चिन्मयानंद की जेल में बिगड़ी सेहत, लखनऊ के पीजीआई में हुई इनजियोग्राफी

दुष्कर्म के आरोप में जेल भेजे गए पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद को सीने में दर्द की शिकायत के चलते आज चौथे दिन सोमवार को पीजीआई लखनऊ रेफर कर दिया गया. जहां उनकी इनजियोग्राफी की गई.

swami chinmayanand sent to lucknow for angiography
swami chinmayanand sent to lucknow for angiography

चिन्मयानंद को गंभीर हालत में लेकर पूर्व एमएलसी जयेश प्रसाद लखनऊ आये हैं, और पीजीआई में उन्हें भर्ती कराया. इसके बाद डॉक्टरों की टीम ने स्वामी चिन्मयानंद की इनजियोग्राफी की और उसके बाद कहा कि इनकी इनजियोप्लास्टी होगी, उनके स्टंट डाला जाएगा, तभी उनका हार्ट सही काम कर सकेगा. फिलहाल डॉक्टर उनकी जांच कर रहे हैं. पीजीआई के सीएमएस डॉ. अमित अग्रवाल ने बताया कि उनकी स्थिति सामान्य है. शाम को उनकी तबीयत की पूरी जानकारी दी जाएगी.

पूर्व एमएलसी जयेश प्रसाद ने बताया कि स्वामी जी की हालत बेहद गंभीर थी. उन्हें सांस लेने में भी दिक्कत हो रही थी. फिलहाल स्वामी चिन्मयानंद पीजीआई के आईसीयू वार्ड में हैं. स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है.

उधर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली छात्रा अब गिरफ्तारी से बचने के प्रयास में हैं. चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में नामजद ये छात्रा अग्रिम जमानत लेने के प्रयास में प्रयागराज पहुंची हैं. मगर छात्रा की स्टे की मांग को अदालत ने नामंजूर कर दिया है. साथ ही धारा 164 के तहत दोबारा कलमबंद बयान दर्ज करवाने की छात्रा की मांग को भी अदालत ने ठुकरा दिया.

छात्रा शनिवार देर रात ही गिरफ्तारी से बचने के लिए प्रयागराज रवाना हो गई थी. अब अग्रिम जमानत याचिका ठुकराए जाने के बाद छात्रा की गिरफ्तारी तय मानी जा रही है. अदालत ने साफ़ कहा कि छात्रा को गिरफ्तारी पर रोक के लिए दूसरी कोर्ट में अर्जी देनी होगी. दोबारा बयान की अनुमति नहीं दी जा सकती है. कोर्ट ने कहा कि मजिस्ट्रेट के अधिकार पर आपत्ति सही नहीं है. इस मामले में अगली सुनवाई के लिए अदालत ने 22 अक्तूबर की तारीख तय की है.

1,501 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *