15 अगस्त: चप्पे-चप्पे पर जवान तैनात, दिल्ली की सीमाएं सील, लालकिले तक अभेद्य सुरक्षा

आज स्वतंत्रता दिवस है. आज भारत अपना 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. ये दिन जितना ही खुशियों और जश्न वाला होता है उतना ही संवेदनशील भी होता है. अभी हालही में अनुच्छेद 370 में संशोधन किया गया है. इस लिए आज सुरक्षा एक बड़ी चुनौती बन गई है.

security tightened red fort in delhi for 15 august
security tightened red fort in delhi for 15 august

जम्मू कश्मीर के माहौल को देखते हुए स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं. हर संभावित आतंकी खतरे से निपटने के लिए देश की तमाम सुरक्षा और खुफिया एजेंसियां समेत बीएसएफ, सीआरपीएफ, आइटीबीपी, एसएसबी, एनएसजी, एसपीजी, एयरफोर्स व दिल्ली पुलिस पूरी तरह से तैयार है. हाईवे और संपर्क मार्गों पर निगरानी कड़ी करने के निर्देश दिए गए हैं. मुख्य सड़कों और नदी-नालों तक पर नजर रखी जा रही है.

-----

किसी भी तरह के हमले को रोकने के लिए 7 लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास से लेकर लालकिला तक अभेद्य सुरक्षा व्यवस्था की गई है, बल्कि पूरी दिल्ली में सुरक्षा के इतने खास प्रबंध किए गए हैं कि परिंदा भी पर नहीं मार सकेगा. चप्पे-चप्पे पर पुलिस और पैरा मिलिट्री की तैनाती की गई है. औचक जांच के जरिये पूरी सतर्कता बरती जा रही है. आने-जाने वाले लोगों पर तो खास नजर रखी ही जा रही है.

बुधवार आधी रात 12 बजे दिल्ली की सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं. एक भी व्यावसायिक वाहन को दिल्ली में प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा. निजी वाहनों की भी सघन तलाशी के बाद ही दिल्ली में प्रवेश करने दिया जा रहा है. मेट्रो स्टेशन खुले रहेंगे लेकिन सभी स्टेशनों के बाहर पार्किंग बंद कर दी गई है. वाहन पार्किंग की व्यवस्था 15 अगस्त दोपहर 2 बजे तक बंद रहेगी. वहीं स्कूल-कॉलेज, गली-कूचे और गेस्ट हाउसों तक पर नजर रखी जा रही है.

वहीं अनुच्छेद 370 हटने के बाद 15 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब यहां तिरंगा फहराएंगे, तो ये किला भी अपने 370 साल पूरा कर चुका होगा. 17वीं से 21वीं सदी तक के बदलाव के साक्षी रहे लालकिले की प्राचीर से इस स्वतंत्रता दिवस पर अखंड राष्ट्र की सशक्त तस्वीर दिखाई देगी.

लाल किले की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. वीआईपी इलाकों में मैनहोल तक सील करवा दिए गए हैं ताकि कोई मैनहोल के अंदर न तो छिप सके, न ही इसके रास्ते लाल किले तक पहुंच पाए.

आसमान से कोई लाल किला या उसके आसपास हमला न कर दे, इसके लिए लाल किला, आइएसबीटी, गीता कालोनी फ्लाईओवर, सिविक सेंटर जैसी पांच दर्जन से अधिक ऊंची इमारतों की छतों पर एंट्री एयरक्राफ्ट और एयर डिफेंस गन लगाए गए हैं. इन हथियारों के जरिये हवाई हमले को मिनटों में ध्वस्त किया जा सकता है.