उग्र हुआ किसान आंदोलन, प्रदर्शनकारियों ने पुल से नीचे फेंकी बैरिकेडिंग, सीमा पर बवाल

केंद्रीय कृषि सुधार कानूनों के विरोध में पंजाब-हरियाणा के किसान ‘दिल्ली चलो’ मार्च निकाल रहे हैं. अंबाला हाईवे पर रोके जाने के दौरान किसानों की पुलिस से झड़प हुई. इसमें 100 किसान हिरासत में लिए गए हैं.

punjab haryana farmers protest agriculture act
punjab haryana farmers protest agriculture act

क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है. वरिष्ठ अधिकारी हालात पर नजर रखे हुए हैं. ड्रोन से भी नजर रखी जा रही है। दिल्ली कूच में एक लाख किसानों के जुटने का दावा किया जा रहा है. अंबाला- पटियाला बॉर्डर पर प्रदर्शन उग्र हो गया है. किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़कर आगे बढ़ने की कोशिश की है. पथराव भी हुआ है. इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछार की और आंसू गैस के गोले दागे.

-----

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस फोर्स के अलावा CRPF की 3 बटालियन तैनात की गई हैं. पुलिस के मुताबिक, आने-जाने वाले हर वाहन पर नजर रखी जा रही है. होमगार्ड के जवान भी तैनात हैं. दिल्ली की ओर कूच कर रहे किसान शंभू बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों ने शंभू बॉर्डर पर पुलिस बैरिकेड को पुल के नीचे फेंक दिया है. किसानों ने चेतावनी दी है कि यह उन्हें रोका गया तो वे दिल्ली जाने वाले सारे रास्ते जाम कर देंगे.

हरियाणा सरकार ने ऐलान किया है कि किसानों को किसी कीमत पर हरियाणा में घुसकर माहौल खराब करने नहीं दिया जाएगा. इसके लिए दिल्ली-चंडीगढ़ हाईवे ब्लॉक कर दिया गया है. इस बीच केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा है कि ‘केंद्र सरकार के तीनों खेती बिल किसान विरोधी हैं. ये बिल वापिस लेने की बजाय किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है, उन पर वॉटर कैनन चलाई जा रही हैं. किसानों पर ये जुर्म बिलकुल ग़लत है. शांतिपूर्ण प्रदर्शन उनका संवैधानिक अधिकार है.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा, ‘किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है. किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं.

उधर मोदी सरकार की विभिन्न नीतियों के विरोध में 10 केंद्रीय यूनियनों द्वारा संयुक्त रूप से बुलाए गए देशव्यापी हड़ताल ‘भारत बंद’ में 25 करोड़ मजदूर भाग ले रहे हैं. इस हड़ताल में कई परिवहन यूनियन और बैंक यूनियन भाग ले रहे हैं. इस कारण देशभर में यात्रियों और बैंक ग्राहकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.