दफनाया गया दुष्कर्म पीड़िता का शव, मकान और नौकरी देने का हुआ वादा, CM योगी ने दिए 25 लाख

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता का अंतिम संस्कार न करने पर प्रशासन हरकत में आया. परिजनों की मांग थी की पहले सीएम योगी मिलने आएं फिर अंतिम संस्कार किया जायेगा.

unnao assault case family demand call chief minister

-----

इसकी सूचना मिलते ही कमिश्नर लखनऊ और आइजी रेंज ने परिवारीजनों से बात की और परिवार को दो आवास देने के साथ ही एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का भरोसा दिलाया जिसके बाद परिवार शव दफनाने को तैयार हुआ. सरकार की तरफ से मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और कमल रानी वरुण भी वहीँ पहुंचे फिर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी कर शव को दफनाया गया.

कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि परिवार में एक लोग को नौकरी, परिवार की मांग पर शस्त्र लाइसेंस, मुख्यमंत्री से मिलवाने का वादा, फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमे की सुनवाई का भी आश्वासन दिया है.

दुष्कर्म पीड़िता की बहन ने कहा कि मेरी बहन को पहले ही जलाया जा चुका है. वो तड़प-तड़पकर अपनी जान गंवा चुकी है. अब हम उसे दोबारा जलाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे, इसलिए उसे दफना दिया है. पीड़ित का शव पहुंचने के बाद आसपास के गांवों के लोग भी श्रद्धांजलि देने उसके घर पहुंचे थे.

वहीं कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य शनिवार देर शाम पीड़िता के घर पहुंचे थे और पीड़िता के पिता को 25 लाख रुपये का चेक दिया था. और डीएम देवेंद्र कुमार पांडेय ने कहा था कि दुष्कर्म पीड़िता के पिता को जल्द ही प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत पक्का आवास दिलाया जाएगा.

पीड़िता ने शुक्रवार देर रात 11:40 बजे दिल्ली के सफदरजंग अस्‍पताल में दम तोड़ दिया था. वो गुरुवार की रात में लखनऊ से एयरलिफ्ट कर दिल्ली लाई गई थी दुष्कर्म पीड़िता तब से ही हालत बेहद नाजुक थी. इतने दर्द में होने के बावजूद भी अपने भाई से पूछ रही थी कि भइया क्या में बच जाउंगी ? मैं जीना चाहती हूं. आरोपियों को छोड़ना नहीं है.

पीड़िता का इलाज कर रहे बर्न एंड प्लास्टिक डिपार्टमेंट के हेड डॉ. शलभ कुमार ने बताया था कि उसे रात 11:10 बजे कार्डियक अरेस्ट हुआ था. तो हमने उसे फिर से जीवित करने की कोशिश की, लेकिन वो बच नहीं पाई और रात 11:40 बजे उसकी मौत हो गई.

बतादें कि दुष्कर्म पीड़िता को जलाने के मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आदेश दिया है.