अखिलेश का फैन ये दलित लड़का स्वरित चौधरी ऑस्ट्रेलिया से पढ़कर लौटा है..ये मायावती को छोड़ अखिलेश का दीवाना क्यों है..पढ़िए पूरी कहानी… SWARIT CHUDHARY UNNAO SAFIPUR

UNNAO SAFIPUR : यूपी में अखिलेश यादव के पगचिन्हों पर चलने वाला एक नौजवान जो दलित समाज से है..लेकिन उसके आदर्श अखिलेश यादव हैं..एक दलित नौजवान जिसने ऑस्ट्रेलिया जाकर सिर्फ इसलिए पढ़ाई की..क्योंकि उसके आदर्श अखिलेश यादव भी ऑस्ट्रेलिया में पढ़े हैं..अखिलेश यादव ने मिलिट्री स्कूल से अनुशासन सीखा..लोहिया से राजनीति सीखी..ऑस्ट्रेलिया में रहकर विकासवादी सोच सीखी..और स्वरित (Swarit Chaudhary) अखिलेश से सीख लेकर अपनी कर्मभूमि उन्नाव के सफीपुर में लोगों की सेवा कर रहे हैं..

दोस्तों अगर पॉलिटिक्स प्रोफेशन है तो यहां दलित परिवार से होने के बावजूद विदेशों में पढे लिखे..स्वरित जैसे अंग्रेजी बोलने वाले..समाज को समझने वाले नौजवानों का प्रोमोशन होना चाहिए..दोस्तों स्वागत है आपका भारत एक सोच की सीरीज नया खून में..नया खून में आज हम आपको मिलवा रहे हैं..स्वरित चौधरी से..स्वरित चौधरी (Swarit Chaudhary) उन्नाव के सफीपुर से ताल्लुक रखते हैं..उन्नाव की सफीपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं..

दोस्तों स्वरित चौधरी (Swarit Chaudhary) चाहते हैं कि उन्नाव की देसी माटी से विकास की खुशबू आए..इसीलिए लाखों के पैकेज को ठोकर मारकर आस्ट्रेलिया से पढ़ाई करके सीधे सफीपुर अपने घर आ गए..और समाज सेवा में लग गए..स्वरित आस्ट्रेलिया में सिडनी से पब्लिक रिलेशन और सिडनी की ही यूनिवर्सिटी आफ टेक्नालॉजी से एमबीए पूरा किया है..इतना ही नहीं यूनिवर्सिटी आफ सिडनी से इलेक्ट्रोरल मैनेजमेंट का कोर्स भी किया है..स्वरित लॉ ग्रेजुएट भी हैं..सफीपुर में लोगों की फ्री में कानूनी मदद करते हैं..

पिछले 7 सालों से सफीपुर में रहकर लोगों की सेवा कर रहे हैं..स्वरित अखिलेश को अपना रोल मॉडल मानते हैं..और इलाके की पूरी दलित आबादी स्वरित को अपना रोल मॉडल मानती है..स्वरित (Swarit Chaudhary) सफीपुर के दलित बच्चों की पढ़ाई लिखाई में पूरी मदद करते हैं..दलित परिवारों की महिलाओं को स्वरित के भीतर मसीहा दिखाई देता है..वो मानती हैं कि स्वरित चौधरी उनकी अपनी बिरादरी होने के बाद भी विदेश तक पढ़ाई कर आए हैं..जो बड़ी बात है..

सफीपुर की दलित बस्तियों में स्वरित (Swarit Chaudhary) का स्वागत जीते हुए विधायक की तरह होता है..स्वरित भले बाहुबली ना हों..स्वरित के पास भले ही..बंदूक राइफल धारी लोग ना हों..स्वरित के पास भले ही हुंड़दंगियों की फौज ना हो लेकिन राजनीति के दूसरे सारे साधनों और संसाधनों से लैस हैं..

स्वरित (Swarit Chaudhary) अपने समाज के हीरो हैं…दोस्तों हम फिर से कहते हैं..पॉलिटिक्स अगर प्रोफेशन है..तो यहां अच्छे लोगों का प्रमोशन होना चाहिए..भारत एक सोच अपनी सीरीज नया खून में ऐसे ऐसे लोगों को खोजकर लाता रहेगा जो समाज के लिए कुछ कर सकने का माद्दा रखते हैं..जिनके पास राजनीति वाला तेज दिमाग भी है..जिनके बटुए में आग भी है..और जिनकी अपने समाज में साख भी है..जिनकी शिक्षा और सौम्यता पर समाज को नाज भी है..नमस्कार…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *