बीजेपी ने शिवसेना के बाद अब AIADMK से भी किया गठबंधन

लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी अपने आप को मज़बूत करने में लग गई है. बीजेपी अभी अपने सहयोगी दलों को जोड़ने में लगी है. ताकि वे किसी और से गठबंधन न कर लें. कल महाराष्ट्र में शिवसेना को बीजेपी ने फिर से अपने साथ जोड़ लिया और अपना पुराना रिश्ता फिर से कायम कर लिया है.

shivsena again with bjp and aiadmk alliance final
shivsena again with bjp and aiadmk alliance final

वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने तमिलनाडु में भी पीएमके को मनाते हुए एआईडीएमके के साथ गठबंधन फाइनल कर लिया है. अपनी मांगों पर गठबंधन से छिटकती दिख रही पट्टली मक्कल काची(पीएमके) को बड़ा फायदा हुआ है, उसे कुल 39 सीटों में से 7 सीटें दी गई है. विधानसभा उपचुनाव में 21 सीटों पर सपोर्ट के बदले में पीएमके को लोकसभा की 7 सीटें मिली है.

-----

एआईएडीएमके नेता पन्नीरसेल्वम ने इस गठबंधन की घोषणा करते हुए कहा कि पीएमके ने मंगलवार को बीजेपी से गठबंधन ज्वाइन किया है और लोकसभा चुनाव में पीएमके को 7 सीटें दी गई हैं. एआईएडीएमके गठबंधन विधानसभा उपचुनाव में 21 खाली सीटों पर लड़ेगा, जिसमें पीएमके उन्हें सपोर्ट करेगी. अब एआईएडीएमके को घेरने के लिए डीएमके कांग्रेस के साथ मिलकर आठ दलों का गठबंधन तैयार कर रहा है.

वहीं कल करीब एक साल चली तनातनी के बाद भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना में फिर से दोस्ती हो गई है. और सीटों का भी बटवारा हो गया है. बीजेपी 25 सीटों पर जबकि शिवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसके साथ ही विधानसभा चुनाव में दोनों पार्टियां बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. बैठक के बाद दोनों नेताओं ने साझा प्रेस कांफ्रेंस की. जिसमें सीएम देवेंद्र फणनवीस भी इस दौरान मौजूद रहे और महत्वपूर्ण घोषणा की.

1989 में पहली बार शिवसेना और भाजपा ने गठबंधन किया था. तब से लेकर आज तक ये राजनीतिक रिश्ता जारी है. महाराष्ट्र में 48 सदस्यीय लोकसभा सीट है. राजनीतिक हलके में इसे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की बड़ी जीत के रूप में देखा जा रहा है.