डिफेंस एक्सपो: उद्घाटन के बाद PM मोदी ने थामी राइफल, लगाए निशाने, कहा- पूरे विश्व के लिए बड़ा अवसर

लखनऊ में एशिया के सबसे बड़े डिफेंस एक्सपो का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उद्घाटन कर दिया है. सम्मेलन में 70 देशों के एक हजार से ज्यादा प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं.

prime minister narendra modi Inaugurate defence expo 2020
prime minister narendra modi Inaugurate defence expo 2020

उद्घाटन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल शूटिंग रेंज में निशाना लगाने के रोमांच का भी लुत्फ उठाया और वहां मौजूद अधिकारियों से उसकी बारीकियों को समझा. इसके बाद उन्होंने खुद ही वर्चुअल राइफल उठा ली और निशाना साधा. पीएम मोदी ने वर्चुअल शूटिंग रेंज में एक के बाद एक कई निशाने लगाएं. इसके साथ ही अत्याधुनिक हथियारों की प्रदर्शनी का मुआयना किया और जानकारी ली. डिफेंस एक्सपो में एक से बढ़कर एक आधुनिक शस्त्र लाए गए हैं.

वर्चुअल शूटिंग रेंज विज्ञान का वो आविष्कार है, जहां बिना गोलियां बर्बाद किए निशाना लगाया जा सकता है. सैनिक इस रेंज में अपनी क्षमता भी जांच सकते हैं और उसे निखार भी सकते हैं. सैनिकों के लिए इस प्रकार का प्रशिक्षण बहुत जरूरी होता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक्सपो का शुभारंभ करने के बाद हथियारों की पूरी मंडी सज गई है.

11वें डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी ने कहा- भारत केवल एक बाजार ही नहीं है. भारत पूरे विश्व के लिए अपार अवसर भी है. ये डिफेंस एक्सपो दुनिया का भारत के प्रति विश्वास को प्रकट करता है. दुनिया में भारत एक सशक्त भूमिका लेकर आगे बढ़ रहा है. ‘मेक इन इंडिया से भारत की सुरक्षा बढ़ेगी और रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे. आज का डिफेंस एक्सपो उसकी व्यापकता और विविधता और दुनिया में उसकी भागीदारी का जीता जागता सबूत है.

अमेठी के कोरबा में रायफल यूनिट का निर्माण रूस के साथ मिलकर शुरू हुआ, वहां एके-203 का उत्पादन होगा. 200 नए डिफेंस स्टार्टअप शुरू करने का लक्ष्य है. आज दुनियाभर में 6000 से अधिक भारतीय सैनिक शांति अभियान का हिस्सा हैं. अफ्रीका में शांति स्थापना में हमारी सेना ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

बतादें कि वैसे तो डिफेंस एक्सपो दिल्ली में होता था. लेकिन मोदी सरकार में सभी डिफेंस एक्सपो रक्षामंत्रियों के गृह राज्य में हुए हैं. 2016 में जब मनोहर पर्रिकर रक्षा मंत्री थे, तब गोवा में हुआ था. 2018 में डिफेंस एक्सपो तमिलनाडु में हुआ था, तब रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण थीं. इस बार डिफेंस एक्सपो लखनऊ में हो रहा है क्योंकि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हैं और लखनऊ से ही सांसद हैं.

पीएम मोदी ने कहा तकनीक का गलत इस्तेमाल और आतंकवाद के खतरे को देखते हुए दुनिया भर के तमाम देश अपनी अपनी रक्षा तकनीक का विकास कर रहे हैं. भारत भी इससे अछूता नहीं है. हमारी कोशिश है कि आने वाले पांच साल में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के करीब 25 रक्षा उत्पाद विकसित किए जाएं. बीते पांच वर्षों में डिफेंस के क्षेत्र में तेजी आई है.

वृंदावन में दर्शकों की एंट्री सिर्फ आठ और नौ फरवरी को होगी. यहां एयरफोर्स और सेना की ओर से लाइव डेमो की प्रस्तुतियां होंगी. वृंदावन में दर्शकों के लिए स्टेटिक डिस्प्ले भी लगाया गया है, जहां अत्याधुनिक सैन्य हथियार, मिसाइलें और उपकरणों को लगाया गया है. यहां दर्शक उनकी जानकारियां ले सकते हैं. वृंदावन में होने वाले एयर शो में एयरफोर्स और आर्मी की प्रस्तुतियां होंगी. इसमें डेयरडेविल की प्रस्तुति खास होगी. वृंदावन स्थल पर सेल्फी प्वॉइंट बनाए गए हैं. दर्शक स्टेटिक जोन में सेना के जवानों की पोशाक और जवानों के साथ अन्य अत्याधुनिक हथियारों के साथ सेल्फी ले सकेंगे.

जबकि गोमती रिवर फ्रंट पर दर्शक 5 से 9 फरवरी तक नेवल के लाइव शो का आनंद ले सकते हैं. एंट्री के लिए आईडी लेकर जाना अनिवार्य है. गोमती रिवर फ्रंट पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे. यहाँ नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड प्रस्तुतियां देंगे. दर्शकों के लिए गोमती रिवर फ्रंट पर सेल्फी प्वॉइंट बनाए गए हैं. इसमें रिवर फ्रंट पर दर्शक बंकर, टैंकों, बीएमपी के साथ सेल्फी ले सकेंगे. इसके अतिरिक्त उनके लिए एडवेंचर गेम जोन, सेना में रोजगार के अवसर का स्टॉल, सिमुलेटर लगाया जा रहा है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *