परिसीमन क्या है ? क्यों घबरा रहे कश्मीरी नेता ? क्या हैं इसके मायने ? जानें सब कुछ

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 ख़त्म किया जा चुका है और अब केंद्र सरकार वहां विधानसभा चुनाव करवाने की तैयारी कर रही है इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के 14 शीर्ष नेताओं के साथ बैठक की है. इस बैठक में निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन Delimitation या पुनर्निर्धारण पर जोर दिया गया. आखिर ये परिसीमन Delimitation है क्या ? इससे क्या होता है ?

what is delimitation for jammu and kashmir
what is delimitation for jammu and kashmir

परिसीमन Delimitation क्या होता है ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में परिसीमन Delimitation तेज़ गति से होना चाहिए ताकि चुनाव हो सकें. बैठक में ये तय हुआ है कि पहले परिसीमन होगा, फिर चुनाव होगा. जम्मू-कश्मीर में आख़िरी परिसीमन Delimitation साल 1995 में हुआ था. परिसीमन ऐसी प्रक्रिया है जिसकी मदद से लोकसभा और विधानसभा क्षेत्रों की सीमाओं को तय किया जाता है ताकि सभी नागरिकों को संसद और विधानसभा में उचित प्रतिनिधित्व प्रदान किया जा सके.

परिसीमन Delimitation में कौन काम करता है ?

परिसीमन Delimitation का काम एक उच्चाधिकार निकाय को सौंपा जाता है. ऐसे निकाय को परिसीमन Delimitation आयोग या सीमा आयोग के रूप में भी जाना जाता है. भारत में ऐसे परिसीमन आयोगों का गठन 4 बार किया गया है- पहला – 1952 में परिसीमन आयोग अधिनियम, 1952 के अधीन, दूसरा – 1963 में परिसीमन आयोग अधिनियम, 1962 के अधीन, तीसरा – 1973 में परिसीमन अधिनियम, 1972 और चौथा – 2002 में परिसीमन अधिनियम, 2002 के अधीन.

इतना ही नहीं परिसीमन आयोग के आदेशों को कानून के तहत जारी किया गया है और इन्हें किसी भी न्यायालयमें चुनौती नहीं दी जा सकती है. इसके आदेशों की प्रतियां संबंधित लोक सभा और राज्य विधानसभा के सदन के समक्ष रखी जाती हैं लेकिन उनमें उनके द्वारा कोई संशोधन करने की अनुमति नहीं होती है.

अलगाववादी नेताओं को कैसा डर ?

आसान भाषा में समझें तो परिसीमन Delimitation आयोग का काम ये है कि वो वहां के क्षेत्र की सीमा को नाप कर बाँट देगा की इतना क्षेत्र इस विधान सभा में आएगा और इतना क्षेत्र इस विधान सभा में आएगा. अब ऐसे में वहां के अलगाववादी विपक्षी नेताओं ये भी डर है की कहीं हमारा क्षेत्र दूसरे क्षेत्र में न चला जाए. दूसरा डर ये भी है कि जम्मू का क्षेत्र बढ़ने से वहां की सीटें भी बढ़ सकती है जो अलगाववादी विपक्षी नेताओं के लिए खतरा होगा, क्युकि जम्मू-कश्मीर विधानसभा में 83 सीटें हैं जिनमें 37 सीटें जम्मू क्षेत्र में और 46 सीटें कश्मीर क्षेत्र में आती हैं. इसके साथ ही 24 सीटें पाक अधिकृत कश्मीर के लिए भी आरक्षित हैं. जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने के लिए सिर्फ 44 सीटों की ज़रूरत पड़ती है.

हाँथ से सत्ता जाने का डर

यहां के राजनीतिक गुटों को ये आशंका है कि अगर जम्मू वालों को ज़्यादा सीटें दी गयीं तो विधानसभा में सरकार बनाने के लिए सिर्फ 44 सीटों की जरुरत है और दूसरी तरफ लद्दाख़ की सीटें भी घट गयी हैं. ऐसे में अगर नये परिसीमन Delimitation में जम्मू की सीटें 37 से बढ़कर 47 हो गईं और जम्मू से ही 44 सीटों पर चुनकर आ जाएं तो कश्मीर के राजनीतिक गुट अलग-थलग पड़ जाएंगे और कश्मीर पर जम्मू का दबदबा बनेगा.

बीजेपी का क्या है मकसद ?

दरअसल कश्मीर के बड़े नेता चाहते हैं की जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री कश्मीर से ही हो और आज़ादी से लेकर अभी तक ऐसा होता भी आया है. लेकिन 2008 में जब बीजेपी ने जम्मू कश्मीर में कदम रखा है तब से वहां की राजनीति में बड़ा बदलाव देखने को मिला है. इससे जम्मू में एक बड़ी राजनीतिक शक्ति का आरम्भ हुआ क्युकी जम्मू में हिंदू बाहुल्य आबादी है. बीजेपी उस आबादी को संतुष्ट रखना चाहती है. कोशिश है कि किसी तरह कोई संयोग बने और जम्मू-कश्मीर का मुख्यमंत्री एक हिंदू समुदाय से आने वाला व्यक्ति हो.

अब ये आगे देखने वाली बात होगी कि सरकार किन रास्तों पर चलकर राजनीतिक प्रक्रिया की शुरुआत सुनिश्चित करती है और परिसीमन Delimitation जम्मू से लेकर कश्मीर में एक नये विवाद की जड़ बनता है या सब शांति पूर्वक हो जायेगा.

ये भी पढ़ें –

Twitter क्यों किसी देश से नहीं डरता..मंत्री हो या राष्ट्रपति सबसे पंगा लिया

17 thoughts on “परिसीमन क्या है ? क्यों घबरा रहे कश्मीरी नेता ? क्या हैं इसके मायने ? जानें सब कुछ

  • June 26, 2021 at 4:53 pm
    Permalink

    प्रज्ञा जी मुझे लगता हैं की J&K में जो मुख्यमंत्री बने वो हिंदू हों न की मुस्लिम,क्योंकि वहा के ज्यादातर मुस्लिम पाकिस्तान के favour में हैं। ऐसे में J&K हमसे छिन सकता हैं।

    आप की क्या राय हैं ज़रूर बताइएगा

    Reply
    • July 3, 2021 at 11:14 am
      Permalink

      आपने अपने महत्वपूर्ण समय में से टाइम निकालकर अपने विचार रखे इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद..बेबसाइट के नोटिफिकेशन को जरूर अलाव कीजिए..जिससे नए आर्टिकल का संदेश आपको तुरंत मिल जाए..और जब आपको समय मिले तब पढ़ पाएं अपनी राय रख पाएं..

      Reply
    • July 3, 2021 at 11:14 am
      Permalink

      आपने अपने महत्वपूर्ण समय में से टाइम निकालकर अपने विचार रखे इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद..बेबसाइट के नोटिफिकेशन को जरूर अलाव कीजिए..जिससे नए आर्टिकल का संदेश आपको तुरंत मिल जाए..और जब आपको समय मिले तब पढ़ पाएं अपनी राय रख पाएं..

      Reply
  • July 3, 2021 at 11:58 am
    Permalink

    I’m very happy to discover this page. I need tto to thank you
    for ones time just for this fantastic read!
    I definitely really liked every little bit of it and I have you bookmarked to check outt new things in your blog.

    Reply
    • July 14, 2021 at 1:18 pm
      Permalink

      आपने अपना अमूल्य समय निकालकर विचार रखे इसके लिए आपका धन्यवाद..आप जब भी वेबसाइट खोलते हैं..तो एक नोटिफिकेशन आता है उसे अलाउ जरूर कीजिए इससे समय पर हमारे आर्टिकल के नोटिफिकेशन आपको मिल जाएंगे..

      Reply
  • July 5, 2021 at 11:14 am
    Permalink

    Very nice post. I just stumbled upon your blog and wanted to say that I’ve truly enjoyed surfing around your blog posts.
    In any case I will be subscribing to your feed andd I hope you write
    again very soon!

    Reply
  • July 10, 2021 at 4:47 pm
    Permalink

    Good choose, fast delivery time, average prices. All this words about this service. I am a customer of this service 1.5 years, like it

    Reply
  • July 14, 2021 at 7:44 pm
    Permalink

    With thanks for sharing your superb website!

    Reply
    • July 18, 2021 at 11:34 am
      Permalink

      आपने अपने महत्वपूर्ण समय में से समय निकालकर अपने विचार रखे इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद..आप हमारी वेबासाइट जब ओपन करते हैं तो एक नोटिफिकेशन आता है उसे allow जरूर कीजिए एसा करने से आपको एकदम मुफ्त में बिना किसी परेशानी के मेरे नए आर्टिकल की जानकारी मिलती रहेगी..

      Reply
  • July 14, 2021 at 11:58 pm
    Permalink

    What’s up, I wish forr to subscribe for thijs blog to take most recent updates, so wbere can i do it please help out.

    Reply
    • July 18, 2021 at 11:30 am
      Permalink

      आपने अपने महत्वपूर्ण समय में से समय निकालकर अपने विचार रखे इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद..आप हमारी वेबासाइट जब ओपन करते हैं तो एक नोटिफिकेशन आता है उसे allow जरूर कीजिए एसा करने से आपको एकदम मुफ्त में बिना किसी परेशानी के मेरे नए आर्टिकल की जानकारी मिलती रहेगी..

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *