आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का Twitter अकाउंट AR रहमान ने कैसे लॉक कराया ? : संपादकीय व्यंग्य

Pragya Ka Panna Editorial
Pragya Ka Panna Editorial

भारत के आईटी मंत्री का ट्विटर अकाउंट एक घंटे के लिए बंद हुआ था..ऐसा लगा जैसे कोरोना की तीसरी लहर आ गई हो..मंत्री जी भारत में कोरोना की दूसरी लहर देखकर भी इतना नहीं घबराए होंगे जितना ट्विटर अकाउंट 1 घंटे लॉक होने पर घबरा गए..और सुनिए मंत्री जी का ट्विटर अकाउंट बंद कराने के पीछे कौन था..सुनेंगे यकीन नहीं होगा..ए आर रहमान हां वही हमारे देश के सिंगर ए आर रहमान..सही बता रहे हैं..ए आर रहमान ने कैसे 5 साल बाद बीजेपी के आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का ट्विटर अकाउंट लॉक कराया आगे बताएंगे..

    इनके बारे में अगर आप नहीं जानते हैं तो पूरी जानकारी ले लीजिए..ये रविशंकर प्रसाद हैं..भारत के आईटी मिनिस्टर है..ट्विटर से छिड़े युद्ध के सेनापति यही हैं..और ट्विटर इन्हीं का अकाउंटर लॉक करके भाग गया..रविशंकर प्रसाद छोटे मोटे आदमी नहीं हैं..एक तो पहले से बीजपी के नेता थे..ऊपर से भारत के आईटी मंत्री भी हैं..ट्विटर को काबू में करने के लिए कानून तक बदल चुके हैं..फिर भी मंत्री जी का ही अकाउंट लॉक दिया..समझ में ये नहीं आ रहा है कि आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद के कानून पर ट्विटर चल रहा है या ट्विटर के कानून पर रविशंकर प्रसाद का खाता चल रहा है..मंत्री जी का अकाउंट एक घंटे लॉक रहा..

मंत्री जी को पत्रकारों वाली फीलिंग आने लगी..आपतकाल जैसा महसूस होने लगा..बेचैनी बढ़ने लगी..तो फिर अकाउंट लॉक करने वाला नोटिस दिखाकर सबको बताया कि उनके साथ ट्विटर ने ये कांड कर दिया है..करीब एक घंटे तक ट्विटर ने अकाउंट लॉक रखा..ट्विटर ने कहा हमने मंत्री जी का अकाउंट..अमेरिकी कानून डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट ऐक्ट के कारण लॉक किया था..

अब ये अमेरिकी कानून कौन सी बला है और एआर रहमान ने रविशंकर प्रसाद का अकाउंट कैसे बंद कराया सब बताएंगे..पहले ये अमेरिकी कॉपीराइट कानून के बारे में जान लीजिए..डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट यानी डीएमसीए अमेरिका का एक कॉपीराइट कानून है इसको अक्टूबर 1998 में अमेरिका में लागू किया था..क्योंकि उस समय अमेरिका में कंटेंट खूब चोरी हो रहा था..पता चला रात में गाना गाया राम लाल ने और सुबह उसको घसीटे लाल अपना बताने लगे..इसी को रोकने के लिए तब के अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने ये कानून बनाया था..जिसके चलते रविशंकर प्रसाद का ट्विटर बंद हो गया..

अब बताईये जो मंत्री ट्विटर के लिए कानून बना रहा हो..उसका ही अकाउंट ट्विटर लॉक कर दे तो कैसा लगेगा..मंत्री जी ने कहा है कि, “ट्विटर की कार्रवाई इन्फॉर्मेशन टेक्नॉलॉजी रूल्स, 2021 का खुला उल्लंघन है. मेरे एकाउंट को एक्सेस करने से मुझे रोकने से पहले मुझे नोटिस नहीं दिया गया.. मंत्री जी ने आगे कहा..

“ऐसा लगता है कि ट्विटर की मनमानी और एकतरफ़ा हरकतों को लेकर मैंने जो बयान दिए, ख़ास तौर पर मेरे इंटरव्यू के क्लिप्स को टीवी चैनलों के साथ शेयर करने और उसके ज़ोरदार असर से उन्हें तकलीफ़ हुई है..लेकिन मंत्री जी मैंने पता लगवाया है..आपका अकाउंट टिविटर ने आज से 5 साल पहले वाले एआर रहमान के गाने के कारण बंद हुआ था..

-----

हुआ ये था 1971 युद्ध के विजय दिवस पर 2017 में रविशंकर प्रसाद ने अपने अकाउंट पर एक वीडियो डाला था..जिसमें मां तुझे सलाम..गाना लगा हुआ था..2017 की पोस्ट पर रविशंकर प्रसाद पर 25 जून 2021 को सोनी म्यूजिक की आपत्ति पर ए आर रहमान के गाए गाने पर डिजिटल मिलेनियम कॉपी राइट एक्ट लग गया और अकाउंट लॉक हो गया..रविशंकर का अकाउंट सीधे तौर सोनी म्यूजिक और एआर रहमान ने नहीं लॉक कराया…

बल्कि ट्विटर का एल्गॉरिथम ऐसी कॉपीराइटेड चीजें खुद ही पकड़ता रहता है..लेकिन रविशंकर प्रसाद के केस में..ट्विटर की तरफ से की गई ये कार्रवाई ट्विटर की जानबूझकर आईटी मंत्री को उकसाने की कोशिश मालूम पड़ती है..क्योंकि इससे पहले उप राष्ट्रपति और RSS के बड़े नेताओं के ब्लूटिक भी छीने जा चुके थे..दोस्तों चलते हैं राम राम दुआ सलाम जय हिंद..मुझे ट्विटर पर @PRAGYA LIVE नाम से खोजकर ट्विटर पर फॉलो जरूर करिए..क्योंकि मेरा ट्विटर के साथ कोई पंगा नहीं है..

स्क्लेमर- लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. भाषा में व्यंग्य है. लेखक का मक्सद किसी पार्टी किसी व्यक्ति किसी सरकार किसी धर्म जाति किसी मानव किसी जीव या फिर किसी संवैधानिक पद का अपमान करना या उनके सम्मान को छति पहुंचाने का नहीं है.. इसलिए व्य्ग्य को व्यंग्य की तरह लें..लेख में सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. भाषा में स्थानीय या यूपी की रीजनल भाषा को सरल करके प्रस्तुत किया गया है. समझाने के लिए बात घुमाकर कही गई है.

2 thoughts on “आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का Twitter अकाउंट AR रहमान ने कैसे लॉक कराया ? : संपादकीय व्यंग्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *