घर से उठाए जा रहे PUBG गेम खेलने वाले, अबतक 12 गिरफ्तार, क्या आप भी खेलते हैं ? तो पढ़ लें-

आज पबजी गेम खेलने वालों की संख्या इतनी बढ़ गई है. की आपको हर कहीं ये गेम खेलते हुए कई लोग मिल जायेंगे. मगर अब ये गेम खेलना आपके लिए मुसीबत बन सकता है. क्या आप भी पबजी गेम खेल रहे हैं तो पहले ध्यान सें पढ़ लें-

pubg mobile bannned police arrests 10 people
pubg mobile bannned police arrests 10 people

अगर आप चोरी-छिपे पबजी खेल रहे हैं तो आज ही बंद कर दीजिए, क्योंकि पुलिस आपको किसी भी वक्त कहीं से भी गिरफ्तार कर सकती है. और गुजरात की राजकोट पुलिस ने पबजी गेम खेलते हुए 12 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है और उनके स्मार्टफोन भी जब्त किए गए हैं. जिन 12 लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें से 6 अंदर ग्रेजुएट्स हैं जो पिछले 2 दिनों से लगातार पबजी खेल रहे थे.

बतादें कि पिछले हफ्ते ही गुजरात के राजकोट पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल ने सख़्त आदेश जारी करते हुए जिले में पबजी गेम पर 30 मार्च 2019 तक पाबंदी लगा दी थी. उनका ये आदेश 9 मार्च से लागू भी हो गया था. कमिश्नर ने साफ़ शब्दों में कह दिया था कि पबजी पर प्रतिबंध के दौरान यदि किसी के खिलाफ पबजी गेम खेलने की शिकायत दर्ज होती है और वो मामले में दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख़्त कार्रवाई होगी और आईपीसी की धारा 188 के तहत उसे गिरफ्तार किया जाएगा. इसके साथ ही 200 रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

सबसे पहले पुलिस ने राजकोट शहर के कालावड रोड पर आत्मीय कॉलेज के पास बैठकर मोबाइल पर पबजी खेल रहे नील अधेरा, हर्निश पंचाल, कल्पेश राठोड व हरकिशन बांगरोटिया को गिरफ्तार किया. उसके बाद अन्य स्थल पर मोबाइल से पबजी खेल रहे यश जोशी, माधव व्यास, केतन मूलिया, चिराग साकरिया, याकुब पठान, रमीज फालाणी, विजय प्रजापति और भाविक आंगोला को भी गिरफ्तार कर उनका मोबाइल ज़ब्त कर लिया. इस सभी को आईपीसी की धारा 188 के तहत गिरफ्तार किया गया. हालाँकि बाद में सभी को पुलिस ने जमानत दे दी.

पुलिस कमिश्नर का मानना है कि इस तरह के गेम्स पर प्रतिबंध जरूरी है. ये बच्चों और युवाओं में हिंसक प्रवृत्ति को बढ़ाते हैं. इनके कारण बच्चों की पढ़ाई का नुकसान भी होता है. सूरत, राजकोट के बाद अब अहमदाबाद में भी पबजी और मेमो चैलेंजर गेम खेलने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

अहमदाबाद पुलिस आयुक्त एके सिंह ने इस संबंध में एक सरक्युलर जारी कर बताया कि इस प्रकार के गेम खेलने से बच्चों की पढ़ाई पर विपरित असर पड़ रहा है. उनका भविष्य अंधकार में जा रहा है. इसकी की गंभीरता को देखते हुए इस पबजी और मेमो चैलेंजर गेम पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.