सती होने के लिए सुहागन का श्रृंगार कर शमशान घाट पहुंची बुजुर्ग महिला

Ulta Chasma Uc  :   आज के दौर में सती होने का फैसला लेना ये बात किसी को हजम नहीं होगी. पर ये सच है मामला मैनपुरी के थाना कोतवाली क्षेत्र के ग्राम अंगोथा का है जहां सत्यभान नाम के व्यक्ति की रविवार रात वृद्धावस्था के कारण मौत हो गई. अगले दिन सोमवार को परिजन उसके अंतिम संस्कार की तैयारी कर ही रहे थे, तभी मृतक सत्यभान की पत्नी ‘लोंग’ ने अपने पति की चिता के साथ सती होने का निर्णय ले लिया. इसको सुनकर वहां मौजूद सभी लोग हैरान हो गए.

उसकी पत्नी ने कहा, मेरे पति सत्यवान थे, मैं उनकी सावित्री हूं. मेरी तपस्या पूरी हो चुकी है. अब मैं अपने पति के साथ ही उनकी चिता में साथ जलकर सती हो जाऊंगी. महिला के इस निर्णय ने पुलिस-प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दीं. जब शव लेकर शमशान घाट पहुंचे तो मृतक सत्यभान की पत्नी भी पूरे श्रृंगार के साथ वहां पहुंच गई. लोगों के काफी समझाने के बाद भी वो नहीं मानीं. पति की चिता सजने लगी तो वो उसी चिता के बगल में बैठ गईं. साथ में आईं महिलाएं भी गीत गाने लगीं.

The elderly woman reaching shamshan ghat to be sati
शमशान घाट पर मौजूद महिलाएं

सूचना मिलते ही पहुंचा प्रशासन

-----

इसी दौरान सती होने की सूचना मिलते ही एसडीएम सदर अशोक कुमार, सीओ करहल परमानंद पांडेय, इंस्पेक्टर कोतवाली जसवीर ¨सह सिरोही मौके पर पहुंच गए. वृद्धा को समझाने की बहुत कोशिश की. आखिर में पुलिस ने अपने बल का प्रयोग कर उन्हें सती होने से रोक लिया. पुलिस कर्मियों ने अपनी मौजूदगी में उसके पति का अंतिम संस्कार करवाया. बाद में पुलिस अधीक्षक अजय शंकर राय ने बताया कि बुजुर्ग महिला सती होना चाहती थी अब उन्हें समझा दिया है. मृतक सत्यभान के पौत्र ने बताया कि दादा-दादी के बीच बहुत प्यार था. कभी उन दोनों के बीच कहासुनी तक नहीं हुई. दादी ये बात अक्सर कहा करती थीं, कि अगर दादा की पहले मौत हो गई तो वो भी उनकी चिता के साथ सती हो जाएंगी.

क्या है सती प्रथा ?

सती प्रथा भारतीय हिन्दू समुदायों में प्रचलित एक ऐसी धार्मिक प्रथा थी, जिसमें किसी पुरुष की मृत्योपरांत उसकी पत्नी उसके अंतिम संस्कार के दौरान उसकी चिता में प्रविष्ट होकर आत्मत्याग कर लेती थी. ब्रह्म समाज के संस्थापक राजा राममोहन राय ने सती प्रथा के विरुद्ध समाज को जागरूक किया. जिसके फलस्वरूप इस आन्दोलन को बल मिला और तत्कालीन अंग्रेजी सरकार को विवश होकर सती प्रथा को रोकने के लिये कानून बनाना पड़ा. और अंग्रेजों ने भारत में इसे गैरकानूनी घोषित कर दिया. इस प्रकार भारत से सती प्रथा का अन्त हो गया.

Web Title :  The elderly woman reaching shamshan ghat to be sati

HINDI NEWS से जुड़े अपडेट और व्यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ FACEBOOK और TWITTER हैंडल के अलावा GOOGLE+ पर जुड़ें.