UP: ऑक्सीजन के लिए नई गाइडलाइन, अब इस तरह मिलेगा ऑक्सीजन सिलेंडर

उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से मची अफरातफरी को देखते हुए योगी सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है. इसके तहत अब निजी तौर पर ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं खरीद सकेंगे.

सिर्फ संस्था को ही दी जाएगी ऑक्सीजन की सप्लाई

गाइडलाइन में कहा गया है कि बहुत गंभीर स्थिति को छोड़कर किसी को भी निजी तौर पर ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं की जाएगी. ये सिर्फ संस्था को ही दी जाएगी. गंभीर स्थिति में निजी तौर पर ऑक्सीजन देना भी पड़े तो संबंधित व्यक्ति से डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन और आधार कार्ड लेकर डिटेल नोट करना होगा. इसके साथ ही ऑक्सीजन रीफिलिंग सेंटर पर सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं.

-----

संक्रमित कर्मचारियों को 28 दिन की पेड लीव

-----

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना संक्रमित कर्मचारियों को 28 दिन की पेड लीव देने का ऐलान किया है. किसी दुकान, कंपनी में अगर 10 से ज्यादा लोग काम करते हैं तो उन्हें कोविड बचाव के तरीके मेट गेट पर डिसप्ले करना होगा. एक तरफ ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए गाइडलाइन दूसरी तरफ चिकित्सकों के गिड़गिड़ाने के बाद भी सीएमओ द्वारा ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं कराई जा रही है और ऑक्सीजन की कमी के कारण प्राइवेट अस्पताल में भर्ती बच्चों की जिंदगी आक्सीजन न मिलने से दांव पर लगी है. वहीं सीएमओ ने कहा है कि ऑक्सीजन की कमी पूरे उत्तर प्रदेश में है. ये हालात हैं यूपी के.

डॉक्टर संतोष पांडेय को सौंपी गई बलरामपुर अस्पताल के डायरेक्टर पद की जिम्मेदारी

यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी भी संक्रमित हो गई हैं. लखनऊ में डॉक्टर राजीव लोचन को बलरामपुर अस्पताल के डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है. वे 10 अप्रैल को कोरोना संक्रमित हो गए थे. अब ये जिम्मेदारी डॉक्टर संतोष पांडेय को सौंपी गई है. बतादें कि कोरोना की दूसरी लहर राजधानी लखनऊ समेत पूरे उत्तर प्रदेश पर भारी पड़ रही है. राज्य में अभी 2.42 लाख से ज्यादा ऐसे मरीज हैं, जिनका इलाज चल रहा है. बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 34379 संक्रमित मिले और 195 की मौत हुई.