क्या आप रेस्टोरेंट जाने की सोच रहे हैं ? पढ़ें सरकार की गाइडलाइन, इन बातों का रखें विशेष ध्यान

कोरोना वायरस के चलते देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन चल रहा है. जिसे 1 जून से काफी छूट के साथ खोला गया है. इसके बाद अब 75 दिन से बंद पड़े रेस्टोरेंट्स को लेकर गाइडलाइन जारी की गई है. हालाँकि कंटेनमेंट जोन के लिए लॉकडाउन अभी भी 30 जून तक रहेगा. और वहां कुछ नहीं खोला जायेगा.

Union Ministry of Health issued SOP Coronavirus At Restaurants

केंद्रीय परिवार एवं कल्याण मंत्रालय ने रेस्टोरेंट में कोरोना संक्रमण न फैले, इसे लेकर दिशानिर्देश जारी किए हैं. बता दें कि आठ जून से रेस्टोरेंट को खुलने की अनुमति दी गई है. ऐसे में रेस्टोरेंट में आने जाने वाले लोगों को कोरोना से बचाने के लिए दिशानिर्देश जारी कर दिए गए हैं.

  • कंटेनमेंट जोन में रेस्टोरेंट बंद रहेंगे, इसके बाहर खोले जा सकते हैं.
  • रेस्टोरेंट में आकर खाना खाने की बजाय होम डिलीवरी को बढ़ावा देने की बात कही गई है.
  • डिलीवरी करने वाले घर के दरवाजे पर ही पैकेट छोड़ दें, हैंडओवर न करें.
  • होम डिलीवर पर जाने से पहले सभी कर्मचारियों की स्क्रीनिंग की जाए.
  • केवल उन्हीं स्टाफ और ग्राहकों को रेस्टोरेंट में प्रवेश करने की अनुमति होगी जिनमें कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं दिख रहे होंगे.
  • प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर डिस्पेंसर और थर्मल स्क्रीनिंग व्यवस्था का होना अनिवार्य होगा.
  • कर्मचारियों को मास्क लगाने या फेस कवर करने पर ही प्रवेश दिया जाए और वे पूरे समय इसे पहने रहें.
  • कोरोना वायरस की रोकथाम और जागरूकता से संबंधित पोस्टर और विज्ञापन प्रमुखता से लगाने होंगे.
  • रेस्टोरेंट में सोशल  डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखना होगा.
  • रेस्टोरेंट परिसर, पार्किंग और आसपास के इलाके में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाए.
  • ग्राहकों की संख्या अधिक होने पर उन्हें वेटिंग एरिया में बैठाया जाए.
  • वॉलेट पार्किंग में ड्यूटी करने वाले स्टाफ को मास्क, हैंड गलब्स पहनना जरूरी होगा.
  • पार्किंग के बाद कार की स्टेयरिंग, गेट के हैंडल को सैनिटाइज करना होगा.
  • ग्राहकों के आने और जाने के लिए अलग-अलग गेट होने चाहिए.
  • टेबलों के बीच भी उचित दूरी जरूरी है.
  • रेस्टोरेंट में 50% सिटिंग कैपिसिटी से ज्यादा लोग एक साथ बैठकर खाना नहीं खा पाएंगे.
  • रेस्टोरेंट खाना खिलाने के लिए डोस्पोजेबल का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • हाथ धोने के लिए तैलिया की जगह अच्छी क्वालिटी के नैपकिन का इस्तेमाल किया जाए.
  • ग्राहकों और रेस्टोरेंट को बफेट सर्विस के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा.
  • एलेवेटर्स में एक साथ ज्यादा लोगों के जाने पर पाबंदी होगी.
  • एसी का टेम्परेचर 24-30 डिग्री के बीच रखा जाए.
  • शुद्ध हवा के लिए वेंटिलेशन की भी उचित व्यवस्था होनी चाहिए.
  • रेस्टोरेंट परिसर में ठीक ढंग से सैनिटाइजेशन के इंतजाम जरूरी है.
  • पीने के पानी और हाथ धोने वाली जगहों पर सैनिटाइजेशन के इंतजाम जरूरी है.
  • बाथरूम और गेट के हैंडल भी साफ रखने होंगे.
  • रेस्टोरेंट को डिजिटल पेयमेंट को बढ़ावा देने के लिए इंतजाम करने होंगे.
  • हर कस्टमर्स के खाने के बाद उठने पर टेबलों को सैनिटाइज करना जरूरी होगा.
  • किचन एरिया को बराबर सैनिटाइज करना जरूरी होगा.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *