5 अप्रैल रात 9 बजे लाइट बंद करें, सिर्फ दीया, मोमबत्ती, टॉर्च जलाएं, मां भारती का स्‍मरण करें

कोरोना महामारी के चलते आज शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों के साथ 12 मिनट का एक वीडियो मैसेज साझा किया है. जिसमें उन्होंने जनता से एक बार फिर अपील की है और जनता से 9 मिनट मांगे हैं.

pm modi appeal fight against coronavirus 5 april
pm modi appeal fight against coronavirus 5 april

वीडियो मैसेज साझा कर उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ अब तक 9 दिन के लॉकडाउन में लोगों ने अनुशासन का परिचय दिया है. हम सबको मिलकर कोरोना संकट के अंधकार को चुनौती देनी है. इस महामारी को प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है. इस 5 अप्रैल को हमें, 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है.

-----

5 अप्रैल रविवार को मैं रात को नौ बजे आप सभी के नौ मिनट चाहता हूं. घर की बालकनी में खड़े होकर मोमबत्ती, टॉर्च, दीया या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाएं. उस दिन घर की सभी लाइट बंद कर दें. चारों तरफ हर व्यक्ति जब एक-एक दिया जलाएगा तो प्रकाश की उस महाशक्ति का अहसास होगा, जिसमें ये उजागर होगा कि हम एक ही मकसद से एकजुट होकर लड़ रहे हैं. उस उजाले में हम संकल्प करें कि हम अकेला नहीं हैं.

उन्होंने आगे कहा कि साथियों, मेरी एक और प्रार्थना है, कि इस आयोजन के समय किसी को भी,कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है. रास्तों में, गलियों या मोहल्लों में नहीं जाना है, अपने घर के दरवाजे, बालकनी से ही इसे करना है. सामाजिक दूरी की लक्ष्मण रेखा को कभी भी लांघना नहीं है. सामाजिक दूरी को किसी भी हालत में तोड़ना नहीं है.

22 मार्च को जनता कर्फ्यू में सहयोग के लिए सभी लोगों का धन्‍यवाद. उस दिन देशभर में बजी तालियों, घंटियों और थाली की आवाज आज पूरी दुनिया में सुनाई दे रही है. दुनिया के दूसरे देश भी इस अनूठे प्रयोग को अपने यहां पर कर उन लोगों का धन्‍यवाद अदा कर रहे हैं जो इस मुश्किल दौर में दूसरों की मदद कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने घरों में लोगों के अकेलेपन को दूर करने के लिए कहा कि लॉकडाउन के बाद आज करोड़ों लोग घरों में हैं तो कुछ को लग सकता है कि वो अकेला क्‍या करेगा. इतनी बड़ी लड़ाई से अकेले कैसे लड़ सकेंगे. कितने दिन ऐसे और काटने पड़ेंगे. इस पर उन्‍होंने कहा कि ऐसा समझने की भूल न करें. हम अपने घरों में जरूर हैं लेकिन कोई अकेला नहीं है. 130 करोड़ लोगों की शक्ति हर किसी के साथ जुड़ी है.

5 अप्रैल को सभी देशवासी एक बार फिर से अपनी एकजुटता का परिचय देंगे और दुनिया के सामने एक मिसाल पेश करेंगे. 5 अप्रैल को कुछ पल अकेले बैठकर मां भारती का स्‍मरण करें. कोरोना की चेन तोड़ने का यही एक इलाज है.