26 जून को UP में शुरू होगा सवा करोड़ श्रमिकों को रोजगार देने का अभियान, ये जिले किये गए शामिल

कोरोना के चलते सबसे ज्यादा मजदूर पीड़ित हुआ है. इस दौरान पूरे देश ने मजदूरों की बहुत ही बदतर स्थिति देखी है. देश में सबसे ज्यादा मजदूर यूपी और बिहार के ही हैं जो पूरे देश में जगह जगह काम करते हैं. और कोरोना की वजह से सभी मजदूर प्रदेश में वापस आ गए हैं और सभी बेरोजगार भी हो गए हैं.

up govt to launch campaign to provide employment
up govt to launch campaign to provide employment

ऐसे में योगी सरकार ने केंद्र सरकार की मदद से एक बड़ा फैसला लिया है. जिससे गरीब मजदूर की ज़िंदगी सवंर सकती है. उनको अपने प्रदेश में ही काम मिल सकता है. और उनका परिवार भी सुखी रह सकता है. योगी आदित्यनाथ सरकार 26 जून को सवा करोड़ स्थानीय व प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने का सबसे बड़ा अभियान शुरू करने जा रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल माध्यम से नई दिल्ली से इस अभियान का शुभारंभ करेंगे.

अभियान के शुभारंभ के साथ ही उसी दिन से 65 लाख श्रमिक मनरेगा योजना के अंतर्गत काम शुरू करेंगे. इस दौरान पीएम मोदी गोरखपुर, गोंडा व जालौन सहित 6 जिलों के लाभार्थियों से बात भी करेंगे. इसमें मनरेगा श्रमिक, स्वयं सहायता समूह व इस अभियान से जोड़े गए विभिन्न कार्यों से जुड़े लाभार्थी शामिल होंगे. यूपी ने इस अभियान के अंतर्गत सबसे अधिक लाभ उठाने के लिए सवा करोड़ लोगों को रोजगार देने की योजना तैयार की है.

कोविड-19 महामारी के दौरान प्रदेश में 35 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक लौटे हैं. प्रदेश सरकार ने अब तक 34.23 लाख श्रमिकों की स्किल मैपिंग का काम पूरा कर लिया है. इस अभियान के तहत प्रवासी व स्थानीय दोनों ही तरह के श्रमिकों को रोजगार दिलाया जाएगा. राज्य आपदा प्रबंध प्राधिकरण ने इसके लिए एक अलग अकाउंट खोला था. केंद्र सरकार ने पीएम केयर फंड से यूपी को 52 करोड़ 51 लाख 99 हजार 410 रुपये का आवंटन किया है. ये रकम प्रवासी श्रमिकों के कल्याण के तहत उनके ठहरने, भोजन व्यवस्था, इलाज व परिवहन मदद में खर्च की जाएगी.

26 जून को जिन जिलों में ये अभियान शुरू होगा उसमें गोंडा, बलरामपुर, अंबेडकर नगर, अमेठी, अयोध्या, आजमगढ़, बहराइच, बांदा, बस्ती, देवरिया, फतेहपुर, गाजीपुर,  गोरखपुर, हरदोई, जालौन, जौनपुर, कौशांबी, खीरी, कुशीनगर, महराजगंज, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, प्रयागराज, रायबरेली, संतकबीर नगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सीतापुर, सुल्तानपुर, उन्नाव और वाराणसी शामिल हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *