कुल्लू में 500 फीट गहरी खाई में गिरी बस, उड़े परख़च्चे, 44 की मौत, 31 घायल

गुरुवार को हिमाचल प्रदेश में एक बड़ा हादसा हुआ. जिससे पूरा देश सदमे में है. हिमाचल के जिला कुल्लू के बंजार में बयोठ मोड़ पर दोपहर बाद ओवरलोड निजी बस 500 फीट गहरी खाई में लुढ़कते हुए जा गिरी.

private bus falls in kullu himachal pradesh
private bus falls in kullu himachal pradesh

42 सीटर की इस बस में 75 लोग सवार थे. हादसे में 44 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 31 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. 39 लोगों की तो मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पांच लोगों ने अस्पताल में दम तोड़ा. ये हादसा कैसे हुआ इस पर लोगों का कहना है कि चालक इस बस को पहली बार चला रहा था और चढ़ाई पर बस का गियर नहीं बदल पाया जिससे बस बैक हो गई और चालक हादसे के ऐन मौके पर बाहर कूद भी गया. उसके बाद बस सीधा खाई में जा गिरी.

-----

बस के खाई में गिरते ही उसके परखच्चे उड़ गए. बस की छत अलग होकर पहाड़ी पर ही फंस गई और निचला हिस्सा खड्डे में जा गिरा. बस के सभी टायर भी अलग हो गए थे. मानों जैसे कोई कूड़े का ढेर हो. बस के अंदर करीब दो दर्जन स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थी भी सवार थे. हादसे के बाद घटनास्थल पर चीख-पुकार मच गई. आस पास के लोग मदद के लिए आये और घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद नेरचौक मेडिकल कॉलेज मंडी और क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू रेफर किया गया है.

बस चालक जब छलांग लगा कर भागा तो लोगों ने पीछा कर थोड़ी दूरी पर उसे पकड़ लिया और उसकी जमकर धुनाई की. बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया. हादसे में मारे गए लोगों के आश्रितों को 20,000-20,000 रुपये व घायलोंं को 5000-5000 रुपये की फौरी राहत दी गई है.

परिवहन मंत्री ने हादसे के मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए गए हैं. इस मामले की जाँच एडीएम कुल्लू अक्षय सूद करेंगे. पुलिस ने भी मामला दर्ज कर हादसे के कारणों की छानबीन शुरू कर दी है. सबसे बड़ी बात है कि सड़क के किनारों पर न कोई पैरापिट थे और न ही कोई क्रैश बैरियर.

पीएम मोदी ने इस हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि कुल्लू बस हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है. मैं उम्मीद करता हूं कि हादसे में घायल लोग जल्द ठीक हो जाएंगे. हिमाचल प्रदेश सरकार हर संभव सहायता प्रदान कर रही है.

राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर कहा कि हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में हुई बस दुर्घटना दुखद है. इस दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदना और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं. मैं इस क्षेत्र के कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से पीड़ितों की मदद करने का अनुरोध करता हूं.

  1. पुष्पा देवी (25) निवासी भूमिया
  2. बिशन सिंह (42) छुनार
  3. आदित्य शर्मा (22) पेडचा
  4. मीना देवी (28) धार
  5. चांदनी (20) तहसील बालीचौकी
  6. चरन सिंह (54) गडशाउ
  7. डोला सिंह (56) पौड़ी
  8. खजान सिंह (75) बाहू
  9. दिजेंद्र (26) पेडचा
  10. चंपा (26) गाड़ागुशैणी
  11. कंडक्टर छोटू
  12. यशपाल (36) मोहनी
  13. सेस राम (80) मोहनी
  14. पूर्ण चंद (24) थववाडी
  15. कांता (20) बाहू
  16. रमेश चंद (20) मोहनी
  17. दुर्गा देवी (38) बछूट
  18. पन्नू देवी (62)
  19. मोहन लाल (46) सूमतांदी
  20. जाह्नवी (10) सूमतांदी
  21. शांगरी देवी (75) गुशैणी
  22. रीत राम (45) विगर
  23. खीम सिंह (60) गाड़ागुशैणी
  24. गीता देवी (20) वीहांवा
  25. यमुना देवी धार तांदी
  26. दीना नाथ (60) ददभास
  27. दिनेश भूमिया (4)
  28. सेस राम (61) ढियों
  29. पन्ना लाल पुजाली
  30. रीता देवी बाहू
  31. कुसुमलता (30) बछूट
  32. धनेश्वरी बछूट सहित 44 मृतक शामिल हैं.