कुरान की 26 आयतें क्यों बैन कराना चाहते हैं BJP समर्थक रिजवी..

कुरान Quran में लिखीं आयतें एक बार फिर सवालों के घेरे में आ गई हैं. शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने फिर से कुरान Quran का मसला उठाया है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कुरान में दर्ज 26 आयातों पर बैन लगाने की मांग की है.

आतंकवाद को बढ़ावा देती हैं कुरान की ये 26 आयतें: वसीम रिजवी
आतंकवाद को बढ़ावा देती हैं कुरान की ये 26 आयतें: वसीम रिजवी

आतंकवाद को बढ़ावा मिलता है

वसीम रिजवी ने पत्र में लिखा कि इन आयतों से आतंकवाद को बढ़ावा मिलता है. ये देश के लिए अच्छा नहीं है. इन 26 आयतों में अत्याचार, धार्मिक उन्माद फैलाने वाली बातों का जिक्र है. ये कथन अल्लाह के नहीं हो सकते, लिहाजा इसे मदरसों में पढ़ाए जाने पर प्रतिबंध लगाया जाए. वसीम रिजवी ने ये आयतें हटवा कर नया कुरान लिखवाया है. रिजवी ने अपने लिखे गए नए कुरान को मदरसों में पढ़ाने की इजाजत मांगी है.

इंसानों की भलाई के लिए खतरा

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि मुसलमानों के आखिरी रसूल मोहम्मद के बाद कुरान ए मजीद को आखिरी बार इस्लाम के तीसरे खलीफा उस्मान ने तैयार कराया था जिसे अब तक अल्लाह की किताब मानकर पढ़ा जाता है. लेकिन मेरे द्वारा कुरान का अध्ययन किया गया जिस में पाया गया कि कुरान ए मजीद में 26 आयत ऐसी हैं जो आतंकवाद, चरमपंथी और कट्टरपंथी मानसिकता को बढ़ावा देने वाली हैं. ये आपसी भाईचारा, इंसानों की भलाई के लिए खतरा है.

wasim rizvi letter pm modi saying quran promote terrorism
wasim rizvi letter pm modi saying quran promote terrorism

सुप्रीम कोर्ट में लगा चुके हैं याचिका

रिजवी ने आगे लिखा कि इन कुरान की आयतों के कारण मुस्लिम समाज में आतंकी विचारधारा पैदा हो रही है. पूरे विश्व में मुस्लिम आतंकवाद चरम सीमा पर है. बतादें कि कि कुरान से 26 आयतों को हटाने की मांग को लेकर वसीम रिजवी सुप्रीम कोर्ट भी गए थे. सुप्रीम कोर्ट ने रिजवी की याचिका खारिज करते हुए उनपर 50 हज़ार का जुर्माना भी लगाया था. लेकिन अब रिजवी ने पीएम को पत्र लिखकर मदरसों में पुराना कुरान पढ़ाए जाने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है.

कौन हैं वसीम रिजवी

शिया परिवार में जन्मे वसीम के पिता रेलवे के कर्मचारी थे. वसीम की कम उम्र में ही उनके वालिद का इंतकाल हो गया. इसके बाद रिजवी उच्च शिक्षा पाए बगैर कम उम्र में ही काम करने लगे. वे उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं और इस नाते उनका सक्रिय राजनीति में भी काफी दखल रहा है. 29 मार्च 2019 को रिलीज हुई फिल्म राम की जन्मभूमि की पटकथा भी रिजवी ने भी लिखी थी. हालांकि फिल्म कोई खास प्रदर्शन नहीं कर सकी लेकिन रिजवी जरूर चर्चा में आ गए थे.

सवाल – वसीम रिजवी कौन हैं ? Who is Wasim Rizvi?
उत्तर – वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष हैं. Wasim Rizvi is the former Chairman of Shia Waqf Board.
सवाल – वसीम रिजवी कुरान के बारे में क्या बोले ? What did Wasim Rizvi say about the Quran?
उत्तर – वसीम रिजवी ने कहा कुरान की 26 आयतों से कट्टरता और आतंकवाद को बढ़ावा मिलता है. Waseem Rizvi said that the 26 verses of the Quran encourage bigotry and terrorism.
सवाल – वसीम रिजवी ने कौन सी फिल्म लिखी है ? Which film has Wasim Rizvi written?
उत्तर – वसीम रिजवी ने फिल्म राम की जन्मभूमि की पटकथा लिखी है. Wasim Rizvi has written the screenplay of the film Ram’s birthplace.

ये भी पढ़ें-

क्या BJP लक्षद्वीप को बर्बाद करना चाहती है ? पढ़िए पूरी रिसर्च रिपोर्ट-

58 thoughts on “कुरान की 26 आयतें क्यों बैन कराना चाहते हैं BJP समर्थक रिजवी..

  • May 30, 2021 at 1:53 pm
    Permalink

    mam ye admi mje muslim nai lagta…. mam m b shia hn but jo Allah ki ayt ka inkaar kary wo muslim nai ho skta….. islam aman ka deen hai islam se pehly larkio ko zinda dafan kya jata tha ….jb islam aya tu Allah ny sb buraion ko khatam krny ka hokam dya
    females ki respect krna islam ny sekaya

    Reply
    • May 30, 2021 at 3:59 pm
      Permalink

      आपकी बेशकीमती राय के लिए शुक्रिया..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..

      Reply
      • May 30, 2021 at 11:27 pm
        Permalink

        Mam waseem rizwi na to hindu hai na to muslim hai o janwer hai jo apne deen ko nahi pahchan saka o desh ki hit me kya bat karega mam hame apne yakeen aur prip ke sath kah sakta hun ki waseem bhadw atankwadi hai

        Reply
        • May 31, 2021 at 3:55 pm
          Permalink

          आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

          Reply
      • May 31, 2021 at 9:48 pm
        Permalink

        मैडम प्रज्ञा मिश्रा जी ! सबसे पहले मैं आपको यह बता दूं कि मैं आपकी बेबाक पत्रकारिता का बहुत बड़ा प्रशंसक हूँ, मैं यूट्यूब पर भी आपका चैनल देखता रहा हूँ, जिस ईमानदारी और ज़िम्मेदारी से और बेख़ौफ़ होकर आप पत्रकारिता करती हैं, वह वाक़ई सराहनीय है, मैं यद्यपि कि आप से उम्र में बहुत बड़ा हूँ लेकिन आपको सलाम करता हूँ।
        अब में थोड़ा उस विषय पर कुछ लिखना चाहता हूँ जिस से यह लेख संबंधित है वह भी इसलिए कि आप जैसे ईमानदार पत्रकार को सही बात मालूम रहनी चाहिए। क़ुरआन पर जो ग़लत आक्षेप वसीम रिज़वी ने लगाए हैं, ये कोई नए नहीं है, कुछ सांप्रदायिक हिन्दू संगठनों द्वारा इस तरह के आक्षेप बहुत पहले से लगाए जाते रहे हैं, मुझे याद है 1980 की दहाई में भी इस तरह की साजिश रची गई थी लेकिन कामयाब नहीं हो सकी क्योंकि इन आक्षेपों में कोई दम नहीं है, क़ुरआन की आयतों को पृष्टभूमि और संदर्भ से काटकर इस तरह की भ्रामकता फैलाई जाती है ताकि दोनों समुदायों के बीच नफ़रत और दूरी पैदा की जाए और उसका राजनीतिक लाभ उठाया जासके। अब वसीम रिज़वी उसका नया मोहरा हैं। इस व्यक्ति को क़ुरआन का बुनियादी ज्ञान भी नहीं है, यह केवल पद की लालच या अपने कुकर्मों की सज़ा से बचने के लिए इस तरह की हरकत कर रहा है जिसमें वह कभी कामयाब नहीं हो सकता क्योंकि क़ुरआन ईश्वरीय वाणी है और इसकी शिक्षा सार्वभौमिक एवं सार्वलौकिक है। क़ुरआन साफ़ साफ़ यह बात कहता है: “जिन लोगों ने तुम से दीन (धर्म) के बारे में जंग (लड़ाई) नहीं की और न तुम को तुम्हारे घरों से निकाला, उनके साथ भलाई और इंसाफ़ का सुलूक करने से खुदा तुम को मना नहीं करता। खुदा तो इंसाफ़ करने वालों को दोस्त रखता है।” (क़ुरआन, सूरह अल-मुम्तहिन, अध्याय 60, आयत संख्या 08)। क़ुरआन कभी यह नहीं कहता कि सारे ग़ैर मुस्लिमों से लड़ते फिरो। यह व्यक्ति लोगों को भ्रमित करके अपनी सियासी रोटी सेक रहा है जिसमें वह कभी भी कामयाब नहीं होगा। टिप्पणियों में बहुत कुछ नहीं लिखा जासकता, मैं आपके लिए और पाठकों के लिए एक पुस्तक का लिंक नीचे दे रहा हूँ जो कि हिंदी में है, उसमें इस प्रकार की भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास किया गया है। मैं चाहूंगा कि आप समय निकाल कर इसे ज़रूर पढ़ें ताकि वस्तुस्थिति की जानकारी आपके पास रहे। धन्यवाद ! लिंक:
        https://d1.islamhouse.com/data/hi/ih_books/single/hi_objections_regarding_Quran.pdf

        Reply
        • June 2, 2021 at 1:05 am
          Permalink

          Pragya mam I respect you and I Love ur work, but ye jo Quraan paak k bare me is Wasim rizvi ne bola hai ye sarasar bogas baatein hai in par dhyan nahi dena chahiye kyonki is bevkoof ko Quran paak ka zara sa bhi Ilm hota to aisi baat nahi karta ye sala BJP ka gulam hai iska koi ilaj nahi hai iske jaise hazaro kutte bhokte rehte hai un pr dhyan nahi dena chahiye aap bhi is pagal ko ahmiyat naa dijiye or aapki bebaak or nidar journalism ko mera dil se salam…. Thanks.

          Reply
    • May 30, 2021 at 10:17 pm
      Permalink

      असल में bjp ने इसके चूतड़ों में सूई घुसेड़ रख्खी हैं अब वो दर्द तो करेगी ही इसी लिए ये अपना दर्द कम करने के लिए दिमाग़ को इधर उधर घुमा रहा ताके दर्द कम हो गए

      Reply
    • May 30, 2021 at 11:36 pm
      Permalink

      ये एक नबर् का स्वर्थी इंसान है! ये खुद के बुरे कर्मो और सज़ा से बचने के लिये इस्लाम का सहारा ले रहा है इसको पता है इस समय इसी तरह बचा जा सकता हैं अपने वक़्फ़ बोर्ड के घोटालो से बचने के लिए किसी हद तक गिर सकता है!

      Reply
      • May 31, 2021 at 3:55 pm
        Permalink

        आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

        Reply
      • June 1, 2021 at 7:25 am
        Permalink

        Bilkul sahi bola bhai ghotale ka chitthha na khul jaye isliye ye sab karne pe agaya hai nich insan.. Iske kiye gaye ghotale ki CBI jaanch ho

        Reply
    • May 31, 2021 at 1:43 am
      Permalink

      Pragya ji mera naam Muhammad Mustafa hai aur mein yeh kahna chahta hu ke is admi jiska naam waseem rizwi hai usne poora Qur’an dhang se nahi padha jis tarah woh log aitaraj uthate hain Qur’an ki ayaton par jinhe kuchh gyan nahi Qur’an ki ayaton ka usi tarah isne bhi aetaraz uthaya hai.
      Yeh jo adharmi logon ko marne ki ho rahi hai Qur’an mein woh un logon ke bare mein kaha gaya hai jinhone shanti sandhi todi thi jo ke EESHdoot Muhammad aur un adharmi logon ke beech hui thi.
      Aur ek ALLAH ka kanoon dekhenge Qur’an mein ke ‘ ALLAH jab koi apna doot bhejte hain kisi samudaaye ya kisi desh mein to jo log EESHdoot ki baat maan lete hain unko EESHWAR bacha lete hain aur jo log EESHdoot ki baat nahi mante aur unhe EESHdoot manne se inkar kar dete hain unhe eesh yatna jhelni padti hai jismein ve mar jate hain.
      aur jab EESHWAR ne apne doot Muhammad ko bheja to woh saza unko EESHWAR ne apne doot Muhammad aur unke sathoyon dwara dilayi un adharmiyon ko qatl karke.
      Ab aap hi bataiye agar koi admi pagal ho aur woh yeh kahe ke nahi woh aaj ke logon ke liye kahi gayi hai to pagal ka ilaj mere paas nahi hai.
      Pragya ji tum khud Qur’an padh kar dekho lekin poora Qur’an padhna, aur aap bhi jaan jaogi ke yeh waseem rizwi kotna jhootha hai.
      Please aap bhi iske khilaf video banaiye.
      Kyun ke yeh insaan sansaarik moh ke chalte aisa kar raha hai shayad.

      Reply
      • May 31, 2021 at 3:50 pm
        Permalink

        आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

        Reply
    • June 4, 2021 at 1:39 pm
      Permalink

      गलत है जो गलत है फिर वो आपके धर्म से जुडा ही क्यों ना हो अगर हिंदू धर्म की सती प्रथा गलत ओर गरकनुनी हो सकती है तो लव जिहाद और तीन तलाक क्यों नहीं

      Reply
  • May 30, 2021 at 4:38 pm
    Permalink

    This man is a disgrace to all the muslims around the world.
    He can be ANYTHING except a MUSLIM.

    Irrespective of our Shia-Sunni sects – we are brothers from the same Ummat!!!
    I respect everyone and follow whatever that is there is in Quran as it is the book of Allah!!

    Anyone questioning the authenticity of the Quran can not be a Muslim.
    This is the ground rule for Shahadat!

    Muslims have no doubt that Qur’an is exactly the same today as it was more than 1400 years ago when it was first revealed to Prophet Muhammad. The authenticity of Qur’an is established in several ways. The most important way we can be sure that the Quran is authentic is the fact that when God revealed the Qur’an, He promised to preserve it.

    The words of Qur’an have remained unchanged. Over the centuries Muslims and non Muslims alike have examined copies of Quran more than 1000 years old. They found that they are all identical, apart from the introduction of vowel marks in the 7th century CE.

    Muslims around the globe bear witness that it is the divinely revealed words of God. Words from the Most Merciful to His slaves. From the moment it was revealed to Prophet Muhammad it has been protected and preserved by God Himself.

    Reply
    • May 31, 2021 at 12:34 am
      Permalink

      Ye shakhs musalman he hi nahin.quran ki kisi bhi ayat ka munkir Islam se nikal jata hai allah ne quran me farma diya “humne quran nazil kiya or hum hi iske muhafiz hain”ya Allah aise napak logo se teri zameen pak farma aur inki shar se Islam aur musalmano ki hifazat farma.

      Reply
      • May 31, 2021 at 3:55 pm
        Permalink

        आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

        Reply
  • May 30, 2021 at 6:18 pm
    Permalink

    Hello
    Hmary up ke police ko batao ki m parivahan app ke documents legal hai bahut marty hai up ke police aap kerala ke police se compare karo aaor batao kaon police acchi hai aoor 1 video banao aap m parivahan ke upar taki hary up ki police ko pata chaly ham salon raebareli ke hai aaor hamny mar khai hai

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:05 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 6:32 pm
    Permalink

    Actually mam …..one has to read the Quran with meaning, tafseer commentaries time of revelations as whole in general and so called 26 ayats as told in particular….. you will find very good principles of laws rules……

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:04 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 6:59 pm
    Permalink

    रिज़्वी से पहले बहोत सारे इस्लाम के दुशमन आये और इस दुनिया से फनाह हो गये लेकिन इस्लाम और कुरान वैसा ही है जैसे पहले था कुरान एक आसमानी किताब है ता कयामत तक ऐसी ही सूरत मे रहेगी इसे बदलने की या इसमे करेक्शन करने की ताकत अल्लाह के सिवा किसी के पास नही है,ऐसे रिज़्वी जैसे लोगों के मुंह पे थूकता हूं मैं, प्रज्ञा जी मैं आप को धन्यवाद करता हूं जो आप सच के साथ पत्र करिता करती हैं,

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:04 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 7:09 pm
    Permalink

    Assalamu alykum.
    Muge isko muslim kehne bhi galat lgta hn
    Ye shiatan ki baccha hm
    Jisko iski family aur relatives sub ke laat mardi hm
    Aur muslim samaj ne isko boycott ker dia hm
    App jub ye marega to modi isko agni denfe kynki ye unko apna jhuda mnata hm
    Beshak bhot jald iska anjam firon ko tarha higa
    Inshallaha..

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:04 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
    • June 4, 2021 at 1:40 pm
      Permalink

      गलत है जो गलत है फिर वो आपके धर्म से जुडा ही क्यों ना हो अगर हिंदू धर्म की सती प्रथा गलत ओर गरकनुनी हो सकती है तो लव जिहाद और तीन तलाक क्यों नहीं

      Reply
      • June 5, 2021 at 6:20 pm
        Permalink

        आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बने..हमारे आर्टिकल पढ़ें और शेयर करें.

        Reply
  • May 30, 2021 at 7:10 pm
    Permalink

    प्रज्ञा जी आपको हिंदी पत्रकारिता दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं
    आप जैसे पत्रकार की इंडिया को बहुत जरूरत है..

    Reply
  • May 30, 2021 at 7:42 pm
    Permalink

    Mam bharat mai kitne hi mosalman
    Hai sab koran padte hai
    Koran aman insaniyat ke alamat
    Sikhata hai kiya apne sona ke
    Bharat ka mosalma kisi se pakaspat
    Girna rakhta hai
    Bjp walo ne hinduo mosalman kar
    Rakha hai
    Insaniyat or ham logo ka bhai chara
    Ye log khatam kar ke hi rahenge

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:02 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 8:06 pm
    Permalink

    This man is true , i have also read the quran it is very dengarous book mam please read it once it is also available in hindi .

    very dengarous book for world

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:02 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 8:44 pm
    Permalink

    लोग ये क्यों नही पूछते है कि क़ुरआन की वो 26 आयात कोनसी है ?

    Reply
    • May 31, 2021 at 4:01 pm
      Permalink

      साजिद जी आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 10:08 pm
    Permalink

    Ma’am ye inshan sirf apni ko papular karna chahata h isliye ye ye sb dhong rach raha h

    Reply
    • May 31, 2021 at 3:56 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 10:56 pm
    Permalink

    Ye sab najayaj aulad hain inko khud nhi pta inka baap kon hain ye kya Kuraan Majid ke baare me batayenge harami ke bache kya isse pahle kisi ne Kuraan Majid nhi padha tha yhi jyada gyani ho gya hain ise to pig 🐷🐷 khna bhi sarm ki baat hain ye to uske layak bhi nhi hain

    Reply
    • May 31, 2021 at 3:56 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 30, 2021 at 11:39 pm
    Permalink

    Ye wasim rizvi ki kya aukaat hai jo hmare Qur’an ko badal sakega jaahil insaan laanat ho is suwar pe

    Reply
    • May 31, 2021 at 3:55 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 31, 2021 at 12:22 am
    Permalink

    कुरान एक धार्मिक ग्रंथ है और कोई भी धर्म मानवता के विपरीत शिक्षा नहीं देता है ।जहां तक कुरान कि 26 आयतों का प्रश्न है तो वह किन परिस्थिति में में कहीं गई है उसके लिए हमें उस काल खंड की प्रास्थिति को समझना होगा।
    वसीम रिज़वी कोई इस्लामी विद्वान नहीं है वो मानसिक रूप से मंद बुद्धि वाला व्यक्ति है।

    Reply
    • May 31, 2021 at 3:55 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 31, 2021 at 1:23 am
    Permalink

    Mam agar is insaan se ye poocha liya jay ki ye kuran ko padna bhi janta to ye nahi bol payega kiuki jo kuran jo insaan padh lega aur uska( tarjama) (yani usko hamari bhasha me samaj jayega ) vo aysi harkat nahi karege ye insaan musalmaan nahi ho sakta

    Reply
    • May 31, 2021 at 3:55 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 31, 2021 at 10:35 am
    Permalink

    islaam ke dushmano ka mohra agent he waseem rizvi dalla

    Reply
  • May 31, 2021 at 4:40 pm
    Permalink

    Mera naam saif malik from lucknow

    Didi ye jo waseem rizvi he ye rss or bjp ka naukr he jo islam ko badnaam krna chahta he baat rahi quran ki to allah ne khud bheji he jisko ham asmaan se utaari gyi quran he or isme jitni baat likhi he mohabbat or khusi ka paigaam deti he jo har inshaan se mohabbat karo or kisi ko takleef na do choti choti cheez se lekar badi badi cheezo pe sahi galat ka rasta dikhata he quran

    Reply
    • May 31, 2021 at 5:05 pm
      Permalink

      आपने अपने विचार रखने के लिए समय निकाला..हम चाहते हैं आप हमेशा आप हमारे पाठक और दर्शक परिवार का हिस्सा रहें..आपकी राय के लिए बहुत बहुत शुक्रिया..

      Reply
  • May 31, 2021 at 8:31 pm
    Permalink

    आज एक और इंसान बिक गया है।
    वसीम रिजवी जी शायद कुरान को समझ ही नही पाए है
    पहले वे इसे पढ़े समझें उसके बाद फालतू के काम करें।

    Reply
  • May 31, 2021 at 11:24 pm
    Permalink

    गलती वसीम रिजवी की नहीं है गलती हम मुसलमानों की है जो ऐसे लोगों को धर्म का ठेकेदार बना कर बैठा रखा है।
    ऐसे जाहील लोग राजनीति चमकाने के लिए धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाते हैं इन्हें तो यह भी समझ में नहीं आ रहा होगा कि इससे सिया और सुन्नी के लोगों के बीच में एक बहुत बड़ी खाई पैदा होगी।
    अगर वसीम रिजवी में जरा सी भी हिम्मत है और वह सचमुच में एक मुसलमान का बच्चा है तो जीन आयतों को यह मिटाना चाहते हैं मेरी गुजारिश है कि पूरे पब्लिक डोमेन मे और पुरी दुनिया मे इन आयतों को पढ़कर समझाएं और इस पर एक debate हो।
    कम से कम पूरी दुनिया को कुरान की कुछ आयते मालूम तो हो जाए।

    Reply
  • June 1, 2021 at 7:32 am
    Permalink

    Wasim rizwi pahli baat ki ye kutta napak ghatiya insaan musalmaan nahi hai.. Dusra ye shiya waqf board men kiye gaye ghotalon se bachne k liye ye sab kar raha hai taaki iske ghotale ki pol na khule.. Meri modi ji se vinamar nivedan hai k iske ghotale ki jaanch CBI se karwayen our jail bhejne is beimaan ko.. Our baat rahi quran ki 26ayet ki to Allah ka farmaan hai quran ki ek ayet bhi koi nahi badal sakta taqayamat tak

    Reply
    • June 1, 2021 at 2:11 pm
      Permalink

      आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बने..हमारे आर्टिकल पढ़ें और शेयर करें.

      Reply
  • June 1, 2021 at 2:47 pm
    Permalink

    Hello didi i am from delhi.
    Didi i am really disstresed due to lockdown and i am really feard of getting covid please guide how could i get out of my fear of covid. I daily watch your videos and you give a really great content.

    Reply
    • June 1, 2021 at 2:59 pm
      Permalink

      dar ke age jeet hai,आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बने..हमारे आर्टिकल पढ़ें और शेयर करें.

      Reply
  • June 1, 2021 at 5:47 pm
    Permalink

    Ye haraam khor sirf is baat ka faida utha rha hai aur sauda kar raha hai ki ye ek shiya muslim parivaar mein janma hai is ke ilawa is mein shiya muslim wali koi baat nhi hai ye bika hua insaan hai is ne apne deen imaan ka sauda kar liya hai
    Aur mujhe yaqeen hai ye islaam ya musalmaan ka to kuch nhi bigaad sakega par iska anjaam bahut bura hoga

    Reply
  • June 2, 2021 at 8:06 am
    Permalink

    Hai qaule Muhammad qaule khuda farman na badla jayega badlega Jamana lakh magar Qur’an na badla jayega … Waseem Rizvi Ka beda gadak ho jayega magar Qur’an Ka ek nukhta bhi na badla jayega kyuki uski jimmedari Allah Pak ne khud le Rakhi hai (mitte hai MIT Gaye MIT jayenge .na Mita hai na Mitega Qur’an ek nukhta tera )

    Reply
    • June 5, 2021 at 6:47 pm
      Permalink

      आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बने..हमारे आर्टिकल पढ़ें और शेयर करें.

      Reply
  • June 6, 2021 at 12:46 pm
    Permalink

    कुरान एक इस्लामिक किताब है इसमें कुछ बदलाव नही किए जा सकते।।।
    कुरान में लिखी कोई भी आयत ऐसी नही है जो अतंगबाद को बड़ाबा दे हर बात के दो पहलू होते है गलत लोग गलत मतलब निकालते है सही लोग सही मतलब निकालते है।।।।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *