इस PPE किट पर बड़ी कचौंधन है, PPE किट क्या है ? जानें-

कोरोना वायरस से मुकाबले में काफी दिनों से पीपीई किट की बड़ी कचौंधन मची हुई है. और कुछ दिनों से तो PPE किट्स पर राजनीति भी होने लगी है. तो आइए जानते हैं कि क्या होती है पीपीई किट यानी पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट्.

what is ppe kits personal protective equipments to fight coronavirus
what is ppe kits personal protective equipments to fight coronavirus

तो जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि ऐसे सामान जिससे खुद को संक्रमण से बचाया जा सके. कोरोना वायरस संक्रामक बीमारी है इसलिए इससे बचने के लिए लोग मास्क पहन रहे हैं. बार-बार हाथ साफ कर रहे हैं. लोगों से दूरी बनाकर बात कर रहे हैं. आम लोग तो मास्क और दास्ताने का इस्तेमाल कर रहे हैं. जो भी बचने के लिए सही लग रहा है वो सारे प्रयास किये जा रहे हैं.

लेकिन कोरोना मरीजों के इलाज में लगे डॉक्टर, नर्स, कंपाउंडर और मेडिकल स्टाफ को सिर से पांव तक वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कई तरह की चीजें पहननी होती हैं. और ये सारी चीजें पीपीई किट्स हैं. अलग-अलग बीमारियों के लिए अलग तरह के पीपीई किट्स हो सकती हैं लेकिन आम तौर पर मास्क, ग्लोव्स, गाउन, एप्रन, फेस प्रोटेक्टर, फेस शील्ड, स्पेशल हेलमेट, रेस्पिरेटर्स, आई प्रोटेक्टर, गोगल्स, हेड कवर, शू कवर, रबर बूट्स इसमें गिने जाते हैं.

इनमें से बहुत कुछ पहने डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ हम-आप आए दिन देखते रहते हैं. इन सारी चीजों का मकसद एक ही है- मरीज से वायरस इलाज कर रहे व्यक्ति या डॉक्टर में ना फैल जाए.

लेकिन अब पीपीई किट को लेकर देश में राजनीति भी शुरू हो चुकी है. सोशल मीडिया पर सरकार से नाखुश लोग सवाल उठाने लगे हैं कि इस काम के बदले अगर सरकार पीपीई किट्स खरीद लेती तो ज्यादा अच्छा होता. कुछ लोग अब सरकार से जानना चाहते हैं कि देश में पीपीई किट्स के इंतजाम का क्या हाल है क्योंकि कई जगहों से डॉक्टरों ने पीपीई किट्स की कमी की शिकायत की है.

बतादें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कोरोना वायरस से बचाव के लिए बनाए 10 ग्रुप और 1 टास्क फोर्स के प्रमुखों के साथ बैठक में साफ-साफ कहा कि देश में पीपीई बनाने, पहुंचाने और उसे मेडिकल स्टाफ को मुहैया कराने में कोई कोताही नहीं होनी चाहिए.

पीपीई किट को इस्तेमाल करने के नियम और तौर-तरीके भी हैं. उनको कैसे पहनना है. कैसे एडजस्ट करना है. फिर इस्तेमाल करने के बाद पीपीई किट को सही तरह से कचरे में फेंकना जिससे आगे किसी को संक्रमण ना हो, इसका बहुत ज्यादा ध्यान रखना होता है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *