बिना लाइसेंस-हेलमेट वालों पर कार्रवाई करें, भ्रष्ट पुलिसकर्मियों की जरुरत नहीं, जब्त करें संपत्ति

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को आजमगढ पहुंचे और मण्डलायुक्त सभागार में आजमगढ़, मऊ और बलिया के अधिकारियों के साथ विकास कार्यों और कानून व्यवस्था की समीक्षा की. जिसमें उन्होंने कई बड़े फैसले किये हैं.

yogi aditynath review meeting in azamgarh for development project
yogi aditynath review meeting in azamgarh for development project

सीएम योगी ने समीक्षा बैठक में बढ़ते अपराध पर चिंता जताई है. उन्होंने पुलिस अधीक्षकों से कहा कि या तो आप लोग अपराध रोकें, नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार हो जाएँ. अफसरों को चेतावनी के साथ निर्देश दिया कि महिला व नाबालिग बच्चियों के साथ हो रही घटनाओं पर तत्काल अंकुश लगाएं. लापरवाही किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

-----

इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के साफ संकेत दे दिए हैं. उन्होंने कहा है कि जो भी अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त पाया जायेगा उसकी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी. सीएम योगी ने अपनी बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना में भ्रष्टाचार की जांच के लिए मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल को निर्देश दिए. उन्होंने साफ़ कहा कि वर्दी के नाम पर कलंक बन चुके पुलिसकर्मियों के लिए विभाग में कोई जगह नहीं है.

लोकतंत्र में समस्याओं के हल का सबसे प्रभावी जरिया है- संवाद. लूट होने पर संबंधित थाने के बीट सिपाही से लेकर अन्य पुलिसकर्मियों की जवाबदेही तय करें. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने आजमगढ़ में विश्वविद्यालय के लिए जल्द से जल्द भूमि चयन करने को कहा है. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की धीमी प्रगति पर भी असंतोष जताया. और निर्माणाधीन मार्टीनगंज तहसील भवन की जांच के निर्देश दिए हैं.

बिना लाइसेंस, बिना हेलमेट कोई भी वाहन चलाते मिले तो कार्रवाई करें. पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिया है कि किसी भी पुलिसकर्मी के खिलाफ अगर अवैध वसूली की शिकायत मिलती है तो उसके खिलाफ तत्काल एफआइआर दर्ज कराएं. उन्होंने कहा कि एक से सात जुलाई तक वन महोत्सव मनाया जा रहा है. स्कूल के सभी बच्चों से एक पौधा लगवाएं. सभी जिला मुख्यालयों पर एक सुंदर पार्क के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं.