरफ से एक नई बात सामने आ रही है.

youth congress will send bags to pm modi 30 january
youth congress will send bags to pm modi 30 january

राहुल गाँधी तो हमेशा ही बीजेपी पर जैसे हावी ही रहते हैं वहीं युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव चंद यादव ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. केशव ने पीएम मोदी के बीते दिनों दिए गए बयान कि ‘वे तो फकीर हैं और झोला उठाकर चले जाएंगे’ पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि युवा कांग्रेस का हर एक युवा पीएम नरेंद्र मोदी को झोले तैयार करके भेजेगा. ताकि उनको प्रधानमंत्री का पद छोड़कर जाने में कोई तकलीफ़ न हो वे आसानी से जा सकें.

बेरोजगारी को लेकर केशव ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने न तो युवाओं को रोजगार दिया है और न ही सुशासन. बीजेपी सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है. केशव ने कहा कि प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने से बीजेपी वाले बौखला गए हैं. क्युकी अब मोदी सरकार का झूठ हर कदम पर बेनकाब होगा.

उन्होंने कहा, 30 जनवरी को दिल्ली में ‘इंदिरा रैली’ आयोजित की गई है. जिसमें भारतीय युवा कांग्रेस पीएम नरेंद्र मोदी को झोला भेंट करने के लिए भेजेगी क्योंकि, देश की जनता उनको हटाने का मन बना चुकी है. रैली सफल बनाने के लिए केशव ने मध्य क्षेत्र के युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी है.

वहीँ दूसरी तरफ पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव का पद मिलने के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा चार फरवरी को लखनऊ भी आने वाली हैं. लोगों का कहना है की प्रियंका लखनऊ से ही अपना कार्यभार ग्रहण करेंगी. प्रियंका के सामने भाजपा के साथ सपा-बसपा गठबंधन भी होगा ऐसे में उनको एक मजबूत रणनीति बना कर आगे बढ़ना होगा.

वहीं प्रियंका के चुनावी मैदान में आने से अखिलेश और मायावती का सपना भी टूट सकता है. क्युकी एक तरफ मायावती दिल्ली की राजगद्दी का सपना देख रही है तो वही अखिलेश 2022 में दुबारा मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं. अब प्रियंका के राजनीति में आने से कांग्रेस से नाराज वोटर्स जो सपा-बसपा या अन्य पार्टी में चले गए थे वो वापस कांग्रेस में आ सकते हैं.