यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा भी रद्द हुई, उप मुख्यमंत्री ने की घोषणा, ऐसे तैयार होगा रिजल्ट-

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए PM मोदी ने बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने के निर्देश दिए थे जिसके बाद सीबीएसई और आइससी के कक्षा 12 की परीक्षा रद्द कर दी गई थी. अब उत्तर प्रदेश सरकार ने भी यूपी बोर्ड UP Board इंटरमीडिएट की परीक्षा को रद्द कर दिया है. अब यूपी बोर्ड UP Board इंटरमीडिएट का रिजल्ट कैसे जारी होगा आइये जानते हैं-

यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा भी रद्द हुई, उप मुख्यमंत्री ने की घोषणा, ऐसे तैयार होगा रिजल्ट-
यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा भी रद्द हुई, उप मुख्यमंत्री ने की घोषणा, ऐसे तैयार होगा रिजल्ट-

सीएम योगी ने लगाई मुहर

UP बोर्ड की 10वीं के बाद 12वीं की परीक्षा भी रद्द कर दी गई है. सीएम योगी ने लोक भवन में डिप्टी सीएम और शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की जसके बाद सीएम योगी ने इस फैसले पर आखिरी मुहर लगाई है. हाईस्कूल और 11वीं क्लास के नंबर के आधार पर 12वीं का रिजल्ट तैयार किया जाएगा. इसके लिए सरकार की तरफ से जल्द दिशा निर्देश जारी किए जाएंगे. बतादें कि UP बोर्ड के 100 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब इंटर की परीक्षा रद्द हुई है.

-----

दिनेश शर्मा ने की घोषणा

-----

उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक से बातचीत के बाद परीक्षा निरस्त करने की घोषणा की है. उन्होंने बताया कि माध्यमिक शिक्षा विभाग, उत्तर प्रदेश निरंतर छात्र हित में कार्य कर रहा है. हालाँकि इससे पहले 12वीं की परीक्षा जुलाई के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जानी थी लेकिन सीबीएसई की 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से लिए गए निर्णय के तहत निरस्त होने के बाद यूपी बोर्ड की परीक्षा का भी निरस्त होना तय माना जा रहा था.

12वीं के लिए 26,09,501 स्टूडेंट्स पंजीकृत हैं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ करीब आधा घंटा की बैठक में अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा अराधना शुक्ला भी मौजूद थीं. शिक्षा बोर्ड के द्वारा तैयार की गई कमेटी ने रिपोर्ट मुख्यमंत्री के सामने पेश की, इसमें परीक्षा रद किए जाने के बाद परीक्षार्थियों के अन्य विकल्प के सुझाव दिए गए थे. जिसपर सीएम योगी ने अपनी मुहर लगा दी है. बतादें यूपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा के लिए 26,09,501 स्टूडेंट्स पंजीकृत हैं.

9वीं व 11वीं के छात्रों को भी प्रमोट करने का निर्देश

वहीं बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने 22 मई को ही सभी स्कूलों से क्लास 12 के प्री-बोर्ड और 11वीं के छमाही और वार्षिक परीक्षा के अंक मांगे थे. 28 मई तक अधिकांश स्कूल छात्र-छात्राओं के अंक डाटा भी ऑनलाइन पोर्टल पर फीड कर दिया है. इसी के साथ 9वीं व 11वीं के छात्र वार्षिक परीक्षाफल के आधार पर अगली कक्षा में भेजे जाएंगे. और अगर सालभर कोई परीक्षा या असेसमेंट नहीं हुआ हो तो  सामान्य रूप से छात्रों को प्रमोट करने का निर्देश है.

-----

10वीं और 12वीं के रिजल्ट के लिए बनी कमेटी

शिक्षा विभाग के इस निर्देशों से सभी स्कूलों को अवगत करा दिया गया है. वहीं, कक्षा 6, 7, 8, 9 और 11 के छात्रों को प्रोन्नत करने के संबंध में अगर किसी प्रकार की शिकायत होगी तो उसकी सुनवाई जिला स्तर की कमेटी करेगी. अब हाईस्कूल और 12वीं का रिजल्ट किस आधार पर तैयार किया जाए. इसके विकल्पों पर विचार किया जा रहा है. सरकार ने इसके लिए एक अलग कमेटी भी बना दी है.

ये भी जाने –

खुलासा: आप बच्चों को कैसा खाना खिला रहे हैं ? इस कंपनी के 60% प्रोडक्ट खतरनाक निकले, पढ़ें रिपोर्ट-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *