सुन्नी वक्फ बोर्ड को इस जगह मिली पांच एकड़ जमीन, योगी कैबिनेट ने लगाई मुहर

एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर ट्रस्ट का ऐलान कर दिया है. तो वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन देने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है.

yogi cabinet approved five acre land to sunni waqf board for mosque
yogi cabinet approved five acre land to sunni waqf board for mosque

योगी कैबिनेट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या के रौनाही में पांच एकड़ जमीन देने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है. लोक भवन में हुई उत्तर प्रदेश कैबिनेट की बैठक में इस फैसले को हरी झंडी दी गई है. इसके साथ ही भूमि आवंटन का पत्र भी बोर्ड को सौंपा जाएगा. अयोध्या के पास लखनऊ हाईवे पर रौनाही के धन्नीपुर में चिह्नित 5 एकड़ भूमि वक्फ बोर्ड को दी जाएगी.

ये जमीन लखनऊ अयोध्या हाई-वे पर अयोध्या से करीब 20 किलोमीटर पहले है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राम मंदिर-बाबरी मस्जिद केस में जमीन दी जा रही है. बोर्ड जो चाहे करे, मस्जिद बनाए या कुछ और.

  • इसके साथ ही कैबिनेट में सहकारी चीनी मिलों की समितियों का 3221 करोड़ माफ किया गया.
  • अयोध्या, बस्ती, बहराइच, फिरोजाबाद समेत पांच मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन शुरू हुए.
  • सिचाई विभाग ने आगरा में थाने के लिए जमीन निशुल्क दी.
  • सायबर क्राइम को देखते हुए अभी तक दो थाने थे. लखनऊ और नोएडा मंडल स्तर पर एक-एक सायबर थाने खोले जाएंगे. 111 करोड़ की लागत से बनेंगे.
  • उत्तर प्रदेश से लगे सातों राज्यो की खनिज नीति के आधार पर ही सरकार खनिज की कीमत तय करेगी.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में राम मंदिर का निर्माण करने के लिए ‘श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ ट्रस्ट का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि जल्द ही ये ट्रस्ट मंदिर निर्माण पर फैसले लेगा. ये ट्रस्ट अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मस्थली पर भव्य और दिव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण और उससे जुड़े विषयों पर निर्णय लेने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा. 67.03 एकड़ भूमि इस ट्रस्ट को दे दी जाएगी और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशन में राम मंदिर का निर्माण होगा.

राम मंदिर के लिए वृहद योजना बनाई गई है. इसमें 15 सदस्य होंगे. सूत्रों के अनुसार, आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित चारों मठों के शंकराचार्य ट्रस्ट में शामिल हाेंगे. अयोध्या से महंत नृत्य गोपाल दास, दिगंबर अनी अखाड़े के महंत सुरेश दास, निर्मोही अखाड़े के महंत दीनेंद्र दास, गोरक्षपीठ गोरखपुर के प्रतिनिधि, कर्नाटक के उडुपी पेजावर मठ के प्रतिनिधि, विहिप से ओम प्रकाश सिंघल, उपाध्यक्ष चंपतराय, राम मंदिर आंदोलन को आमजन तक पहुंचाने वाले दिवंगत अशोक सिंघल के भतीजे सलिल, दिवंगत विष्णुहरि डालमिया के परिवार से पुनीत डालमिया, एक दलित प्रतिनिधि और एक महिला प्रतिनिधि ट्रस्ट में शामिल हाेंगी.

1,973 total views, 4 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *