crossorigin="anonymous"> राहत: लखनऊ पहुंची 40 हजार लीटर लिक्विड ऑक्सीजन, अब नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी - Ulta Chasma Uc

राहत: लखनऊ पहुंची 40 हजार लीटर लिक्विड ऑक्सीजन, अब नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी

राजधानी लखनऊ में ऑक्सीजन न मिलने से तड़प रहे मरीजों को बड़ी राहत मिली है. आक्सीजन एसक्प्रेस दो टैंकर लेकर बोकारो से लखनऊ आ गई है. दोनों टैंकर लखनऊ में उतारे गए हैं.

चारबाग रेलवे स्टेशन पहुंचे 2 आक्सीजन टैंकर

इस दौरान चारबाग रेलवे स्टेशन पर अपर मुख्य सचिव अवनीश गृह अवस्थी के अलावा रेलवे, जिला प्रशासन और पुलिस के अफसर पहुंचे हैं. अपर मुख्य सचिव ने कहा कि अब लखनऊ के साथ ही पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी. बोकारो गैस प्लांट से आक्सीजन लाने की प्रक्रिया चलती रहेगी. दोनों ट्रैकर आक्सीजन लेकर दो दिन के अंदर बोकारो से लखनऊ आ गए हैं. आज तीन टैंकर बोकारो के लिए और भेजे जाएंगे.

-----

जिलाधिकारी और स्वास्थ्य विभाग तय करेगा कितनी किसको देनी है आक्सीजन

-----

उन्होंने आगे कहा कि जिलाधिकारी रोशन जैकब और स्वास्थ्य विभाग तय करेगा कि किन किन अस्पतालों और प्लांट में आक्सीजन की कितनी आवश्यकता है. आज ही सभी अस्पतालों के खाका तैयार करके उन्हें आक्सीजन कि सप्लाई दे दी जाएगी. आक्सीजन को अस्पतालों, पड़ोसी जनपदों और गैस प्लांट पर भेजने के लिए यहाँ कड़ी सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए हैं.

एक टैंकर बनारस में उतारा गया

बता दें कि आक्सीजन एक्सप्रेस बोकारो से तीन ट्रैकरों में आक्सीजन गैस लेकर लखनऊ के लिए रवाना हुई थी. एक टैंकर बनारस में उतारा गया था दो लखनऊ पहुंचे हैं. लखनऊ से रवाना हुई ऑक्सीजन एक्सप्रेस के साथ एक जीआरपी उपनिरीक्षक और दो कांस्टेबल का एस्कॉर्ट भी भेजा गया है. ताकि ऑक्सीजन को सुरक्षित लखनऊ लाया जा सके.

दो से तीन टैंकर कानपुर नगर भेजे जायेंगे

एक टैंकर में 20 हजार लीटर लिक्विड ऑक्सीजन है. रेलवे ने इस ऑक्सीजन एक्सप्रेस के लिए विशेष तौर पर ग्रीन कॉरिडोर बनाया है यानी ट्रेन बिना कहीं रुके सीधे बोकारो पहुंचेगी और बिना रुके लखनऊ आएगी. ग्रीन कॉरिडोर के जरिए रेलवे के द्वारा जो टैंकर 4 दिन में आता था वो 2 दिन में आया है. अवनीश अवस्थी ने कहा दो से तीन टैंकर सड़क मार्ग से आ रहे हैं जिन्हें हम कानपुर नगर की तरफ डायवर्ट कर देंगे.

-----