मदरसा सर्वे पर घिर गई बीजेपी..

अखिलेश मायावती जयंत

दोस्तों उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार मदरसों का सर्वे (Madarsa Sarvey) करवा रही है..और इस सर्वे के जरिए मदरसा संचालकों से फंडिंग से लेकर 11 बिंदुओं पर जानकारी ली जा रही है..मदरसा सर्वे टीम ने लखनऊ के नदवा कॅालेज जाकर वहां का सर्वे किया..

सरकार की तरफ से जो सर्वे (Madarsa Sarvey) करवाया जा रहा है इसको लेकर समाजवादी पार्टी, बसपा, आरएलडी के साथ कई पार्टियों ने मदरसे के सर्वे पर एतराज जताया..लेकिन सरकार की तरफ से ये बताया गया है कि ये सर्वे इसलिए कराया जा रहा है..जिससे ये पता चल सके कि मदरसों में पढ़ने वालों के सभी सुविधाएं मिल रही हैं या नहीं..

सर्वे पर एतराज जताते हुए अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए कहा कि-किसी भी सम्मानित धार्मिक-मज़हबी स्थान का सर्वे करवाना यदि न्यायपूर्ण नहीं है तो ये आस्थाओं को गहरी चोट पहुँचाता है।

इंसाफ़ सबसे बड़ा धर्म होता है..

मायावती ने भी इस पर नाराजगी जताते हुए ट्वीट करते हुए कहा कि-मुस्लिम समाज के शोषित, उपेक्षित व दंगा-पीड़ित होने आदि की शिकायत कांग्रेस के ज़माने में आम रही है, फिर भी बीजेपी (Madarsa Sarvey) द्वारा ’तुष्टीकरण’ के नाम पर संकीर्ण राजनीति करके सत्ता में आ जाने के बाद अब इनके दमन व अतंकित करने का खेल अनवरत जारी है, जो अति-दुःखद व निन्दनीय..

मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि- इसी क्रम में अब यूपी में मदरसों (Madarsa Sarvey) पर भाजपा सरकार की टेढ़ी नजर है। मदरसा सर्वे के नाम पर कौम के चन्दे पर चलने वाले निजी मदरसों में भी हस्तक्षेप का प्रयास अनुचित जबकि सरकारी अनुदान से चलने वाले मदरसों व सरकारी स्कूलों की बदतर हालत को सुधारने पर सरकार को ध्यान केन्द्रित करना चाहिए..

आरएलडी पार्टी के त्रिलोक त्यागी ने भी बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि..भाजपा सरकार (Madarsa Sarvey) पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगाया था..इसके साथ ही मांग की कि आरएसएस द्वारा संचालित शिशु मंदिर स्कूलों का भी सर्वेक्षण होना चाहिए..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *