मेट्रो में करने वाले हैं सफर, तो पढ़ लें नए दिशानिर्देश, वर्ना नहीं मिलेगा प्रवेश

साढ़े पांच महीने से बंद पड़ीं देश के 18 शहरों की 12 मेट्रो ट्रेनों का संचालन 7 सितंबर से शुरू हो जाएगा. लेकिन कोविड-19 के चलते शुरू हो रहे संचालन में स्टेशनों और ट्रेनों के अंदर व्यवस्था बदली रहेगी.

unlock-4 guidelines metro stations will open from 7 september
unlock-4 guidelines metro stations will open from 7 september

दिल्ली मेट्रो रेल का तीन स्टेज के पांच चरणों में संचालन शुरू होगा. जिसमें येलो लाइन और गुड़गांव की रैपिड मेट्रो चलेगी. और नौ सितंबर को ब्लू लाइन की ट्रेनें दौड़नी शुरु होंगी. मेट्रो रेल में यात्रा के लिए हर यात्री को मास्क लगाना जरूरी है. बिना मास्क के पहुंचे तो स्टेशन से ही महंगा मास्क खरीदना होगा. मेट्रो स्टेशनों पर सैनेटाइजर का उपयोग के साथ एक दूसरे दूरी बनाए रखने के लिए चिन्हित स्थानों पर खड़ा होने की अनुमति होगी.

वहीं लखनऊ मेट्रो ने भी संचालन के लिए अपनी कार्ययोजना जारी कर दी है. रेडलाइन पर सभी स्टेशनों के आधे गेट बंद रहेंगे. केवल दो गेट से ही प्रवेश और निकासी यात्रियों की होगी. दोनों ही गेट से यात्री अंदर और बाहर जा सकेंगे. ट्रेन में यात्रा के लिए एक सीट छोड़कर बैठने की अनुमति होगी. यात्रा के समय मास्क पहनना अनिवार्य होगा.

7 सितंबर से मेट्रो ट्रेनें सुबह छह बजे से रात 10 बजे तक चलेंगीं. यात्रियों की कोविड स्क्रीनिंग के लिए सभी स्टेशनों पर डेस्क तैयार हो गई है. सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग जैसे तापमान की जांच, मास्क, आरोग्य सेतु एप की जांच के बाद ही अंदर जाने दिया जाएगा. हर साढ़े पांच मिनट पर दूसरी ट्रेन आएगी. यात्रियों की संख्या बढ़ने पर प्रतीक्षा में रखी गई ट्रेनों को रवाना कर दिया जाएगा.

धातु का सामान लेकर यात्रा नहीं करें, ऐसा बिना छुए यात्रा के लिए जरूरी है. दोनों गेट पर सैनिटाइजर मौजूद रहेगा, हाथ सैनिटाइज करने के बाद ही प्रवेश मिलेगा. ट्रेनों के अंदर सामाजिक दूरी और मास्क की निगरानी कैमरों से लगातार की जाएगी. दिशानिर्देशों का उल्लंघन और गड़बडी वाले स्टेशनों पर ट्रेनों का ठहराव नहीं होगा. कंटेनमेंट जोन वाले स्टेशन बंद रहेंगे.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *