दिल्ली दौड़कर गए योगी के अड़ियल रवैये का सरेंडर ? 7 शर्तों पर बचेगी योगी की कुर्सी ? : संपादकीय व्यंग्य

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial

यूपी में मची भगमच्छर के बीच.. किसी के आगे सिर ना झुकाने वाले योगी आदित्यनाथ ने निकाला हेलीकॉप्टर पाइलेट से कहा चलो दिल्ली..किसी ने कहा बड़े ताव में गए हैं..इस्तीफा देने गए होंगे..हमने कहा मूर्खों मुख्यमंत्री का इस्तीफा आज भी राज्यपाल ही लेते हैं..लेकिन योगी आदित्यनाथ की इस दिल्ली यात्रा ने योगी को कमजोर कर दिया है..दिल्ली यात्रा ने संदेश दिया है कि योगी झुक गए हैं..हरे कुर्ते में अमित शाह और भगवा कुर्ते में बैठे योगी आदित्यानाथ जी की ये फोटो देखिए..मुख्यमंत्री योगी आदित्यानथ ने लिखा..

”आज आदरणीय केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह..जी से नई दिल्ली में शिष्टाचार भेंट कर उनका मार्गदर्शन प्राप्त किया..भेंट हेतु अपना बहुमूल्य समय प्रदान करने के लिए आदरणीय गृह मंत्री जी का हार्दिक आभार”

मुख्यमंत्री में इतनी कृतज्ञता दिखाती है कि योगी आदित्यनाथ दिल्ली के आगे झुक गए हैं..गेंद दिल्ली के पाले में है..दूसरी तरफ अमित शाह ने सिर्फ इतना लिखा कि ”आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी से भेंट की”..योगी नरेंद्र मोदी से भी मिले..मोदी से मुलाकात का समय देने के लिए ह्रदय तल से धन्यवाद दिया..मतल ह्रदय की गहराईयों से..इस बार दिल्ली वाले गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर योगी आदित्याथ से नहीं बल्कि केवल आदित्यनाथ से मिले…

-----

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मिले..उनके बारे में भी बाताया की ये शिष्टाचार मुलाकात थी..इतनी मेल मुकाकातों के बाद होली मिलन समारोह की याद आ गई..खैर भारतीय संस्कृति की एक विशेषता है कि यहां मिलने वही जाता है जिसकी गर्ज होती है..हारने वाले पक्ष पर ही संधियों की शर्तें लादी जाती हैं..आप इसे दिल्ली की संधि कह सकते हैं..संधि के नियम और शर्ते भी हम आपको आज बताने वाले हैं..

-----

क्योंकि राजनीति में जो घट रहा होता है उसकी कड़ियां अगर आप मिला लें तो तस्वीर बहुत हद तक साफ हो जाती है..दोस्तों योगी आकेले नहीं हैं जो दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं..जितिन प्रसाद का कैंप वहीं गड़ा है..गोरखपुर वाले निषाद पार्टी का कैंप वहीं गड़ा है..अनुप्रिया पटेल का भी डेरा वहीं है..और एके शर्मा को तो खैर जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि वो वहीं से आए हैं…

दोस्तो योगी आदित्यनाथ इतने दबाव में तब भी नहीं होंगे जब वो गोरखपुर के सांसद थे..और समाजवादी पार्टी की सरकार में उनपर मुकदमे हुए थे. ये साफ हो चुका है कि उत्तर प्रदेश की डोर दिल्ली में ही है..अनुप्रिया पटेल अमित शाह से मुलाकात की है..कहते हैं अपने आदमी को योगी की कैबिनेट में फिट कराने की बातें हुई हैं..निषाद पार्टी के संजय निषाद भी मंत्री पद की इच्छा से अमित शाह से मिले..जितिन प्रसाद को भी मंत्री पद चाहिए..क्योंकि उन्होंने गले में बीजेपी के नाम पर पट्टा दिल्ली में ही डाला है..इसलिए उनका बेड़ा पार कराने की जिम्मेदारी दिल्ली वालों की है..

अमित शाह क्या हैं ? गृह मंत्री..योगी आदित्यनाथ क्या हैं मुख्यमंत्री..किसके मंत्रिमंडल में मंत्री बनने के लिए बातें हो रही हैं..योगी आदित्यनाथ के..बात किससे करनी चाहिए योगी आदित्यनाथ से लेकिन बात किससे हो रही है..अमित शाह से..योगी आदित्यनाथ किसके आगे हाजिरी लगा रहे हैं..अमित शाह के..मतलब योगी आदित्यनाथ की डोर कहां है.दिल्ली से लखनऊ तक फैले गुजरात वालों के पास..यानी अमित शाह गुजरात वाले…नरेंद्र मोदी गुजरात वाले..और आनंदी बेन पटेल गुजरात वाली..योगी आदित्यनाथ की जो एंग्री यंग मैन की छवि उत्तर प्रदेश में बनी थी..एक बार जो मैंन कमिटमेंट कर दी तो उसके बाद मैं अपने आपकी भी नहीं सुनता वाली छवि खत्म हो रही है..

अगर योगी की कैबिनेट में दिल्ली से मंत्री थोपे गए तो योगी आदित्यनाथ की गिनती भी मनमोहन सिंह जैसी कैटगरी के नेताओं में होने लगेगी..क्योंकि योगी आदित्यनाथ ने आज तक दबाव बनाया है..दबाव में आए नहीं हैं..राधामोहन का आनंदीबेन से मिलना..बीएल संतोष का लखनऊ में मंत्रियों से मिलना..प्रधानमंत्री गृह मंत्री और नड्डा का योगी को जन्मदिन पर बधाई ना देना..फिर योगी का दिल्ली भागकर जाना..तीनों से मुलाकात करना..ट्विवट करके एकदम बिछ जाने वाला धन्यवाद करना..बहुत कुछ कहता है..

यूपी में 7 मंत्रियों के पद खाली हैं..कहा जा रहा है अब दिल्ली जिनको बताएगा..वही योगी के मंत्रीमंडल में जगह पाएगा..कहते हैं योगी के बचे रहने की यही शर्त होगी..दोस्तों आगे क्या होगा..उसके बारे में भी बताऊंगी..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

-----

सवाल- योगी मंत्रिमंडल में अभी कितने पद खाली हैं? Question- How many posts are currently vacant in the Yogi cabinet?

जवाब- योगी मंत्रिमंडल में अभी 7 पद खाली हैं ? Answer- 7 posts are currently vacant in Yogi cabinet?

सवाल- योगी मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार वाले कितने मंत्री हैं ?
Question- How many ministers of state with independent charge are there in the Yogi cabinet?

जवाब- योगी मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार वाले 9 मंत्री हैं Answer- There are 9 ministers of state with independent charge in the Yogi cabinet.

सवाल- योगी मंत्रिमंडल में कितने राज्य मंत्री हैं ? Question- How many ministers of state are there in the Yogi cabinet?

जवाब- योगी मंत्रिमंडल में 21 राज्यमंत्री हैं Answer- There are 21 ministers of state in the Yogi cabinet.

सवाल- योगी मंत्रिमंडल में कुल कितने मंत्री हैं ? Question- How many ministers are there in Yogi cabinet?

जवाब- 22 कैबिनेट मंत्री + 9 स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री + 21 राज्य मंत्री कुल मिलाकर 52 मंत्री योगी के मंत्रिमंडल में हैं.. Answer- 22 cabinet ministers + 9 ministers of state with independent charge + 21 ministers of state altogether 52 ministers are in Yogi’s cabinet.

सवाल- योगी की कैबिनेट में कुल कितने मंत्री हैं ?
Question- How many ministers are there in Yogi’s cabinet?

जवाब- योगी की कैबिनेट में योगी को छोड़कर 22 कैबिनेट मंत्री हैं Answer- There are 22 cabinet ministers except Yogi in Yogi’s cabinet.

सवाल – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास कितने विभाग हैं ? Question – How many departments does Chief Minister Yogi Adityanath have?

जवाब – यूपी के मुख्यमंत्री के पास गृह, आवास एवं शहरी नियोजन, राजस्व, खाद्य एवं रसद, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन, अर्थ एवं संख्या, भूतत्व एवं खनिकर्म, कर निबंधन, कारागार, सामान्य प्रशासन, सचिवालय प्रशासन, गोपन, सर्तकता, नियुक्ति, कार्मिक, सूचना, निर्वाचन, संस्थागत वित्त, नियोजन, राज्य सम्पत्ति, नगर भूमि, उत्तर प्रदेश पुनर्गठन समन्वय, प्रशासनिक सुधार कार्यक्रम कार्यान्वयन, राष्ट्रीय एकीकरण, अवस्थापना, भाषा, वाह्य सहायतित परियोजना, अभाव, सहायता एवं पुनर्वास, लोक सेवा प्रबंधन, किराया नियंत्रण, उपभोक्ता संरक्षण, बांट माप विभाग, प्रोटोकॉल, प्राविधिक शिक्षा, सैनिक कल्याण, होमगार्ड, प्रान्तीय रक्षक दल, नागरिक सुरक्षा कार्यक्रम कार्यान्वयन, राष्ट्रीय एकीकरण, अवस्थापना, भाषा, वाह्य सहायतित परियोजना, अभाव, सहायता एवं पुनर्वास, लोक सेवा प्रबंधन, किराया नियंत्रण, उपभोक्ता संरक्षण, बांट माप विभाग, प्रोटोकॉल, प्राविधिक शिक्षा, सैनिक कल्याण, होमगार्ड, प्रान्तीय रक्षक दल, नागरिक सुरक्षा Answer – The Chief Minister of UP has Home, Housing and Urban Planning, Revenue, Food and Logistics, Food Security and Drug Administration, Meaning and Numbers, Geology and Mining, Tax Registration, Prisons, General Administration, Secretariat Administration, Privacy, Vigilance, Appointment , Personnel, Information, Election, Institutional Finance, Planning, State Property, City Land, Uttar Pradesh Reorganization Coordination, Administrative Reforms
kaaryakram kaaryaanvayan, raashtreey ekeekaran, avasthaapana, bhaasha, vaahy sahaayatit pariyojana, abhaav, sahaayata evan punarvaas, lok seva prabandhan, kiraaya niyantran, upabhokta sanrakshan, baant maap vibhaag, protokol, praavidhik shiksha, sainik kalyaan, homagaard, praanteey rakshak dal, naagarik suraksha
Program Implementation, National Integration, Infrastructure, Language, Externally Aided Project, Deprivation, Aid and Rehabilitation, Public Service Management, Rent Control, Consumer Protection, Weight Measurement Department, Protocol, Technical Education, Military Welfare, Home Guard, Provincial Guard, Civil Defense

डिस्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

8 thoughts on “दिल्ली दौड़कर गए योगी के अड़ियल रवैये का सरेंडर ? 7 शर्तों पर बचेगी योगी की कुर्सी ? : संपादकीय व्यंग्य

  • June 11, 2021 at 6:24 pm
    Permalink

    Ee to dhokha hoee gawa…Saat shart dhoondhate dhoondhate maloom pada article wa hee khatam ho gaya par saat shart nahee maloom hua…..Etnae maloom hua ke saat go mantri pad khali hai…Gazab dokha ho gawa…………………Ek minute ……..ooo saat mantri pad….Mane saat shart….Ek dum lookaa chhipee ke khel mafiq batlaya hai…Dhanya hai aapki lekhni

    Reply
  • June 11, 2021 at 7:52 pm
    Permalink

    प्रज्ञा जी मैं आप का निरंतर रिपोर्ट पढ़ता हूं और यूट्यूब पर देखता भी हूं और मुझे लगता है कि पत्रकारिता का जो एक गरिमा होता है और उसका धर्म होता है कि वह निष्पक्ष होकर किसी भी बात को जनता के सामने रखें ये सभी जिम्मेदारियां आप बखूबी निभा रही हैं. मैं आशा करता हूँ कि भविष्य में भी आप किसी पार्टी विशेष के लिए कार्य कार्य न करके सरकार को उनकी जिम्मेदारियों से अवगत करती रहेंगी, चाहें वो सरकार किसी भी पार्टी की हो. एक पत्रकार एक साफ़ दर्पण की तरह होता है जो जनता के सामने सच दिखाता है. मैं भारत का नागरिक होने के नाते कहता हूँ कि जनता को एक निष्पक्ष और साहसी पत्रकार की जरूरत है जो सरकार के कार्यों से जनता को रूबरू करा सके. आपको दिल से धन्यवाद हम आपके साथ हैं.

    Reply
  • June 11, 2021 at 8:20 pm
    Permalink

    Pragya ji hm kuchh nahi keh skte ke kya raajniti chal rahi hai cm yogi ko lekar,saaf taur pr kuch pata nhi chal Raha hai’kya hoga yogi aur UP ka vo to waqt hi batayega?
    Pragya jee aap aur bhi tehqeeq kijiyega aur apne YouTube channel pr jankari di jiyega…………..

    Reply
  • June 12, 2021 at 6:22 pm
    Permalink

    आप बोल रही है कि तीसरी लहर‌ आने वाली है आप ्। को मालूम है यह कोरोना का बहाना बनाकर सरकार आम आदमी के साथ धोखा करती है आने वाला कल किसी को‌ मालुम है
    सरकार यह फालतू बात करती है आप सब को ऐसा नहीं बोलना चाहिए
    इसका‌ जवाब जरूर देना
    9519581688‌ call
    7618906178 WhatsApp

    Reply
  • June 13, 2021 at 1:47 pm
    Permalink

    सोच रहा हूं कि अब मैं बैलगाड़ी से चलूं और दो बैलों के जगह पर दो अंधभक्त बांध दू कैसा रहेगा 😂😂

    Reply
    • June 14, 2021 at 9:54 pm
      Permalink

      हा हा हा

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *