यूपी के शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी शिक्षा नहीं जुगाड़ू सस्ती जमीनें खोजते हैं ?

उत्तर प्रदेश सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी की मुसीबतें बढ़ती ही जा रही हैं. अभी छोटे भाई की नौकरी पर सवाल उठे थे तो उनके छोटे भाई ने अपने पद से इस्तीफ़ा दिया था लेकिन मंत्री जी अब जमीन को लेकर एक नए विवाद में फंस गए हैं.

कौड़ियों के भाव खरीदी जमीन

बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी पर महंगी जमीन को बेहद कम दाम में खरीदने के आरोप लग रहे हैं. विपक्ष ने आरोप लगाया है कि डॉ. सतीश द्विवेदी ने सवा करोड़ की जमीन कौड़ियों के भाव खरीदी है. इस आरोप को लगाया है आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने. इन्होंने जमीन के बयाने के पेपर सार्वजनिक करके शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं.

आप सांसद संजय सिंह ने दिखाए पेपर

संजय सिंह ने ट्विटर पर चार जमीनों के रजिस्ट्री के पेपर शेयर करके दावा किया है कि जमीन की रजिस्ट्री सतीश द्विवेदी और उनकी मां के नाम पर है. और जमीन मार्केट रेट से कम दाम पर खरीदी गई है. एक जमीन की कीमत मार्केट रेट 65.45 लाख रुपए थी, जिसे 12 लाख रुपए में खरीदा गया है जबकि दूसरी एक जमीन की मार्केट वैल्यू 1.26 करोड़ रुपए थी, जिसे महज 20 लाख रुपए में ख़रीदा गया है.

-----

संजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘क्या आपको 1 करोड़ 26 लाख 29 हजार की जमीन 20 लाख में चाहिए? तो आदित्यनाथ जी की सरकार में मंत्री बन जाइए.

-----

12 लाख की जमीन और दिए मात्र डेढ़ लाख और एक बाइक

इसके बाद संजय सिंह ने ट्विटर पर न्यूज़ चैनल का वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि वाह रे मंत्री जी आप तो भ्रष्टाचारी ही नही दबंग भी हैं. 65 लाख 45 हज़ार की ज़मीन 12 लाख में ख़रीदी लेकिन बेचने वाले को दिया मात्र डेढ़ लाख और एक बाइक. एक भ्रष्ट मंत्री को बर्खास्त करने के लिये कितने प्रमाण चाहिये आदित्यनाथ जी ? क्या यही है आपकी ईमानदार सरकार ?

भाई अरुण द्विवेदी को लेकर विवाद

इससे पहले मंत्री सतीश द्विवेदी के भाई अरुण द्विवेदी को लेकर विवाद हुआ था. विवाद ये था कि अरुण द्विवेदी को गरीब कोटे से सिद्धार्थ यूनिवर्सिटी कपिलवस्तु में असिस्टेंट प्रोफेसर बना दिया गया था. नकी नियुक्ति को लेकर इंटरनेट मीडिया पर लगातार सवाल उठाए जा रहे थे. अधिवक्ता और सोशल एक्टिविस्ट नूतन ठाकुर ने पूरे मामले की जांच करवाने की मांग करते हुए कहा था कि डॉ. अरुण की नियुक्ति अल्प आय वर्ग कोटे से हुई है. डॉ अरुण वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान में भी प्रोफेसर थे. और वे शिक्षा मंत्री के भाई भी हैं. ऐसे में उनके द्वारा प्रस्तुत किए गए गरीबी के प्रमाण पत्र पर सवाल खड़े होते हैं.

राज्यपाल ने माँगा था जवाब

नूतन ठाकुर ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को इस संबंध में साक्ष्यों के साथ पत्र भी लिखा. इसके बाद राजभवन ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन को पत्र जारी कर स्थिति स्पष्ट करने को कहा था. मामला गंभीर होता देख अरुण कुमार द्विवेदी ने असिस्‍टेंट प्रोफेसर पद से इस्‍तीफा दे दिया है. विश्‍वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेन्‍द्र दुबे ने उनका इस्‍तीफा स्‍वीकार भी कर लिया है.

इस्‍तीफा देने के बाद अरुण ने मीडिया को बताया कि मेरे लिए मेरा परिवार सर्वोपरि है. मेरे चयन के चलते मेरे भाई पर अनर्गल आरोप लगातार लगाए जा रहे थे, इससे आहत होकर मैंने सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु के कुलपति सुरेंद्र दुबे को असिस्टेंट प्रोफेसर पद से इस्तीफा सौप दिया है.

घर वाले प्रोफेसर और जनता परेशान

वैसे देखा जाए तो अरुण द्विवेदी पहले से ही वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान में प्रोफेसर रह चुके हैं और शिक्षा मंत्री के भाई हैं तो ऐसे में उनका गरीबी का प्रमाण पत्र देना ये बात किसी को हज़म नहीं होती. इतना ही नहीं मंत्री सतीश द्विवेदी की पत्नी कल्याणी द्विवेदी भी 2019 में लखनऊ के कालीचरण पीजी कॉजेल में असिस्टेंट प्रोफेसर बनी थीं. मंत्री के घर पर धन वर्षा हो रही है.. लेकिन 69 हजार शिक्षक भर्ती वाले अभी भी परेशान हैं.

-----

सवाल – यूपी के शिक्षा मंत्री कौन हैं ? Who is the Education Minister of UP?
उत्तर – उत्तर प्रदेश के शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी हैं. Dr. Satish Dwivedi is the Education Minister of Uttar Pradesh.
सवाल – डॉ. अरुण कुमार द्विवेदी कौन हैं ? Who is Dr. Arun Kumar Dwivedi?
उत्तर – डॉ. अरुण कुमार द्विवेदी यूपी के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी के भाई हैं. Dr. Arun Kumar Dwivedi is the brother of Dr. Satish Dwivedi, UP’s Minister of State for Basic Education.

7 thoughts on “यूपी के शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी शिक्षा नहीं जुगाड़ू सस्ती जमीनें खोजते हैं ?

  • May 28, 2021 at 2:27 pm
    Permalink

    hello mam
    i am from Pakistan …..i saw your videos on youtube….mam hum pakistani people dil se chaty hain k dono country develop hn and dono m friendship b ho…agr mam esa ho jaye tu ….mam hum jb news m dekhty hain k India m log corona se mar rahy hain tu humara mun boht dukhi hota hai…. humen smj nai aati kis tarah India ki madad karen….mam agr meri koi baat buri lagi ho tu sorry

    Reply
    • May 28, 2021 at 2:31 pm
      Permalink

      आपके स्नेह के लिए शुक्रिया..सर..

      Reply
  • May 28, 2021 at 2:35 pm
    Permalink

    mam
    mje hindi parna nai aati

    Reply
  • May 28, 2021 at 2:39 pm
    Permalink

    mam
    mje hindi parna nai aati

    Reply
    • May 28, 2021 at 3:07 pm
      Permalink

      sorry sir but out national language is hindi and website too

      Reply
  • May 28, 2021 at 5:32 pm
    Permalink

    Raja’s second trick to win this election
    PM Modi announces Rs 1000 crore relief package for cyclone Yaas relief in Odisha and West Bengal

    Reply
    • May 28, 2021 at 8:16 pm
      Permalink

      कमेंट में आपकी राय के लिए शुक्रिया

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *