छात्र सूबेदार यादव ने किया ऐसा काम मेजर जनरल ने बुलाकर किया सलाम..

मेजर जनरल जय एस बैंसला के हाथों सम्मानित होते इस युवा का नाम है..सूबेदार यादव..सूबेदार यादव एनसीसी के कैडेट हैं..सूबेदार यादव को ये सम्मान देश के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए मिला है..सूबेदार यादव के भीतर देशप्रेम का जज्बा ऐसा है कि पूरी जिंदगी की एक एक पाई वीर अब्दुल हमीद के लिए छत (Subedar Yadav Built a roof for Abdul Hameed) बनवाने में लगा दी..एन सीसी के छात्र सूबेदार यादव ने जेबखर्च जोड़जोड़कर वीर अब्दुल हमीद के सिर पर छत डलवाई..वीर अब्दुल हमीद का शहीद स्मारक गाजीपुर में है..

सूबेदार यादव का घर बनारस में है..एक दिन सूबेदार यादव अब्दुल हमीद शहीद स्मारक घूमने आए..अब्दुल हमीद पार्क की दुर्दशा देखकर दुखी हो गए..लखनऊ से पत्रकार प्रज्ञा मिश्रा को बुलाकर अब्दुल हमीद जी के पार्क (Subedar Yadav Built a roof for Abdul Hameed) की दुर्दशा दिखाई..आवाज उठाई..पैसे जोड़े..और अब्दुल हमीद की मूर्ति के ऊपर छत बनवाई..ये देखिए ये पिछले साल दिसंबर का वीडियो है..जब सूबेदार यादव शहीद अब्दुल हमीद की मूर्ति को देखकर भावुक हो गए थे..

पत्रकार प्रज्ञा मिश्रा ने छत के साथ वीर अब्दुल हमीद की वो बर्बाद हो चुकी वो जीप भी दिखाई थी..जिससे अब्दुल हमीद ने अकेले पाकिस्तान के कई टैंक उड़ा दिए थे..उस वीडियो का एक हिस्सा ये है ये भी देखिए..

ये दो तस्वीरें देखिए..पहले अब्दुल हमीद की प्रतिमा के ऊपर टीन पड़ी हुई थी..अब दूसरी तस्वीर देखिए टीन की जगह छत ने ले ली है…आज के समय पर जब इंसान को अपने स्वार्थ के आगे कुछ दिखाई (Subedar Yadav Built a roof for Abdul Hameed) नहीं देता..तब बनारस के छात्र ने गाजीपुर जाकर अपने पैसे लगाकर..घर बार छोड़कर..खुले मैदान में सोकर..मेहनत करके..श्रम दान करवाकर..अब्दुल हमीद के लिए छत बनवाई..

सेना के लिए ऐसा सम्मान..देश के लिए ऐसी निष्ठा..शहीदों के लिए ऐसा प्रेम..किसी को भी सूबेदार यादव को सैल्यूट करने को मजबूर कर देगा..और इसीलिए मेजर जनरल जय एस बैंसला ने अपने हाथों से सूबेदार यादव (Subedar Yadav Built a roof for Abdul Hameed) को सम्मानित किया..सूबेदार यादव देश की सेवा करना चाहते हैं..लेकिन 4 साल से आर्मी की भर्ती नहीं निकली..जिसके कारण वो ओवर एज हो चुके हैं..लेकिन ये जानते हुए कि आर्मी में शायद नौकरी नहीं मिलेगी..लेकिन देश प्रेम की भावना देखकर लोग सूबेदार यादव को लोग सनकी कहने लगे हैं..

सूबेदार यादव पूर्वांचल में लोगों के लिए प्रेरणा बन रहे हैं..ऐसे बच्चों से बड़ों को सीखने की जरूरत है..आज के स्वार्थी समाज में जहां लोग हर काम के लिए सरकार का मुंह देखते हैं…वहां सूबेदार यादव ने अपनी मेहनत और लगन के दम पर अपने आईडियल वीर अब्दुल हमीद के सिर पर छत बनवाई..सरकार को भी ऐसे छात्रों को सम्मानित करना चाहिए..

सूबेदार यादव ने पूर्वांचल का सबसे बड़ा कुश्ती का अखाड़ा खोला था..सूबेदार यादव का सपना था कि सेना में जाने की तैयारी इसी अखाड़े में होगी लेकिन गांव वालों ने अपने अपने स्वार्थ के चक्कर (Subedar Yadav Built a roof for Abdul Hameed) में बच्चों के भविष्य पर कब्जा कर लिया..दोस्तों एक संघर्षशील..देश प्रेमी..छात्र सूबेदार यादव की कहानी आपको कैसी लगी..कमेंट करके जरूर बताईये और सूबेदार जैसे छात्रों को समाज में आगे जरूर बढाईए..धन्यवाद..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *