जया प्रदा पर आजम का अश्लील बयान, कहा- इनका अंडरवेअर खाकी रंग का है, फिर मचा बवाल-

लोकसभा चुनाव के चलते आये दिन नेता विवादित बयान दे रहे हैं. मगर सपा नेता आज़म खान ने तो सारी मर्यादाएं ही भूल गए हैं और बीजेपी की प्रत्यासी व बॉलीवुड की अदाकारा जया प्रदा पर विवादित बयान दे बैठे. अब वे मुश्किल में आ गए हैं.

sp leader azam khan Disputed statement on bjp leader jaya prada
sp leader azam khan Disputed statement on bjp leader jaya prada

जया प्रदा का नाम लिए बगैर आजम ने रविवार को रामपुर की एक जनसभा में मौजूद लोगों से पूछा, ‘क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए। क्या आप उसे वोट देंगे?’ आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवेअर खाकी रंग का है.

आजम खान की इस टिप्पणी पर जया प्रदा का तुरंत बयान आया. उन्होंने कहा कि मेरे लिए कोई नई बात नहीं है. आजम ने हद पार कर दी है. मेरा चरित्र हनन किया जा रहा है. हमारी रक्षा कौन करेगा ? आज़म को चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. अगर वे जीत गए, तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं होगी. हम कहां जाएंगे? क्या मुझे मर जाना चाहिए, तब आप संतुष्ट होंगे? आप सोचते हैं कि मैं डर जाऊंगी और रामपुर छोड़ दूंगी? लेकिन मैं नहीं छोड़ूंगी. आजम खान को हराकर छोड़ूंगी. आजम खान आदत से मजबूर हैं. वो सुधर नहीं सकते हैं.

इसके बाद अमर्यादित टिप्पणी पर आजम खान के खिलाफ रामपुर के शाहबाद थाने में केस दर्ज किया गया है. क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट ने उनके खिलाफ थाने में तहरीर दी और मुकदमा दर्ज कराया है. IPC की धारा 509 और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 में केस दर्ज किया गया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

आजम खान की टिप्पणी को राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी संज्ञान लिया है. महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि आज़म खान हमेशा महिलाओं के बारे में गंदी बात करते हैं, इस चुनाव में ये दूसरी टिप्पणी है, इसके लिए राष्ट्रीय महिला आयोग उन्हें नोटिस भेज रहा है. हम चुनाव आयोग को उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए भी लिख रहे हैं, क्योंकि उन्हें सबक सीखना होगा. रेखा शर्मा ने कहा कि मुझे लगता है, महिला मतदाताओं को इस तरह के लोगों के खिलाफ मतदान करना चाहिए जो इस तरह से महिलाओं के खिलाफ बयान देते हैं.