crossorigin="anonymous"> आपको रोज कितनी ऑक्सीजन की जरूरत होती है ? साँस कैसे लेनी चाहिए ? आक्सीजन लेवल कैसे बढ़ाएं ? जानें सबकुछ- Ulta Chasma Uc

आपको रोज कितनी ऑक्सीजन की जरूरत होती है ? साँस कैसे लेनी चाहिए ? आक्सीजन लेवल कैसे बढ़ाएं ? जानें सबकुछ-

कोरोना की दूसरी लहर तेजी से लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रही है और रोज हज़ारों लोगों की इससे मौत भी हो रही है. दूसरी लहर में लोगों को ऑक्सीजन की कमी हो रही है जिससे पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है. क्या आप जानते हैं कि आपको रोज कितनी ऑक्सीजन की जरुरत होती है ? आइये जानते हैं-

आपको कितनी ऑक्सीजन की जरुरत ?

एक वयस्क इंसान जब कोई काम नहीं करता है तो उसे सांस लेने के लिए हर मिनट 7 से 8 लीटर हवा की जरूरत होती है. यानी की रोज करीब 11,000 लीटर हवा चाहिए होती है. अब इस हवा में ऑक्सीजन कितनी है वो भी समझिये- सांस के जरिए फेफड़ों में जाने वाली हवा में 20% ऑक्सीजन होती है, जबकि छोड़ी जाने वाली सांस में 15% रहती है. यानी सांस के जरिए भीतर जाने वाली हवा का मात्र 5% का इस्तेमाल होता है. फिर यही 5% ऑक्सीजन है जो कार्बन डाइऑक्साइड में बदलती है.

-----
Rise 10 percent Oxygen Level in covid patient fight against corona

मतलब की एक इंसान को 24 घंटे में करीब 550 लीटर शुद्ध ऑक्सीजन की जरूरत होती है. मेहनत का काम करने या वर्जिश करने वाले लोगों को ज्यादा ऑक्सीजन चाहिए होती है. एक स्वस्थ वयस्क इंसान एक मिनट में 12 से 20 बार सांस लेता है. हर मिनट 12 से कम या 20 से ज्यादा बार सांस लेना किसी परेशानी की निशानी है.

-----

नाक से सांस लेना सबसे बेहतर

दुनिया में मशहूर किताब ‘ब्रीद : द न्यू साइंस ऑफ अ लॉस्ट आर्ट’ के लेखक जेम्स नेस्टर कहते हैं- नाक से सांस लेना सबसे बेहतर है. मुंह से सांस लेना यानी हवा में मौजूद सबकुछ अंदर खींच लेना है. नाक हवा को फिल्टर कर फेंफड़ों में भेजती है. मुंह से सांस लेने से शरीर में ऑक्सीजन कंसंट्रेशन बिगड़ता है. इससे हाई ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी और नींद खराब होती है.

सांस को धीरे-धीरे लेना भी एक एक्सरसाइज है. आप नाक से 5 से 6 सेकंड तक सांस को धीरे-धीरे खींचे और फिर नाक से ही 5 से 6 सेकंड तक सांस को वापस छोड़ें. इससे आप भले ही सांस कम लेंगे लेकिन गहरी और अच्छी सांस लेंगे.

ऑक्सीजन को कैसे बढ़ाएं ?

अगर आपको साँस लेने में दिक्क्त हो रही है और ऑक्सीजन 90 के नीचे जा रहा है तो मरीज को भर्ती होने की ही सलाह दी जाती है. मगर जब तक वह भर्ती नहीं होते, घर पर ही आक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करें. परामर्श के अनुसार अपनी दवाएं लेते रहें. साथ ही पेट के बल लेटकर प्रोन वेंटिलेशन करें. इससे ऑक्सीजन लेवल बढ़ जाता है. यानि कि सीने के पास मुलायम तकिया लगा कर लेटे हुए लंबी सांस लें और फिर छोड़ें इससे पांच से 10 फीसद तक आक्सीजन का स्तर बढ़ रहा है. घबराएं नहीं, परिस्थितियों का मुकाबला करें. कई डाक्टरों व मरीजों पर ये प्रयोग सफल रहा है. आक्सीजन जब 90 के ऊपर स्थिर हो जाए तो आक्सीजन सपोर्ट हटा सकते हैं.

-----

ये भी पढ़ें-

मेडिकल ऑक्सीजन क्या है ? कैसे बनती है ? हमारे वातावरण में कितनी ऑक्सीजन है ? जानें सब कुछ-

ऑक्सीजन की कमी से थम रहीं सांसें, हाईकोर्ट ने कहा- सप्लाई में रुकावट डालने वाले को चढ़ा देंगे फांसी

बहुत बड़ा ऑक्सीजन घपला हुआ है ?