यूपी पुलिस का छलका दर्द, मांग पूरी न होने पर मुंडवाया सिर, जानें ऐसे कई किस्से

उत्तर प्रदेश की पुलिस का एक और चेहरा सामने आ रहा है जिसमें वे सर सिर मुंडवाए हुए नज़र आ रहे हैं. सूत्रों से पता चला की इन लोगों ने अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए अपने सिर मुंडवाए हैं. यूपी पुलिस के ऐसे कई कारनामे हैं. जिसे शायद आप जानते भी ना हों.

UP police demand is not fulfilled
अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए अपने सिर मुंडवाए

 

कभी यूपी पुलिस दबंग हुआ करती थी लेकिन अाज बकरी के बच्चे की तरह में-में कर रही है. कोई अपनी बात मनवाने के लिए मुंडन करवा करा है. कोई काली पट्टी बांधे घूम रहा है. कोई साइकिल चला रहा है. कोई रिक्शा खींच रहा है. कोई हेलमेट के साथ चाचा चौधरी बना घूम रहा है. कोई अनुशासन नहीं कोई मर्यादा नहीं. लगता ही नहीं कि यूपी में पुलिस का कोई माईबाप भी है.

UP police demand is not fulfilled
मांग पूरी ना होने से परेशान पुलिस

 

यूपी पुलिस का क्या हाल हो चुका है. कंधे पर सितारे चमक रहे हैं. लेकिन खुद के सितारे माटी फांक रहे हैं मतलब नाम के बड़े दर्शन  के छोटे. जितने रूपए गुंडे बदमाश पान मसाला खाकर थूक देते हैं. पुलिस वालों को उतना भत्ता मिलता है. एक पुलिसवाले से बातचीत में Ultachasmauc.com को बताया कि उनको आज भी साईकिल भत्ता दिया जा रहा है वो भी करीब 100 से 150 रूपए के बीच.

उत्तर प्रदेश की पुलिस की ऐसे दुर्दिन पहले कभी नहीं देखे थे. ये दिव्य दर्शन यूपी पुलिस के इतिहास में पहली बार हो रहे हैं. उत्तर प्रदेश के पुलिस इतिहास में डीजीपी ओपी सिंह का कार्यकाल सबसे बुरा कार्यकाल साबित हो रहा है. ओपी जी ने जब से यूपी पुलिस की कमान संभाली है तब से यूपी पुलिस बेकाबू  भी हुई बदनाम भी और बेबस भी. कभी फर्जी एनकाउंटर के आरोप. कभी सरेराह विवेक तिवारी कांड.

आमतौर पर किसी भी सरकारी विभाग में कार्यरत किसी भी व्यक्ति की ड्यूट आठ घंटे की होती है, वहीं प्राइवेट संस्थानों में भी वर्किंग टाइम आठ से नौ घंटे के बीच का रही रहता है लेकिन पुलिस कर्मियों को रोजाना 14 घंटे से ज्यादा ड्यूटी. करनी पड़ती हैं.

ये भी पढ़ें-

योगी राज की हाईटेक पुलिस साइकिल से चलने को मजबूर हो गई…दर्द भरी दास्तान तस्वीरों में देखिए..

 

बाइक सवार बदमाशों को साईकिल से दौड़ाती यूपी पुलिस, अद्भुत वीडियो देखें-