17 पत्थरबाजों को भेजा जेल, रासुका के तहत होगी कार्रवाई, स्वास्थ्य और पुलिस टीम पर किया था हमला

मुरादाबाद में चिकित्सकों और पुलिसकर्मियों की टीम पर ताबड़तोड़ पत्थर बरसाने वाले 17 पत्थरबाजों पर बड़ी कार्यवाही करते हुए सभी को शुक्रवार सुबह जेल भेज दिया गया है.

stone pelting at medical and police team 17 persons sent to jail in moradabad
stone pelting at medical and police team 17 persons sent to jail in moradabad

मामला मुरादाबाद के थाना नागफनी क्षेत्र के नवाबपुरा में हाजी नेब वाली मस्जिद का है. यहाँ के निवासी एक कोरोना संक्रमित एक व्यक्ति की दो दिन पहले मौत हुई थी. इससे पहले मृतक के बड़े भाई की भी 11 अप्रैल को मौत हो गई थी. लेकिन उसकी कोरोना जांच नहीं हो पाई थी. दोनों ही चेन्नई से लौटकर आए थे. परिवार वालों को कोरोना न हुआ हो इसकी जांच के लिए बुधवार को डॉ. सुधीश चंद्र अग्रवाल की अगुआई में स्वास्थ्य विभाग की टीम मृतक के परिवार वालों को क्वारंटाइन कराने गई थी.

-----

तभी टीम पर लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया था. पथराव करके भीड़ ने टीम के तीन वाहनों को तोड़ दिया था. इतना ही नहीं कई डॉक्टर और पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं. जिसके बाद पत्थरबाजों पर बड़ी कार्यवाही शुरू हुई. सीसीटीवी फुटेज और वीडियो के आधार पर पुलिस ने 40 उपद्रवियों की पहचान की है. शुक्रवार तड़के तीन बजे अदालत बैठी. सुनवाई हुई और अदालत ने मुख्य 17 आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है.

इस काम में पुलिस और प्रशासनिक अमला रात भर जुटा रहा. ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है कि इतनी सुबह अदालत ने किसी मामले को सुने हो. इस मामले में पुलिस ने 12 और लोगों को हिरासत में लिया है. उनकी निशानदेही पर दबिश दी जा रही है. सभी हमलावरों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्रवाई होगी.

हमले से लेकर आरोपियों को जेल भेजने तक इस पूरे प्रकरण पर डीएम राकेश कुमार सिंह और एसएसपी अमित पाठक ने पैनी निगाह बनाए रखी. इन सभी आरोपियों की गिरफ्तारी से लेकर इनकी अदालत में पेशी और जेल जाने की प्रक्रिया के बाद ही अधिकारियों को चैन आया.