रोहिंग्या मुसलमानों को इस द्वीप पर कैद कर रहा बांग्लादेश.. यहां से भाग पाना नामुमकिन है.. पढ़ें पूरी रिसर्च रिपोर्ट

रोहिंग्या मुसलमानों rohingya muslims के लिए बांग्लादेश ने एक बड़ी जेल बना रही है जिसका नाम है भासन चार. भासन चार कहाँ है ? यहाँ क्या होता है ? बांग्लादेश रोहिंग्या मुसलमानों rohingya muslims पर इतना अत्याचार क्यों कर रहा है ? आज हम इस बारे में आपको सब कुछ बताएंगे-

रोहिंग्या मुसलमानों को इस द्वीप पर कैद कर रहा बांग्लादेश.. यहां से भाग पाना नामुमकिन है..
रोहिंग्या मुसलमानों को इस द्वीप पर कैद कर रहा बांग्लादेश.. यहां से भाग पाना नामुमकिन है.. पढ़ें पूरी रिसर्च रिपोर्ट

कॉक्स बाजार में रहते हैं लाखों रोहिंग्या शरणार्थी

लाखों की संख्या में रोहिंग्या शरणार्थी बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में रहते हैं. म्यांमार से जान बचाकर भागे हजारों रोहिंग्या शरणार्थी भी यहीं रहते हैं. संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार की सेना द्वारा कराये गए इन हमलों को ‘नस्लीय नरसंहार का स्पष्ट उदाहरण’ घोषित किया था. इस समय कॉक्स बाज़ार लगभग दस लाख रोहिंग्या शरणार्थियों का घर है. बांग्लादेश प्रशासन ने यहाँ ज़रूरत से ज़्यादा भरे हुए शरणार्थी कैंपों को हटाने के लिए धीरे धीरे सबको एक अलग जगह भेजने का इंतजाम क्या है.

-----
कॉक्स बाजार
कॉक्स बाजार

यहाँ से हटाए जाने पर रोहिंग्या शरणार्थियों ने किया विरोध प्रदर्शन

-----

जिसके लिए रोहिंग्या शरणार्थियों ने बांग्लादेश सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है. इन रोहिंग्या मुसलमानों rohingya muslims का कहना है कि इन्हें कैप्स से निकालकर एक ऐसे द्वीप पर भेजा गया है, जहां रहने के लिए स्थितियां ठीक नहीं हैं. साथ ही मांग की है कि संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के अधिकारियों को यहां का दौरा करना चाहिए. स्थानीय पुलिस अध्यक्ष आलमगीर हुसैन ने कहा, ‘यहां रहने वाले रोहिंग्या अनियंत्रित हो गए हैं. बतादें कि बंगाल की खाड़ी में कहीं स्थित इस द्वीप पर दिसंबर में पहली बार भारी संख्या में लोग लाए गए थे.

कहाँ भेजे जा रहे रोहिंग्या मुसलमान ?

अब जानते हैं कि जहाँ इन रोहिंग्या मुसलमानों rohingya muslims को भेजा जा रहा है वो है कहाँ ? इसका नाम है भासन चार और ये एक आईलैंड है और ये बंगाल की खाड़ी पर बसा है. भासन चार समंदर के बीच मौजूद है. इस द्वीप को 20 साल पहले समुद्र में खोजा गया था. यहां अक्सर बाढ़ आती रहती है. मानसून के दौरान यहां का अधिकांश हिस्सा जलमग्न रहता है. सबसे डरावनी बात ये है कि ये द्वीप समुद्र से सिर्फ़ दो मीटर यानी सिर्फ़ छह फ़ीट की ऊंचाई पर है और लोगों में डर है कि कोई भी बड़ा तूफ़ान उनके लिए जानलेवा साबित हो सकता है.

रोहिंग्या को क्यों हटा रहा बांग्लादेश ?

शरणार्थी कैंप जिन्हें रोहिंग्या मुसलमानों rohingya muslims ने कुछ सालों पहले अपना घर बनाया, बांग्लादेश प्रशासन का कहना है कि वे यहाँ अब अपराध का गढ़ बन चुके हैं. इसलिए सरकार इन सभी को समुद्र के बीच मौजूद भासन चार पर भेज रही है. भासन चार जिसे 350 मिलियन डॉलर ख़र्च करके बांग्लादेश ने शरणार्थियों के लिए तैयार किया है. भासन चार द्वीप बांग्लादेश की मुख्यभूमि से 60 किलोमीटर दूर है और यहाँ किसी भी पत्रकार, अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं और मानवाधिकार संगठनों को स्वतंत्र रूप से जाने की अनुमति नहीं है.

-----

समुद्र में कभी भी समां सकता है भासन चार

यहां की कठिन जलवायु और बुनियादी सुविधाओं के अभाव की वजह से कई मानवाधिकार संगठनों ने रोहिंग्या शरणार्थियों को यहां भेजने पर चिंता जताई है. मतलब आप आसान भाषा में समझिये की बांग्लादेश को 20 साल पहले समुद्र में एक टापू मिला जो समुद्र से ही ऊपर आया था. अब सरकार अपने वहां से रोहिंग्या मुसलमानों को हटा का इस टापू पर भेज रही है. ऐसा भी नहीं है की ये टापू जो भासन चार के नाम से जाना जाता है वो समुद्र से ही ऊपर ही रहेगा. ये कभी भी वापस समुद्र में समां सकता है और यहाँ रह रहे लोगो की मौत हो सकती है.

भासन चार में अच्छे भविष्य की उम्मीद नहीं

बांग्लादेश की सरकार कॉक्स बाजार में मौजूद लाखों रोहिंग्या मुसलमानों को धीरे धीरे भासन चार द्वीप भेजने की कोशिश कर रही है. लेकिन क्या आप जानते हैं की यहाँ उनके साथ क्या क्या हो रहा है ? शरणार्थियों से जब बीबीसी ने बात की तो उन्होंने बताया कि भासन चार एक ऐसी जगह है जहाँ कोई काम नहीं है. बहुत कम सुविधाएं हैं और एक अच्छे भविष्य की उम्मीद भी ना के बराबर है.

बांग्लादेशी अधिकारियों ने किया था ये वादा

शरणार्थियों ने बताया कि जो लोग इस जगह से भागने की कोशिश करते हैं, उन्हें पकड़कर पीटा जाता है. साथ ही यहाँ रहने वाले शरणार्थी मानसिक तनाव बढ़ने की वजह से एक-दूसरे के साथ झगड़ने लगे हैं. एक मुश्लिम महिला ने बीबीसी से बात करते हुए बताया कि बांग्लादेशी अधिकारियों ने हमें वादा किया था कि हर परिवार को ज़मीन का टुकड़ा (प्लॉट) मिलेगा. गाय-भैंसें मिलेंगी और व्यापार शुरू करने के लिए एक लोन भी मिलेगा. लेकिन हकीकत इससे बिलकुल अलग थी.

ये हैं यहाँ की सच्चाई

महिला ने बताया कि यहाँ रहने वाले लोग बुनियादी खान-पान की चीज़ों के अलावा कुछ और नहीं ख़रीद सकते. यहाँ चावल, दाल और तेल जैसी चीज़ें तो दी जाती हैं, पर खाने का दूसरा सामान जैसे सब्ज़ियाँ, मछली और मीट उन्हें ख़रीदना पड़ता है. यहाँ कोई बाज़ार नहीं है, पर कुछ बांग्लादेशियों ने यहाँ दुकानें खोली हैं. हम ग़रीब लोग हैं और हमारे पास खाना या दूसरी चीज़ें ख़रीदने का कोई ज़रिया नहीं है. मैं कभी ऐसी जगह पर नहीं रही. यहाँ चारों तरफ समंदर है और हम यहाँ फंसे हुए हैं. हमारे पास जाने के लिए कोई जगह नहीं है. एक दूसरी महिला ने बीबीसी को बताया कि अगर आप अपने परिवार के साथ एक बड़ी जेल में रहना चाहते हैं, तो ये द्वीप आपके लिए ही बना है.

लोगों को दिया जा रहा मानसिक तनाव

आपको बतादें कि इस द्वीप पर फ़रवरी में हुए पहले विरोध-प्रदर्शन का कारण भोजन ही था. अब भासन चार में रह रहे लोगों में बेचैनी बढ़ रही है और कुछ लोग यहाँ से जाने के लिए अपनी जान भी दाँव पर लगा रहे हैं. अत्याचार की बार करें तो ह्यूमन राइट्स वॉच ने बताया है कि भासन चार में बच्चों को अपनी तयशुदा जगह से बाहर निकलने के लिए सज़ाएं दी गईं. 12 अप्रैल की ही एक घटना है जब एक बांग्लादेशी नाविक ने कथित तौर पर चार बच्चों को पीवीसी पाइप से पीटा क्योंकि वो अपने कमरे को छोड़कर किसी दूसरे कमरे में रह रहे बच्चों के साथ खेलने के लिए चले गए थे.

संयुक्त राष्ट्र ने कहा यहाँ नागरिकों को दिया जाए कैंप का प्रबंधन

रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे अत्याचार पर संयुक्त राष्ट्र चुप है. उनका कहना है कि वो इन आरोपों की पुष्टि अभी नहीं कर पाये हैं. हालांकि, संयुक्त राष्ट्र चाहता है कि इस कैंप का प्रबंधन नौसेना की जगह नागरिकों को दे दिया जाये ताकि यहाँ सब कुछ सौहार्द और सुचारू रूप से हो. लेकिन बांग्लादेश की सरकार वादा कर रही है कि भासन चार में रहने वाले 18,400 शरणार्थियों और दूसरे शरणार्थी जो यहाँ जल्दी आकर बसने वाले हैं, उन्हें कमाई करने का ज़रिया देंगे.

सवाल – भासन चार प्रोजेक्ट क्या है ? What is Bhasan Char Project?
उत्तर – बांग्लादेश अपने वहां के सारे रोहिंग्या मुसलमानों को एक अलग द्वीप पर भेज रहा है. Bangladesh is sending all its Rohingya Muslims to a separate island.
सवाल – भासन चार आईलैंड कहाँ हैं ? Where is Bhasan 4 Island?
उत्तर – भासन चार आईलैंड बांग्लादेश में 60 किमी दूर समुद्र के बीच में मौजूद है. Bhasan Char Island is situated in the middle of the sea 60 km away in Bangladesh.
सवाल – भासन चार आईलैंड कितना बड़ा है ? How big is Bhasan 4 Island?
उत्तर – भासन चार आईलैंड 40 वर्ग किलोमीटर बताया जाता है. Bhasan Char Island is said to be 40 square kilometers.
सवाल – रोहिंग्या मुसलमानों को कहाँ भेजा जा रहा है ? Where are Rohingya Muslims being sent?
उत्तर – रोहिंग्या मुसलमानों को भासन चार आईलैंड भेजा जा रहा है. Rohingya Muslims are being sent to Bhasan Char Island.

ये भी पढ़ें-

बच्चों में फ़ैल रहा MIS-C का खतरा, कैसे और क्यों हो रही है ये बीमारी ? पढ़ें पूरी रिसर्च रिपोर्ट-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *