बड़ा फैसला: अब CM और मंत्रियों को खुद भरना होगा अपना आयकर, जानें- कितना मिलता है वेतन

उत्तर प्रदेश सरकार ने आयकर भरने को लेकर शुक्रवार शाम एक बड़ा फैसला ले लिया है. इस फैसले के बाद अब राज्य के मुख्यमंत्री और मंत्री अपना आयकर खुद भरेंगे. सरकार का इससे कोई मतलब नहीं होगा.

uttar pradesh government will not pay income tax
uttar pradesh government will not pay income tax

क्या आपको पता भी है कि मुख्यमंत्री समेत उनके पूरे मंत्रिमंडल को मंत्री के तौर पर दिए जाने वाले वेतन-भत्ते पर आयकर राज्य सरकार 38 वर्षों से साल-दर-साल अपने खजाने से भर्ती आ रही है. मगर अब योगी सरकार ने लगभग चार दशकों से जारी इस व्यवस्था को खत्म करने का फैसला कर लिया है. वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्णय किया है कि सरकार द्वारा आयकर अदा करने संबंधी व्यवस्था को खत्म किया जाएगा. जिसके बाद मुख्यमंत्री और मंत्रियों को अपने वेतन-भत्ते पर लागू आयकर खुद भरना होगा.

1981 में इस व्यवस्था को तत्कालीन मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने लागू किया था. उन्होंने इसकी वकालत करते हुए कहा था कि सरकार के ज्यादातर मंत्री कमजोर आर्थिक पृष्ठभूमि के हैं और उनकी आमदनी बहुत कम है. लिहाजा उन्हें मंत्री के तौर पर मिलने वाले वेतन-भत्ते पर पडऩे वाले आयकर के बोझ को राज्य सरकार वहन करे. बस तभी से ये कानून बन गया और मंत्रियों की मौज हो गई.

आज के जमाने में बस गिनती के ही नेता हैं जो साधारण तरीके से रहते हैं. और लगभग सभी नेताओं को तो 5 स्टार जैसी सुविधाएँ चाहिए. और खाने में छप्पन भोग चाहिए. कहीं भी जाना हो तो बड़ी बड़ी गाड़ियां चाहिए. लेकिन जो नियम जनता पर लागू होता है वही नियम नेताओं के लिए भी होना चाहिए.

आपको ये जान कर हैरानी होगी कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में मंत्रिमंडल के आयकर का बिल लगभग 86 लाख रुपये था जिसे सरकारी खजाने से अदा किया गया है. आखिर ऐसा क्यों होता था.

अब आते हैं वेतन पर, तो मुख्यमंत्री और मंत्रियों को प्रतिमाह एक लाख 64 हजार रुपये मिलते हैं. ये धनराशि मूल वेतन और भत्तों को मिलाकर है. मतलब इसमें 40 हजार रुपये मूल वेतन, 50 हजार रुपये निर्वाचन क्षेत्र भत्ता, 30 हजार रुपये चिकित्सा प्रतिकर भत्ता, 20 हजार रुपये सचिवालय भत्ता और 800 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 24 हजार रुपये मासिक भत्ता दिया जाता है.

अब बताइये इतना पैसा मिलने के बाद भी इन सबका आयकर सरकार के खजाने से ही क्यों भरा जाये.

246 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *