हम अपने लक्ष्यों को दूर नहीं होने देंगे, बेस्ट प्रोडक्ट बनाएंगे, सप्लाई चेन को और आधुनिक बनाएंगे

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के इस बड़े संकट के बीच देश को सम्बोधित किया और जनता से लोकल प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने की अपील की है. इसके साथ ही उन्होंने बेस्ट प्रोडक्ट बनाने और सप्लाई चेन को आधुनिक बनाने पर भी जोर दिया.

pm narendra modi address nation important points
pm narendra modi address nation important points

पीएम मोदी ने कहा कि जब कोरोना संकट शुरू हुआ तब भारत में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी, एन-95 मास्क का नाममात्र का उत्पादन था. आज स्थिति ये है कि भारत में ही हर रोज दो लाख पीपीई किट और दो लाख एन-95 मास्क बनाए जा रहे हैं. ये हम इसलिए कर पाए क्योंकि भारत ने आपदा को आवसर में बदल दिया है. आपदा को अवसर में बदलने की भारत की ये दृष्टि आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के लिए उतनी ही प्रभावी सिद्ध होने वाली है.

आत्मनिर्भर भारत की भव्य इमारत पांच पिलर्स पर खड़ी है-
  • पहला पिलर- इकोनॉमी– एक ऐसी इकोनॉमी जो इन्क्रीमेंटल चेंज नहीं, बल्कि क्वांटम जम्प लाए.
  • दूसरा पिलर- इन्फ्रास्ट्रक्चर– एक ऐसा इन्फ्रास्ट्रक्चर जो आधुनिक भारत की पहचान बने.
  • तीसरा पिलर- सिस्टम– ऐसा सिस्टम जो बीती शताब्दी की रीति नहीं, बल्कि 21वीं शताब्दी की टेक्नोलॉजी ड्रिवन व्यवस्था पर आधारित हो.
  • चौथा पिलर- डेमोग्राफी– दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की डेमोग्राफी आत्मनिर्भर भारत के लिए हमारी ऊर्जा का स्रोत है.
  • पांचवां पिलर- डिमांड– इसका चक्र और इसकी ताकत का इस्तेमाल किए जाने की जरूरत है.
-----

उन्होंने कहा कि सभी विशेषज्ञ और वैज्ञानिक हमें बता रहे हैं कोरोना संकट लंबे समय तक हमारे जीवन का हिस्सा बना रहेगा. लेकिन हम ऐसा भी नहीं होने दे सकते कि हमारी जिंदगी केवल कोरोना के ही इर्द-गिर्द सिमट जाए. हम मास्क पहनेंगे, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेंगे, लेकिन लक्ष्यों को दूर नहीं होने देंगे. जो हमारे वश में है वहीं सुख है, आत्मनिर्भरता हमें सशक्त भी करती है.

प्रधानमंत्री ने रिफॉर्म्स पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा, रिफॉर्म, खेती की चेन से भी जुड़ेंगे, ताकि किसान भी सशक्त हो और कोरोना जैसे संकट में खेती पर कम से कम असर हो. ये रिफॉर्म मजबूत फाइनेंशियल सिस्टम के निर्माण के लिए भी होंगे. ये निवेश को आकर्षित करेंगे और मेक इन इंडिया के सपने को साकार करेंगे. आत्मनिर्भरता दरअसल, आत्मबल और आत्मविश्वास से ही संभव है. आत्मनिर्भरता ग्लोबल सप्लाई चेन की स्पर्धा में देश को तैयार करेगी.

आज दुनिया में भारत की दवाइयां नई आशाएं लेकर पहुंचती हैं. दुनिया भर में भारत की भूरि-भूरि प्रशंसा होती है, हर भारतीय को गर्व होता है. दुनिया को विश्वास होने लगा है कि भारत बहुत अच्छा कर सकता है. मानव जाति के कल्याण के लिए बहुत कुछ दे सकता है.

आज फिर भारत विकास की ओर सफलतापूर्वक कदम बढ़ा रहा है, तब भी विश्व कल्याण की राह पर अटल है. आज हमारे पास साधन, सामर्थ्य है, दुनिया का सबसे बेहतरीन टैलेंट है. हम बेस्ट प्रोडक्ट बनाएंगे. अपनी क्वॉलिटी और बेहतर करेंगे. सप्लाई चेन को और आधुनिक बनाएंगे. ये हम कर सकते हैं और हम जरूर करेंगे.