आज से दफ्तरों में भी शुरू होगा टीकाकरण, जानें- मंत्रालय के दिशा-निर्देश और एक डोज की कीमत

देश में खतरनाक होती कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर को देखते हुए भारत सरकार ने टीकाकरण अभियान की गति बढ़ा दी है. बीते 24 घंटों में डेढ़ लाख से ज्यादा नए कोरोना के मरीज मिले हैं.

today covid-19 vaccination at workplaces in india

देना होगा इतना शुल्क

देश में आज से टीका उत्सव शुरू हो रहा है, इसी चरण में 11 अप्रैल यानी आज से सरकारी और निजी दफ्तरों में कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी. इसे लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं. निजी दफ्तरों में कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने के लिए उतना ही शुल्क लिया जाएगा, जितना निजी अस्पतालों में लिया जाता है यानी कि सभी शुल्क जोड़कर 250 रुपये प्रति डोज कीमत ली जाएगी.

-----

टीके के लिए पात्र कर्मचारियों को दी जाएगी वैक्सीन

-----

सरकारी और निजी दफ्तरों में कोविड टीके के लिए पात्र सभी कर्मचारियों को वैक्सीन दी जाएगी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कार्यस्थलों पर टीकाकरण की सुविधा कर्मचारियों को बाहर निकलने से रोकने में कारगर साबित होगी. साथ ही ज्यादा से ज्यादा लोगों को कोविड का टीका लगाकर कोरोना के खतरे से बचाया जा सकेगा.

एक ही कंपनी की दोनों डोज दी जाएगी

केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि एक दफ्तर में केवल एक तरह का ही टीका दिया जाएगा ताकि पहली और दूसरी डोज में कोई अंतर न आए. इसलिए पहले ही तय हो जाएगा कि किस दफ्तर में कौन सा टीका दिया जाना है. मतलब कि दफ्तर में एक ही कंपनी की दोनों डोज दी जाएगी. और अगर किसी कर्मचारी ने किसी सेंटर पर दूसरी कंपनी का टीका लगा लिया है, तो उसे उसकी अगली डोज के लिए उसी सेंटर पर जाना होगा.

किन दफ्तरों में होगा टीकाकरण ?

सरकार ने ये भी कहा है कि उन दफ्तरों में कोरोना टीकाकरण का काम शुरू किया जाएगा, जहां कम से कम 100 लोग इसे लेने के लिए तैयार होंगे. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके लिए अलग-अलग राज्य सरकारों को सर्कुलर भेज दिया है. दफ्तरों में इसके लिए कोविड वैक्सीनेशन सेंटर (सीवीसी) बनाए जाएंगे. कार्यस्थलों पर टीकाकरण के लिए हर जिले में डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स (डीटीएफ) बनाई गई है, जिसकी अध्यक्षता जिलाधिकारी करेंगे.

-----

सरकार का कहना है कि ये निर्णय 45-59 वर्ष की आयु (65 वर्ष तक के कुछ मामलों में) के बीच में आने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए लिया गया है. इस उम्र के लोग ज्यादा निजी और सरकारी ऑफिस में कार्यरत हैं.