पालम हवाई अड्डे पर PM मोदी, राहुल सहित तमाम नेताओं ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, देखें-

पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों के पार्थिव शरीर को शुक्रवार की देर शाम पालम टेक्नीकल एरिया में लाया गया. यहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 40 शहीदों के पार्थिव देहों की परिक्रमा कर पुष्पचक्र चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की.

pm narendra modi tribute to martyrs palam airport pulwama attack
फ़ोटो सौ:- ट्विटर @narendrmodi

पीएम मोदी के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, तीनों सेनाओं के प्रमुखों और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत, तमाम केंद्रीय मंत्रियों ने जवानों को श्रद्धांजलि दी. इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह जम्मू-कश्मीर पहुंचे थे. वहां उन्होंने जवानों की पार्थिव देह को कंधा दिया और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, सेना के उत्तरी कमान के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह के साथ श्रीनगर में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि भी दी.

pm narendra modi tribute to martyrs palam airport pulwama attack

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी. शहीदों के पार्थिव शरीर उनके गृहनगर को भेजे जा रहे हैं. रक्षा मंत्री शनिवार और रविवार को तमिलनाडु और कर्नाटक के शहीदों को श्रद्धांजलि देने जाएंगी. वहीँ मुंबई के श्री सिद्धि विनायक मंदिर ने शहीदों के परिवारों की मदद के लिए 51 लाख रु. देने की घोषणा की.

कल पुलवामा में CRPF जवानों पर बड़ा आतंकी हुआ. जिसमें 44 जवान शहीद हो गए थे. इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. बड़ी संख्या में जवानों के शहीद होने से पूरा देश आक्रोशित है. हर जगह पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं. पूरा देश सिर्फ और सिर्फ आतंकियों से बदला लेना चाहता है. पीएम मोदी ने कहा है कि पुलवामा हमले के बाद लोगों का खून खौल रहा है. हमले के पीछे शामिल ताकतों को इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी.

कल शनिवार सुबह 11 बजे संसद में सर्वदलीय बैठक होगी. जिसमें सभी पार्टी के नेता मौजूद रहेंगे. इस बैठक के बाद ही तय होगा की इन आतंकियों से कैसे निपटना है. कल पूरे देश की इस पर नज़र रहेगी.

गुरुवार दोपहर 3:15 करीब सीआरपीएफ का 78 वाहनों का काफिला 2500 जवानों को लेकर जम्मू से श्रीनगर आ रहा था. इनमें ज्यादातर अपनी छुट्टी बिताकर ड्यूटी ज्वाइन करने जा रहे थे. मगर किसी को क्या पता था कि आज वे देश के लिए शहीद हो जायेंगे. जैसे ही ये काफिला दक्षिण कश्मीर में जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर गोरीपोरा (अवंतीपोर) के पास पहुंचा तो अचानक एक कार तेजी से काफिले में घुसी. इस कार में 350 किलो विस्फोटक सामग्री भरी हुई थी.

इस कार में आतंकी आदिल हुसैन बैठा था. उसने आत्मघाती कार ले जाकर सीआरपीएफ जवानों की एक बस के साथ टक्कर मार दी. इसके बाद वहां जोरदार धमाका हुआ और कार के साथ सीआरपीएफ जवानों से भरी एक बस के परखच्चे उड़ गये. पूरी सड़क पर लाशों का ढेर लग गया. साथ ही सड़क पर लोगों के रोने चिल्लाने की आवाजें आने लगी.

इस बड़े धमाके के बाद काफिले में शामिल अन्य वाहन तुरंत अपनी जगह रुक गए और साथियों को बचाने के लिए कुछ जवान जब बाहर निकले तो वहीं एक जगह छिपे बैठे आतंकियों ने उन जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी. जिसका जवानों ने तुंरत मुंहतोड़ जवाब दिया. जवाबी फायर पर आतंकी वहां से भाग निकले.