योगी की कुर्सी खतरे में है ? राज्यपाल को दिल्ली से भेजा गया बंद लिफाफा ? : संपादकीय व्यंग्य

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial

दोस्तों यूपी में राजनीतिक घमासान मचा हुआ है..सुबह ही बीजेपी के प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह एक बंद लिफाफा लेकर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मिलने पहुंच गए..दोस्तों बंद लिफाफे में क्या था वो आगे बताएंगे लेकिन योगी आदित्यनाथ से दिल्ली वाले लोग बिल्कुल खुश नहीं है..योगी और मोदी के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है..

इसीलिए मोदी ने अमितशाह ने और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सबसे बड़े राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जन्मदिन की बधाई तक नहीं दी है..कहते हैं योगी आदित्यनाथ की ब्रांडिंग दिल्ली वालों को अच्छी नहीं लगी है..योगी की ब्रांडिंग में उनको मोदी का उत्तराधिकारी बताया जाने लगा था..कहते हैं यही ब्रांडिंग योगी के लिए सत्ता के संकट का कारण बन गई है…

बीजेपी प्रदेश प्रभारी कहते हैं..मंत्रिमंडल में खाली सीटें भरी जाएंगी मतलब मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है..लेकिन ये पहली बार देखा जा रहा है कि जिसका मंत्रिमंडल है..जिसको विस्तार करना है वो मुख्यमंत्री योगी चुप बैठें हैं..और दिल्ली से सीधा राज्यपाल को चिट्ठी पत्री और राजनीतिक लिफाफेबाजी चल रही है..राज्यपाल आनंदी बेन पटेल गुजरात से हैं..

-----

ये वही आनंदी बेन पटेल हैं जो मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर गुजरात की मुख्यमंत्री बनी थीं..अब यूपी की राज्यपाल हैं..यानी राज्यपाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विश्वस्त हैं..राज्यपाल का पद वैसे तो संवैधानिक है..लेकिन सबकी आस्थाएं कहीं ना कहीं किसी ना किसी के साथ तो जुड़ी ही होती हैं..सत्ता आधी उसी की तरफ होती है जिसकी तरफ राज्यपाल होता है…

-----

योगी आदित्यानाथ आरएसएस की पसंद हैं..लेकिन जिस दौर में मोदी हैं तो बीजेपी है..के नारे गूंज रहे हों उस दौर में आरएसएस चाहकर भी बहुत कुछ नहीं कर सकती..योगी ने आरएसएस के एजेंडे को पूरी तरह से लागू किया..कभी दूसरी टोपी नहीं पहनी..ना मस्जिद गए..और इसे मंचों से कहने में उनको कोई गुरेज नहीं है..लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी इस एजेंडे पर पूरी तरह से नहीं चल पाए..

मोदी जी गुजरात के हैं..अमित शाह जी भी गुजरात के हैं..यूपी की राज्यपाल भी गुजरात की हैं..राज्यपाल के हाथ में बहुत सी शक्तियां होती हैं..लेकिन राज्यपाल शक्तियों का इस्तेमाल तभी कर सकते हैं..जब उनतक कोई चिट्ठी पत्री पहुंचे..अगर मामला एके शर्मा को मंत्री या डिप्टी सीएम बनाए जाने का होता तो इतना ड्रामा नहीं होता..चुनाव से 6 महीने पहले इतनी बड़ी एक्सरसाइज छोटा पेड़ गिराने के लिए या छोटा पौधा लगने के लिए नहीं है…

                            लोग चिल्ला चिल्लाकर कह रहे हैं..कि केशव प्रसाद मौर्या यूपी के सीएम बनना चाहते हैं...अगर बात गलत होती तो केशव प्रसाद कहते ये सब झूठी अफवाहें हैं हमको नहीं बनना मुख्यमंत्री..लोग कहते हैं योगी को हटाया जाएगा..अगर योगी कॉन्फीडेंट हैं तो कहना चाहिए कि ये अफवाहें हैं..ऐसा कुछ नहीं होने जा रहा है..दिल्ली से तो कोई बयान आना चाहिए था..लेकिन नकार कोई नहीं रहा है..सब अपनी अपनी चिट्ठी लेकर घूम रहे हैं..सब इधर से उधर मीटिंग मीटिंग खेल रहे हैं..

देखिए योगी आदित्यनाथ के रास्ते में कांटे अभी से नहीं बोए जा रहे हैं..याद करिए यूपी के वो उपचुनव जिसमें योगी अपने गोरखपुर की सीट हार गए थे..जिसके बाद पत्रकारों ने हार का कारण पूछा तो योगी ने कहा था उनसे पूछो जिन्होंने टिकट दिए है..यानी उपचुनाव के टिकट बंटवारे में योगी की राय नहीं ली गई थी..और इसलिए गोरखपुर से बीजेपी का कैंडीडेट सपा से हार गया था..फिर केशव प्रसाद मौर्या की सीट फूलपुर से भी बीजेपी हार गई..नूरपुर कैराना भी उसी समय हार गए थे..रस्सा कस्सी का खेल तब से चल रहा है..

        योगी आदित्यनाथ संघ की पसंद हैं लेकिन दिल्ली की पसंद नहीं हैं..कहा जा रहा है कि योगी के राज्य में कोरोना बहुत फैला कंट्रोल नहीं कर पाए पार्टी की बहुत बेइज्जती हो गई..यूपी पंचायत चुनाव हार गए बहुत बेईज्जती हो गई..इनसे इनके ही विधायक मंत्री और कार्यकर्ता नाराज हैं..2022 में कैसे चुनाव लड़ेंगे..लेकिन यही सब तो दिल्ली वालों के साथ भी है..वो भी तो बंगाल हारे हैं..देश में कोरोना फैलाने के जिम्मेदार तो वो भी हैं..खैर यूपी में आगे क्या होगा..मैं आपको बताती रहूंगी इस वीडियो में इतना ही चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

डिस्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

32 thoughts on “योगी की कुर्सी खतरे में है ? राज्यपाल को दिल्ली से भेजा गया बंद लिफाफा ? : संपादकीय व्यंग्य

  • June 6, 2021 at 3:57 pm
    Permalink

    अगर योगी जैसा शक्त मुख्यमंत्री यूपी नही संभाल सकता तो, कोई नही संभाल सकता,
    UP के 4 और राज्य बनाएं जाएं, ताकि सासन व्यस्था ठीक से चल सके
    लेकिन नेता मलाई अपने हाथ से नही जाने देंगे
    जनता को ही दबाव बनाना पड़ेगा

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:46 pm
      Permalink

      आपकी राय के लिए शुक्रिया..हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे नियमित पाठक बनेंगे..

      Reply
      • June 7, 2021 at 10:34 am
        Permalink

        प्रज्ञा जी, आपकी वाकपटुता के हम कायल हैं।आपकी भाषा शैली चाहे व्यंग को लेकर हो या अन्य, अत्यंत सराहनीय है। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण हैं। ह्रदय से बहुत बहुत शुभ कामनाएं। सादर अभिवादन।

        Reply
  • June 6, 2021 at 4:05 pm
    Permalink

    ये सब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले का षड्यंत्र है।

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:46 pm
      Permalink

      आपकी राय के लिए शुक्रिया..हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे नियमित पाठक बनेंगे..

      Reply
  • June 6, 2021 at 4:12 pm
    Permalink

    Kaash k har reporters sach dikhate aur batate,
    Jaise aap kar rahi hain.
    Hamein apki reporting achi lagti h apke madhyam se mili reports par hame pura yaqeen rahta h k ye news pakki h isme koi jhooti batein nhi hongi..

    From
    Bangalore

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:46 pm
      Permalink

      आपकी राय के लिए शुक्रिया..हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे नियमित पाठक बनेंगे..

      Reply
  • June 6, 2021 at 4:28 pm
    Permalink

    मेरे आर्टिकल को जगह दे आपका बहुत आभार होगा दीदी
    *शीर्षक*
    *भारत चीन से पीछे क्यों ?*
    *क्यों भारत चाइना की बराबरी नहीं कर सकता*
    *शुभम यादव सागर मध्यप्रदेश* (9399693255)
    एक दौर था 1970 से 1980 का जब चीन और भारत की अर्थव्यवस्था लगभग बराबर थी लेकिन ऐसा क्या हुआ कि चीन हमसे 5 गुना बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया आइए विस्तार से जानते है ।
    चाइना ने अपने देश मे ‘ओपन मार्केट पॉलिसी’ अपनाई । जिसमे पूरी दुनिया के लोगों से कहा आप किसी भी चीज़ को बनाते है जैसे मोबाइल , लेपटॉप या कोई भी अन्य वस्तु तो उस का उत्पादन वह अपने देश मे कम मूल्य में कराएगा । अमेरिका , भारत , UAE , आदि देशों में लेवर का वेतन बहुत महंगा होता है बात करे अमेरिका की तो अमेरिका में एक लेवर का एक दिन का खर्च लगभग 2000 रुपए आता है । वही अगर भारत की बात की जाए तो यहाँ किसी को अपने समय की कीमत नही पता । हमारे यहाँ अगर किसी लेवर को 8 बजे बुलाया जाये तो वह 9 बजे आयेगा ओर उसमे भी आधा घंटा गुटखा , खैनी में निकाल देता है । बड़ी बड़ी कंपनियों ने यही बात देखी की अमेरिका और अन्य देशों के मुकाबले चाइना में कम बजट में बहुत सुबिधाये है ।
    चाइना में प्रत्येक कर्मचारी को अपने काम की अधिक चिंता होती है । वे अपने काम को महत्व देते है , वही अगर भारत की बात की जाए तो यहाँ किसी को अपने समय की कीमत नही मालूम हमारे यहां बहुत से सरकारी नौकरी वालो ने इतना भृष्ट बनाकर रखा है कि कुछ मत पूंछो । और जब प्राईबेटेसन की बात होती है तब सरकारी कर्मचारी चिल्लाने लगते है आंदोलन प्रदर्शन आदि करने लगते है । अरे भैया तुम करते क्या हो , तुम्हे बस अच्छी सैलरी सभी सरकारी सुविधाये चाहिये औऱ उसके बाद भी किसी किसी का घूस के बिना पेट नही भरता औऱ यहाँ घूस ना दो तो काम अटक जाता है ।
    अगर उदाहरण देखना है तो आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में खाता खुलवाने जाइये आपको नानी याद आ जायेगी खाता खुलवाने में , औऱ वही किसी प्राइवेट बैंक जैसे HDFC में बस अपना आधार कार्ड ,एक फ़ोटो औऱ मोबाइल नम्बर दे दीजिए और तो और वे आपके घर पर आके खाता खोल देंगे । यह सभी चीजें चाइना ने कंट्रोल करके रखी है । चाइना में ECO सिस्टम है वहां किसी भी प्रकार की लेवर यूनियन नही होती । बगावत करने का कोई चांस नही वहां वर्कर समय से आएंगे और समय से अपना काम करके चले जायेंगे । हमारे यहां किसी गलत आदमी को हटा दिया तो लोग हड़ताल पर उतर आते है । चाइना कंपनियों को एक अलग से सड़क सुविधा देते है जिससे टाइम की अत्यधिक बचत होती है । हमारे यहाँ अगर सुधा दूध डेरी का ट्रक गांधी सेतु पुल पर ट्रैफिक की बजह से फस जाता है । जिससे उसका सारा दूध फट जाता है । तो कही ना कही पीछे होने के जिम्मेदार हम स्वयं है । चाइना ने अपना ECO सिस्टम इतना मजबूत कर लिया कि पूरी दुनिया की कंपनियां यहां आने को मजबूर हो गयी । इसी वजह से चाइना इंडस्ट्रीयल हब बन गया । औऱ एक कारण और चाइना में एक ही पार्टी है चुनाव का कोई झमेला नही होता वहां 10 साल में एक बार चुनाव होता है वही हमारे यहां एक बार चुनाव होगा प्रधानमंत्री का और हर साल अलग अलग राज्यो में मुख्यमंत्रीयो के चुनाव होते रहते है यहां के नेता 5 साल में से साढ़े पाँच साल इसी में निकाल देते है कि किस तरह से चुनाव जीता जाए । इसीलिए डेवलपमेंट का एक रास्ता औऱ कम होता है
    वरना चाइना के पास ज्यादा तर पहाड़ी क्षेत्र है यहां सिर्फ 30% जमीन ही है रहने के लिए । लेकिन इसके बाबजूद दुनिया मे सबसे ज्यादा चायपत्ती , चावल , कपास , अफीम इत्यादि चीज़ों का भरमार चाइना के पास है ।
    और हम लोग सिर्फ देख रहे है , हमारे यहाँ नेतृत्व की कमी भी कही ना कही पिछडे होने का कारण बना हुआ है । 🙏

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:46 pm
      Permalink

      जरूर जल्द

      Reply
  • June 6, 2021 at 5:36 pm
    Permalink

    We r supporting for yogi g not BJP. Or Modi amit sha yogi htaya to fir SP. M jaynge.

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:45 pm
      Permalink

      आपकी राय के लिए शुक्रिया..हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे नियमित पाठक बनेंगे..

      Reply
  • June 6, 2021 at 5:51 pm
    Permalink

    प्रज्ञा जी ये बताइये मोदी जी योगी जी को cm पद से हटा देते है तो क्या योगी जी bjp में ही रहेंगे या सन्यास ले लेंगे

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:44 pm
      Permalink

      ये आप बताईये

      Reply
  • June 6, 2021 at 6:09 pm
    Permalink

    वैसे तो इस गौरवशाली देश का मैंने 2000 साल पुराना इतिहास पढा है,भारत जैसे देश को कई बार लुटते हुए इस प्रकार पढा है मानो मैं देख रहा हूं, लेकिन मैं यकिन के साथ कह सकता हूं मुझे कभी इतना दुख नहीं होता जितना अपने देश कि मीडिया के इस बिकाऊ रूप को देखता हूं और इन रंजिशो में जब आप जैसे पत्रकार को पाता हूं यकिन मानिए ठीक उस प्रकार खुश होता है जैसे ये पढ़ रहा हूं जैसे मैं अपने देश के सोने कि चिड़िया होने के बारे में पढ़ रहा हूं नमन है आप जैसे सच्चे व इमानदार पत्रकार को
    🙏🙏🙏❤️❤️

    Reply
    • June 6, 2021 at 6:44 pm
      Permalink

      आपकी राय के लिए शुक्रिया..हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे नियमित पाठक बनेंगे..

      Reply
  • June 6, 2021 at 6:48 pm
    Permalink

    Ye BJP ki chal bhi to ho skti hai birthday wish nahi krna…aaap fass gai h usme…aur bhi sahanubhoooti batorna yogiji ke liye…..aapko kya lgta hai

    Reply
  • June 6, 2021 at 6:50 pm
    Permalink

    Ye BJP bahut purana aatin ka saanp hai, Ye sirf gujaratiyon ke paksha me hote hai, iska aisa ravaiya kai baar dekha hamne kai partiyo ke saanth aisi harkate kar chuke hai. Ye ek number ke Desh virodhi, Loktantr virodhi aur manav virodhi hai.

    Reply
    • June 9, 2021 at 4:42 pm
      Permalink

      योगी ,मोदी ,बीजेपी थे कि आज हिंदुस्तान में कोरोना वायरस संकट टल गया l नहीं तो क्या यह ठग बंधन वाले भगोड़े , लुटेरे संभाल पाएंगे, जिनका कोई अपना एक नेता भी नहीं है l अरे उन मूर्खों को मालूम होना चाहिए जब योगी जी यूपी से हटेंगे तो सीधा दिल्ली की गद्दी पर बैठेंगे l यह भी एक टूलकिट प्रयोग है❌ हर विभाग में लूट बंद हो जाने के कारण सभी चिल्ला रहे हैं ,आतंकवादी केवल बंदूक उठाने वाला नहीं, कलम से भी आतंकवाद हो रहा है, शिक्षा से ,डॉक्टरी से, हर पेशे से आतंकवाद चालू है l इसको समूल नष्ट करना मोदी जी का दृढ़ निश्चय है 😂
      जय सनातन धर्म 🚩🚩🚩
      जय जय श्री राम🚩🚩🚩

      Reply
      • June 9, 2021 at 6:06 pm
        Permalink

        आपकी विचारों के लिए धन्यवाद..आप हमारे नियमित पाठक बनें और अपने विचारों से हमें अवगत कराते रहें..

        Reply
  • June 6, 2021 at 6:56 pm
    Permalink

    जो लोग खान सर के नाम के पीछे पड़े हैं, उनके लिए…
    जाति, धर्म और नाम ना पुछिए शिक्षक की, पूछ लिजिए ज्ञान ।
    मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।
    … सज्जन की जाति धर्म न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार का मूल्य होता है न कि उसकी मयान का – उसे ढकने वाले खोल का।

    Reply
  • June 6, 2021 at 10:38 pm
    Permalink

    Hi Pragya

    I am a daily viewer of your website and your content on twitter and youtube.
    Here are my some questions.. Please raise in your upcoming video
    1) why no one is talking about a 18 year old girl gangrap in bihar news ??
    2) why no one is asking questions to gov. When some peoples are giving a openely hate speech against a community in haryana mahapanchayat.
    3) why guidlines are not following by haryana panchayat gethring people almost thousands of ?
    4) why no one is talking about jeeshan who is beaten by some people when he did no say jai shree ram ??
    4)

    Reply
  • June 7, 2021 at 2:35 am
    Permalink

    प्रज्ञा दीदी को राम राम दुआ सलाम
    दीदी आपसे एक विनती है की उत्तर प्रदेश में पैरामेडिकल विभाग के अंतर्गत आने वाली कार्डियोलॉजी टेक्नीशियन ,ईसीजी टीएमटी टेक्नीशियन की परमानेंट वेकेंसी विगत कई वर्षों से नही आई है जबकि केजीएमयू मे इस कोर्स की पढ़ाई निरंतर चल रही ,दीदी मध्य प्रदेश राजस्थान अरुणाचल प्रदेश में वहा के वासियों के लिए कार्डियोलॉजी टेक्नीशियन की कई बार परमानेंट वेकेंसी खुल चुकी है बस उत्तर प्रदेश में ही 5 साल से एक स्थाई पद नही खुला योगी राज में
    बस अगर कोरोना काल में ईसीजी टेक्नीशियन के एक दो पद खोले भी गए तो वो आउटसोर्सिंग के द्वारा खोले गए जो की ना संविदा है ना ही परमानेंट वेकेंसी
    आपका वीडियो मैं विगत कई वर्षों से देख रहा हु जब आप कटिंग चाय पर आती थी आज भी निरंतर आपके हर वीडियो को देखता हु क्युकी उसमे कड़वी सच्चाई होती है जो बिकाऊ मीडिया नही दिखाती

    दीदी आप एक बार इस पर अपने वीडियो के माध्यम से प्रकाश डालने की कोशिश करिए जिस से पैरामेडिकल विभाग की कार्डियोलॉजी ईसीजी टेक्नीशियन की वेकेंसी खुल सके
    धन्यवाद दीदी राम राम दुआ सलाम 🙏🙏

    Reply
    • June 9, 2021 at 4:36 pm
      Permalink

      योगी ,मोदी ,बीजेपी थे कि आज हिंदुस्तान में कोरोना वायरस संकट टल गया l नहीं तो क्या यह ठग बंधन वाले भगोड़े , लुटेरे संभाल पाएंगे, जिनका कोई अपना एक नेता भी नहीं है l अरे उन मूर्खों को मालूम होना चाहिए जब योगी जी यूपी से हटेंगे तो सीधा दिल्ली की गद्दी पर बैठेंगे l यह भी एक टूलकिट प्रयोग है❌
      जय सनातन धर्म 🚩🚩🚩
      जय जय श्री राम🚩🚩🚩

      Reply
      • June 9, 2021 at 6:07 pm
        Permalink

        आपकी विचारों के लिए धन्यवाद..आप हमारे नियमित पाठक बनें और अपने विचारों से हमें अवगत कराते रहें..

        Reply
  • June 7, 2021 at 9:22 am
    Permalink

    मैडम जी मै एक छात्र हूं|और मेरी श्रेणी सामान्य हैं| मै आर्थिक पिछड़े वर्ग के लिए पात्र हूॅं| लेकिन हमारे पटवारी सहाब मुझसे पैसों की माँग कर रहे थें|मैंने पैसे देने से मना कर दिया तो वो अब मेरा EWS Certificate bnane sa mna kar rha ha. Madam please kuch kejiya. Please madam please.

    Reply
    • June 7, 2021 at 9:29 am
      Permalink

      Madam mara Add. Vill Bhagwanpur raini post seohara thasil dhampur dist bijnor UP. HMARA Patwari ji ka name Satish Kumar Ha.
      Madam mana Thasildar Mahoday sa bhe baat ki Unhona bhe Nahi suna. Please madam kuch kijiye. Madam mara UPSI ka form fill karna ki last date 15 /06/2021 ha. Mujha usma lgana ha. Please madam kuch Kijiya.

      Reply
  • June 7, 2021 at 5:07 pm
    Permalink

    आपकी पत्रकारिता को पिछले 2 वर्षों से फॉलो कर रहे हैं, कटिंग चाय के समय से. अब आपकी पत्रकारिता में निखार आ गया है. जिस ईमानदारी, निर्भीकता और समर्पण से आप ने जो इस मकाम को हासिल किया है वो सब आपकी मेहनत के वजह से हो पाया. लोग झूठे, नफ़रत फैलाने वाले और पत्रकारिता को केवल अपनी कमाई का जरिया बनाने वाले पत्रकारों से तंग आ गये हैं. ऐसे में आप जैसे स्वतंत्र पत्रकारों की हमारे देश को सख्त जरूरत है. अपना ख्याल रखें.

    Reply
    • June 7, 2021 at 5:52 pm
      Permalink

      आपके विचारों के लिए बहुत बहुत धन्यावाद

      Reply
  • June 10, 2021 at 11:25 pm
    Permalink

    मैडम एक बात बताओ आप बीजेपी कि खिलाफ बहुत बोल रही है बढ़िया है।क्या आप राजस्थान मे टिके कि बर्बादी पर कुछ बोलेगी?क्या आप पंजाब मे टिके कि कालाबाजारी पर कुछ बोलेगी?महारास्ट्र के कोरोना केस पर कुछ बोलेगी जिसका बोझ देश एक साल से झेल रहा है।क्या रैली सिर्फ मोदी ने कि थी क्या बाकी कोई दल नहीं किये थे क्या रैली।

    Reply
    • June 11, 2021 at 3:28 pm
      Permalink

      सबके बारे में बोला है सर आपने समय निकालकर अपने महान विचारों से हमें अवगत कराया इसके लिए हम आपका आभार व्यक्त करते हैं..और हर तरह के विचारों का स्वागत करते हैं..

      Reply
  • June 11, 2021 at 1:00 pm
    Permalink

    Madam up me election aane wala hai aap se request hai 15 may 2020 wala ya uske baad ka video review type dikhaiega ki voting wale ko yaad rahe ye sab

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *