21 सितंबर से खुल जायेंगे स्कूल, SOP जारी, इन नियमों का करना होगा पालन

देश में अनलॉक-4 लागू हो चुका है और अब लगभग सारी पाबंदियां हट चुकी हैं. ऐसे में अब केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने स्कूलों को शुरू करने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) जारी कर दिया है.

SOP For Schools Colleges Students Coronavirus Outbreak
SOP For Schools Colleges Students Coronavirus Outbreak

9वीं से 12वीं तक की पढ़ाई आंशिक तौर पर शुरू करने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी हो गया है. 21 सितंबर से कक्षाओं में पढ़ाई शुरू हो जाएगी. आदेश में कहा गया है कि स्कूल अपने यहां पढ़ाई शुरू करने का फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं. क्लासेस अलग-अलग टाइम स्लॉट में चलेंगी और कोरोना के लक्षण वाले स्टूडेंट्स को एंट्री नहीं दी जाएगी.

टीचर्स, स्टूडेंट्स और स्कूल के स्टाफ को 6 फीट की दूरी रखनी होगी. लगातार हाथ धोने, फेस कवर पहनने, छींक आने पर मुंह पर हाथ रखने, खुद की सेहत की मॉनिटरिंग करने और थूकने जैसी चीजों का ध्यान रखना होगा. सबसे बड़ी बात ये है कि स्कूल आने के लिए पैरेंट्स से लिखित मंजूरी लेनी होगी. छात्र किताब, कॉपी, पेंसिल, पेन, वॉटर बॉटल, जैसी चीजें शेयर नहीं कर पाएंगे. प्रैक्टिकल के वक्त छात्र अलग-अलग सेशन में जाएंगे. ज्यादा स्टूडेंट्स को एक साथ लेबोरेटरी में नहीं जाने दिया जाएगा.

स्कूल खोलने से पहले पूरे परिसर, क्लासरूम, लेबोरेट्री, बॉथरूम को सैनिटाइज करवाना होगा. जिन स्कूलों को क्वारैंटाइन सेंटर के तौर पर यूज किया गया था, उन्हें अच्छी तरह सैनिटाइज करवाना होगा. टीचर्स, कर्मचारियों को फेस मास्क, हैंड सैनिटाइजर, उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी स्कूल मैनेजमेंट को होगी.

वहीं 21 सितंबर से सारे सामाजिक, अकादमिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक राजनीतिक कार्यक्रमों में 100 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी. कौशल संस्थानों, आईटीआई, व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थाओं में ट्रेनिंग शुरू हो सकेगी. उच्च शिक्षा और गृह विभाग की सहमति के बाद पीएचडी स्कॉलर्स और लैब वर्क वाले पीजी छात्र बुलाए जा सकेंगे.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *