जब डंका बज रहा था तो फिर RSS और उपराष्ट्रपति के ब्लू टिक कैसे छिने : संपादकीय व्यंग्य

बताओ कहते हैं डंका बज रहा है..ऐसा डंका बजने का क्या फायदा है कि अमेरिका में बैठा ट्विटर हमारे देश … Continue reading जब डंका बज रहा था तो फिर RSS और उपराष्ट्रपति के ब्लू टिक कैसे छिने : संपादकीय व्यंग्य