निर्भया के चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी, 22 जनवरी सुबह 7 बजे होगी फांसी

आख़िरकार 7 साल बाद निर्भया को इन्साफ मिल ही गया. दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया कांड पर अपना आख़िरी फैसला सुनाते हुए सभी दोषियों का डेथ वारंट जारी कर दिया है.

patiala house court hearing nirbhaya case issue to death warrant
patiala house court hearing nirbhaya case issue to death warrant

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया के साथ दुष्कर्म हुआ था. 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा के साथ चलती बस में गैंगरेप हुआ था और आरोपियों ने उसके साथ बहुत ही दर्दनाक और शर्मनाक सुलूक किया था. छात्रा ने 29 दिसंबर 2012 को दम तोड़ दिया था. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फांसी की सजा सुनाई थी.

आज 7 जनवरी को इन चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी हो गया है. सुप्रीम कोर्ट के अनुसार डेथ वारंट जारी होने के बाद आरोपियों को कम से कम 14 दिन का वक्त दिया जाना चाहिए, ताकि इस दौरान वो अपने सारे अधूरे काम जिनमें वसीयत करने से लेकर रिश्तेदारों से मिलना शामिल है वो सब पूरी कर सके. इस हिसाब से फांसी में एक-दो हफ्ते का वक्त और लग जाएगा.

इस हिसाब से अब दुष्कर्मियों के पास फिर 14 दिन का ही समय बचा है. दोषियों की गर्दन अब फांसी के फंदे से ज्यादा दूर नहीं है. 22 जनवरी की तारीख फांसी के लिए तय कर दी है. फांसी का समय सुबह सात बजे तय किया गया है. चारो दोषियों को फांसी दिल्‍ली के तिहाड़ जेल में दी जाएगी.

दोषी अक्षय, पवन, मुकेश और विनय के पास डेथ वाॅरंट के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करने के लिए 14 दिन का वक्त है. अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हें फांसी दे दी जाएगी. वहीँ दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा है कि हम सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल करेंगे.

निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि बेटी को इंसाफ मिल गया है. दोषियों की फांसी देश की महिलाओं को ताकत देगी. इस फैसले से लोगों का न्यायपालिका पर भरोसा मजबूत हुआ.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *