मुख्यमंत्री योगी का चूतिया वाला वीडियो सच्चा या झूठा ? पढ़िए पूरी रिसर्च स्टोरी

दोस्तों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना की वैक्सीन लगवाई वैक्सीन लगवाने के बाद यूपी के मुख्यमंत्री ने ANI न्यूज एजेंसी को कोरोना पर एक बाइट दी जिसमें मुख्यमंत्री कहते हुए पाए जा रहे हैं कि..

कोरोना वैक्सीन मुफ्त में उपलब्ध कराने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री जी का केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूं..देश के वैज्ञानिकों का अभिनन्दन करता हूं………क्या करते हो चूतियापने का काम..

वीडियो के आखिरी हिस्से में देखा जा सकता है कि ANI न्यूज एजेंसी के कैमरामैन का कैमरा थोड़ा हिल गया. वीडियो देखकर ऐसा लगता है कि किसी का धक्का लगने से कैमरा हिला..कैमरा हिलने के बाद यूपी के मुख्यमंत्री की एकाग्रता भंग हो गई..उसके बाद बाद आवाज आती है कि…

क्या करते हो चूतियापने का काम..

मुख्यमंत्री योगी का चूतिया वाला वीडियो सच या झूठ ?
मुख्यमंत्री योगी का चूतिया वाला वीडियो सच या झूठ ?

इस लाइन के बाद कैमरा बंद हो जाता है..स्क्रीन काली हो जाती है..ये वीडियो सुबह से ट्विटर पर खूब वायरल हो रहा था. वीडियो वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शलभ मणित्रिपाठी ने कई ऐसे ट्विट रीट्वीट किए जिनमें मुख्यमंत्री के वीडियो को फर्जी बताया जा रहा था. ब्रेकिंग ट्यूब नाम की वेबसाइट ने ही वीडियो को फर्जी कहा और भारत की किसी वेबसाइट पर वीडियो को सीधे तौर पर फेक नहीं बताया..इसके साथ ही वीडियो वायरल करने पर मुकदमा करने की भी बात लिखी गई..

ट्विटर पर जैसे ही सरकारी पक्ष ने वीडियो को फेक बताया उसके बाद वीडियो वार शुरू हो गई. कई पत्रकार और नेताओं ने नेटवर्क 18 और एबीपी गंगा जैसे चैनलों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का लाइव चलाया गया बयान ट्विटर पर साझा कर दिया जिसमें योगी आदित्यनाथ चूतिया शब्द का इस्तेमाल करते हुए सुने जा रहे हैं. यहां तक कि एबीपी न्यूज के पत्रकार राजेंद्र देव लाइव टीवी पर मुख्यमंत्री को चूतिया बोलते हुए सुनने के बाद थोड़ा हड़बड़ा गए

IMAGE

ये नेटवर्क 18 पर लाइव चलाया गया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बयान पत्रकार देवेश पांडे ने साझा किया जिसमें दिखाई दे रहा है कि नेटवर्क 18 पर भी सेम शब्द रिपीट किए गए हैं और आखिर में स्क्रीन ब्लैक हो गई.

ZEE न्यूज लखनऊ के एक पत्रकार मनोज राजन त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री के समर्थन में लिखा कि…

ग़ज़ब कुंठा का दौर है। कल तक सवाल था कि मुख्यमंत्री वैक्सीन कब लगवायेंगे। आज लगवा ली तो भाई लोगों ने ऑडियो एडिट कर के ट्रोल कर दिया, सिर्फ़ इसलिये कि वैक्सीन को लेकर पॉज़िटिव मैसेज न जाये। अरे वैक्सीन जिसे लेनी है ले, न लेनी हो न ले पर जनता का ध्यान भंग करने के हथकंडे न अपनाये।

जिस न्यूज एजेंसी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का वीडिया पहली बार जारी किया था दोबारा से फिर एक वीडियो जारी किया और उस पर अलग से एक नोट लिखा..

कोविड टीकाकरण पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की वीडियो बाइट
(संपादक ध्यान दें: पहले जारी किए गए लाइव साउंड बाइट को वापस ले लिया गया है)

NEWS एजेंसी ANI ने कहा पहले जारी की गई साउंड बाइट को वापस ले लिया गया है इसका मतलब तो यही निकलता है कि पहली बाइट में चूतिया शब्द था जो बाद में दूसरी बाइट दी गई उसमें हटा लिया गया है.

मुख्यमंत्री द्वारा कहे गए अपशब्दों पर सोशल मीडिया पर घमासान चल रहा है..पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने पत्रकार दीपक चौरसिया के लिए लिखा कि..

इस आदमी की नीचता देखिए।
सच सामने आने के बाद भी ना ट्वीट हटाया और ना ही स्पष्टिकरण देने की लाज है इनमें।
मीडिया का यह नीचतम स्तर भारत के इतिहास में पहली बार देखने को मिला है।
जब सम्पादक स्तर के लोग ‘सत्ता’ के आगे ‘छम्मकछल्लो’ समान नृत्य कर रहे हैं।
इन चेहरों को याद रखना।

इससे पहले पत्रकार दीपक चौरसिया ने योगी आदित्यनाथ के समर्थन में लिखा था कि योगी जी को बदनाम करने के लिए फेक वीडियो फैलाया जा रहा है..

पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने एक और ट्विट किया और लिखा कि

और ये रही @News18UP की लाइव फीड..अब या तो योगी आदित्यनाथ जी खुद इस्तीफ़ा दे दें या तो अपने सलाहकारों की टोली को धक्का मार कर बाहर निकाल दें..मुक़दमा तो अब उन सलाहकारों पर होना चाहिए जिन्होंने धमकी दी जनता पर FIR करने की..धमकी देने पर गम्भीर धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया जाए।

वीडियो फर्जी है या वाकई मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चूतिया जैसे शब्द का इस्तेमाल किया है ये आप अब तक की डीटेल्ड स्टोरी को देखकर समझ लीजिए आगे और स्टोरियों के लिए आप UltaChasmaUC.com के नियमित पाठक बनिए आपको निष्पक्ष सूचना मिलती रहेगी. उल्टा चश्मा यूसी का मैं एक सदस्य स्टोरी आपतक लेकर आया हू. धन्यवाद..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *