संकट के बड़े भंवर में फंसती जा रही है बीजेपी : संपादकीय व्यंग्य

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial

Uttar Pradesh BJP in Trouble : साढ़े चार साल में केशव प्रसाद मौर्या ने होटल मैनेजमेंट का कोर्स तो कंप्लीट कर नहीं लिया था..ना ही उन्होंने यूट्यूब पर देखकर कोई डिश बनानी सीख ली थी..वो अब भी बिना पावर के पिछड़े डिप्टी सीएम ही थे..लेकिन योगी आदित्यनाथ को साढ़े 4 साल बाद केशव प्रसाद मौर्या के घर का खाना याद आ गया..योगी आदित्यनाथ ने केशव प्रसाद मौर्या के घर पर खाना खाया..साथ ही केशव के बहू और बेटे को आशीर्वाद भी दिया..बहू को मुंह दिखाई में योगी जी ने कुछ दिया हो या ना दिया हो..लेकिन 2022 के लिए ससुर केशव मौर्या का भरोसा जरूर मांगा होगा..पिछले साढ़े 4 साल से 5 कालिदास मार्ग से 7 कालिदास मार्ग की दूरी कुछ भी नहीं थी..फिर भी योगी और केशव एक दूसरे से हजारों प्रकाशवर्ष दूर रहते थे..योगी जी बहुत बिजी रहते हैं..काम के चलते ही अपने पिता की मृत्यू पर भी नहीं जा पाए थे..लेकिन केशव के घर खाना खाने गए थे..कहते हैं…2022 में धोखा खाने से अच्छा है कि आज केशव के घर खाना खा कर पिछड़ों को बताया जाए कि हम दोनों के बीच सब ठीक है..पिछड़़ों की सरकार में..अभी भी चलती है..

अब तक बताया जा रहा था कि योगी और केशव मौर्या के एके शर्मा के बीच ही कुर्सी की खींचतान चल रही है.लेकिन अब संजय निषाद को भी डिप्टी सीएम बनना है..कहते हैं 2022 में उनको डिप्टी सीएम का प्रोजेक्ट किया जाए..इससे बीजेपी का भी भला होगा..और संजय निषाद का भी भला होगा..संजय निषाद अपने सांसद बेटे प्रवीण निषाद के साथ दिल्ली परिक्रम करके वापस आ चुके हैं..लखनऊ और दिल्ली में युद्ध चल रहा होता..तो संजय निषाद की दाल अभी गल सकती थी..लेकिन अब सीजफायर का ऐलान हो चुका है..संजय निषाद 2022 में कुर्सी की गारंटी चाहते हैं..ये केवल चाहत नहीं है धमकी भी है..संजय निषाद का कहना है कि बीजेपी ने कैबिनेट मंत्री और राज्यसभा सीट का वादा किया था..मैं 2022 का डिप्टी सीएम का उम्मीदवार हूं..अगर बीजेपी ने उनको हर्ट किया तो बीजेपी वाले भी खुश नहीं रह पाएंगे..राजनीति में धमकी..धोखा..दोस्ती..दगा और ईमानदारी सब समान शब्द होतें हैं..इसलिए संजय जो कह रहे हैं उसे आप अपने हिसाब से समझ लीजिए..

यूपी में बीजेपी संकट में घिरी हुई है..दिल्ली वाले डोर खीचेंगे तो डोर टूट जाएगी..यूपी वाले अगर सबको साथ लेकर नहीं चले तो चुनाव हार जाएंगे..RSS ये बात बहुत अच्छी तरह से जानता है..इसीलिए केशव के घर पर RSS नेता योगी और केशव की मुलाकात पर विशेष तौर पर मौजूद थे..जो तस्वीर जारी की गई उसमें ये संदेश दिया गया कि योगी और केशव के बीच सब ठीक है..यूपी में बीजेपी कितने संकट में है इसका अंदाजा आप इससे लगाईये..कि आज तक के इतिहास में RSS ने कभी लखनऊ में हेडक्वाटर बनाकर बीजेपी की निगरानी नहीं की..दोस्तों पहली बार बीजेपी के भीतर की अंतरकलह खत्म कराने के लिए लड़ाई लड़ाई माफ कराने के लिए लखनऊ में आरएसएस को हेडक्वाटर बनाना पड़ा है…संघ सह कार्यवाहक दत्तात्रेय होसबोले चुनाव तक लखनऊ में ही रहेंगे..

कहते हैं एक भीतर खाने सर्वे कराया गया है जिसमें बीजेपी को 2022 में 100 सीटें भी मिलती नहीं दिखाई दे रही हैं..पिछड़ों की नेता अनुप्रिया पटेल बीजेपी से नाराज हैं..भारतीय समाज पार्टी के नेता सुहेलदेव राजभर भी बीजेपी से अलग हो गए हैं..कहते हैं राजभर को मनाने के लिए बीजेपी के बड़े नेता ने फोन किया था..लेकिन राजभर ने फोन अपने पीए को पकड़ा दिया..विधायकों का बुरा हाल पहले से है..कोरोना में हुई बदनामी..पंचायत चुनाव में मिली हार..ब्राह्मणों की नाराजगी..किसानों का मुद्दा..और बेरोजगार युवाओं के गुस्से से बीजेपी संकट में है.. RSS इस बात से चिंता में है..

-----

RSS किसी भी कीमत पर यूपी को खोना नहीं चाहती..यूपी अगर 2022 में हाथ से जाएगा तो 2024 में दिल्ली में सरकार बनाना बीजेपी के लिए बहुत मुश्किल हो जाएगा..क्योंकि यूपी को छोड़कर बीजेपी के लिए एक मुश्त सीटें उगलने वाला कोई दूसरा राज्य नहीं है.. तो RSS की चिंता..2022 से ज्यादा 2024 की है..कोई ऐसा मुद्दा तलाशने की कोशिश की जा रही है जिससे जनता सारे दुख दर्द भूल जाए..और फिर से हिंदू हो जाए..क्योंकि जिस लिए सरकार बनाई थी वो काम सरकार ने बिल्कुल ठीक से किया है..

-----

RSS खुद को सांस्कृतिक संगठन कहता है..RSS के कानून में भी है कि वो कभी इलेक्ट्रोलर राजनीति में हिस्सा नहीं लेंगा..लेकिन आप मजबूरी समझ सकते हैं..इस समय लखनऊ में RSS को स्थाई कैंप लगाकर रेफरी की भूमिका निभानी पड़ रही है..कुछ राजनीतिक जानकार कहते हैं मोदी से योगी को प्रोटेक्शन देने के लिए RSS ने लखनऊ में हेडक्वाटर बना लिया है..

केशव शुरू से मुख्यमंत्री बनना चाहते थे..लेकिन बन नहीं पाए थे..अब चुनाव में सिर्फ 6 महीने का वक्त बचा है..केशव मौर्या पर कम से कम 17 फीसदी पिछड़े वोटों का दारोमदार है..योगी आदित्यनाथ हिंदुओं के ब्रांड हैं..लेकिन ब्रांड होने से कुछ नहीं होता..क्योंकि उन पर ठाकुर जाति को आगे बढ़ाने का ठप्पा लगा हुआ है..पिछड़ा बीजेपी सरकार में अपने नेता के तौर पर अब भी केशव की तरफ ही देखता है…अब योगी आदित्यनाथ को..बीजेपी को और RSS को केशव प्रसाद मौर्या से 2022 में सच्चे दिल वाला साथ चाहिए..साथ तो मिलेगा..लेकिन जो केशव को चाहिए वो मिलेगा या नहीं मिलेगा..इसी की गारंटी पक्की करने के लिए RSS नेता…योगी और केशव का भरत मिलाप कराने के लिए इकट्ठा हुए थे..दोस्तों मुझे ट्विटर पर फॉलो कीजिए @PRAGYALIVE नाम से मुझे खोजिए..और मेरे आर्टिकल पढ़ने के लिए मेरी वेबसाइट ULTACHASMAUC.COM पर आईये..अपनी राय कमेंट करके दीजिए आपके कमेंट के जवाब मैं जरूर दूंगी..चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..

डिस्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

18 thoughts on “संकट के बड़े भंवर में फंसती जा रही है बीजेपी : संपादकीय व्यंग्य

  • June 23, 2021 at 5:50 pm
    Permalink

    एक बार फिर रण है और सारथी का दारोमदार फिर एक दूसरे केशव पर है, देखना ये है कि इस बार के केशव रथ को दो अंगुल धंसा कर ‘पार्थ’ की सर्प मुखास्त्र से रक्षा करते है या खुद सर्प बन कर उसे काट खाते हैं!!

    Reply
    • June 23, 2021 at 6:38 pm
      Permalink

      आपकी महान राय के लिए धन्यवाद

      Reply
      • June 23, 2021 at 8:28 pm
        Permalink

        बीजेपी सरकार उत्तर प्रदेश में सामाजिक न्याय समिति रिपोर्ट जब तक लागू नहीं करती तब तक आने वाले चुनाव 2022 मैं सरकार बनाना बहुत कठिन हो जाएगा सरकार, अति पिछड़ों को दरकिनार करना चाहती हैउत्तर प्रदेश में पिछड़ी अति पिछड़ी ,अत्यंत पिछड़ी जाति बहुत नाराज चल रहे हैं

        Reply
        • June 24, 2021 at 1:43 pm
          Permalink

          आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

          Reply
      • June 23, 2021 at 8:46 pm
        Permalink

        Didi pratapgarh ki news h images with video
        6386066702 WhatsApp no

        Reply
        • June 24, 2021 at 1:43 pm
          Permalink

          ok..आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

          Reply
        • June 25, 2021 at 8:24 pm
          Permalink

          Bjp will not win 2022

          Reply
  • June 23, 2021 at 7:10 pm
    Permalink

    बहुत ही गहन पकड़ है मैडम उत्तर प्रदेश की राजनीतिक बिसात की आपको…

    Reply
    • June 24, 2021 at 1:44 pm
      Permalink

      आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

      Reply
  • June 23, 2021 at 7:11 pm
    Permalink

    बहुत ही उम्दा तरीके से आप समझाती हैं..आपकी शैली बहुत अच्छी है..

    Reply
    • June 24, 2021 at 1:44 pm
      Permalink

      धन्यवाद गौरव जी..आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

      Reply
  • June 23, 2021 at 11:37 pm
    Permalink

    प्रज्ञा जी नमस्कार

    शानदार
    आपके व्यंग बहुत कटाक्ष और सटीक होते हैं।

    उत्तर प्रदेश की राजनीति मैं अगला मुख्यमंत्री योगी जी के रूप में अगर आप देख रहे हैं तो मुझे लगता है गलत है

    हो सकता हो आपको पता हो जब भारतीय जनता पार्टी के जनक लालकृष्ण आडवाणी का प्रधानमंत्री बनने का मौका आया तो गुजराती बंधुओं ने राजनीति का उपयोग करते हुए भाजपा में 70 साल से ऊपर के व्यक्ति के लिए राजनीति में रिटायरमेंट का एग्रीमेंट किया हुआ उसके तहत प्रधानमंत्री के पद के लिए आडवाणी जी बाहर हो जाते हैं
    कट्टर चेहरा मोदी को प्रधानमंत्री बनाते हैं 10 साल नरेंद्र मोदी जी को प्रधानमंत्री बने हुए हो चुके अब एग्रीमेंट के तहत अगले लोक सभा इलेक्शन में नरेंद्र मोदी जी 70 पारर हो चुके होंगे ।
    मतलब साफ है अगला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में भाजपा का चेहरा नहीं होगा ।
    अगला प्रधानमंत्री एक कट्टर चेहरा के रूप में जब भाजपा लेकर आएगी तो यूपी से योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री के लिए संघ और भाजपा चुने गी
    यूपी में अगले मुख्यमंत्री के रूप में केशव प्रसाद मौर्य को रखेंगे यह यहां मेरा अनुभव कहता है

    आपके व्यंग में मेरे विचार और अनुभव को जरूर रखें।

    Reply
    • June 24, 2021 at 1:42 pm
      Permalink

      जिया लाल जी जरूर..आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

      Reply
  • June 24, 2021 at 12:31 pm
    Permalink

    Hello !
    प्रज्ञा जी, मै मेडिकल स्टूडेंट (MBBS) हु आपकी पत्रकारिता अच्छी है और आज के समय मे महत्वपूर्ण भी. मेरा सवाल आपसे बस इतना है कि एक ऐसा व्यक्ति जो मुख्यमंत्री बनने से पहले महिलाओं के बारे में खुले तौर पर आपत्तिजनक बयान देता रहा है (तुम एक हिन्दू लड़की लेकर जाओगे हम 10 मुस्लिम लड़की लेकर आएंगे और भी बहुत सारे) …ऐसे में आपने पिछड़ा नेता केशव, अनुप्रिया पटेल, निषाद नेता , राजभर नेता की तमाम बाते की..
    क्या आपको नहीं लगता है कि देश और प्रदेश की आधी आबादी महिलाओं की भी है..महिला विमर्श कब होगा ?
    कब हमे ये सुनने को मिलेगा की देश की महिलाए योगी आदित्यनाथ को पसंद नहीं करती है क्योंकि उनके महिलाविरोधी बयान आज भी you tube पर चीख रहे है. आप तो ये भी नहीं बोल सकती है कि महिलाओं की कोई आवाज़ नहीं है.
    पत्रकार होने से पहले आप एक महिला भी तो है, और फिर भला कौन ऐसा पत्रकार है जो ब्लॉग पर अपनी निजी राय नहीं लिखते. “फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन” का अधिकार आपसे बेहतर कौन समझ सकता है.

    विरोध सिर्फ पिछड़ा होने का नहीं है, महिला होने का भी है. मेरी एक छोटी बहन है मै उससे बहुत प्यार करता हूं वो आपकी फैन है, कभी उसकी आवाज़ भी बनिए…उत्तर प्रदेश के स्कूल में पढ़ने वाली लडकियो, कामकाजी महिलाओं के सवालों को उठाइए.. पितृसत्तात्मक समाज में लडकियो के हजारों सवाल चीख रहे है. जिन्हे सरकार द्वारा दबाया जाता रहा है.
    शुक्रिया !

    नोट :- कोई बात बुरी लगी हो तो माफ़ कर दीजिएगा.

    Reply
    • June 24, 2021 at 1:41 pm
      Permalink

      आपने समय निकालकर अपने विचार रखे..इसके लिए धन्यवाद..हम चाहते हैं आप हमारे नियमित पाठक बनें..इसके लिए वेबसाइट के नोटिफिकेशन पॉपअप को allow जरूर करें..जिससे नोटिफिकेशन आपको मिलते रहेंगे..

      Reply
  • June 24, 2021 at 8:48 pm
    Permalink

    Really I am impressed with you Pragya Mam.Superb🖤🖤

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *