निर्भया के दोषियों की माफ़ी चाहती हैं ये वरिष्ठ वकील, निर्भया की मां ने दिया ये जवाब

सात साल बाद अब जब निर्भया को इन्साफ मिला है और उसके दोषियों को कुछ ही दिनों में फांसी होने वाली है. निर्भया के माता-पिता को थोड़ा सुकून मिला है. वहीं सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने एक बयान देकर नया विवाद खड़ा कर दिया है.

nirbhaya mother angry on indira jaisingh advice in nirbhaya case
nirbhaya mother angry on indira jaisingh advice in nirbhaya case

मालूम हो कि शुक्रवार को दोषी मुकेश की दया याचिका को राष्ट्रपति ने ख़ारिज कर दी थी. जिसके बाद चारों दोषियों के लिए नया डेथ वारंट जारी किया गया है. और दोषियों को फिर से 14 दिन दिए गए हैं. और 1 फ़रवरी को सुबह 6 बजे चारों दुष्कर्मियों को फांसी दे दी जाएगी. फांसी दिल्‍ली के तिहाड़ जेल में दी जाएगी.

लेकिन अब उच्चतम न्यायालय की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह भी इस मैदान में कूद पड़ी हैं. उन्होंने निर्भया की मां से बेटी के दरिंदों को माफ करने का अनुरोध किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं आशा देवी के दर्द से पूरी तरह से वाकिफ हूं. मैं उनसे अनुरोध करती हूं कि वह सोनिया गांधी के उदाहरण का अनुसरण करें जिन्होंने नलिनी को माफ कर दिया और कहा कि वो उसके लिए मौत की सजा नहीं चाहती हैं. हम आपके साथ हैं लेकिन मौत की सजा के खिलाफ हैं.

इंदिरा जयसिंह के बयान के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि आखिर इंदिरा जयसिंह कौन होती हैं मुझे ऐसी सलाह देने वाली? भगवान कहे तब भी दोषियों को माफ नहीं करूंगी. पूरा देश निर्भया के दोषियों को फांसी पर झूलता देखना चाहता है. उनके जैसे लोगों की वजह से ही रेप पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिलता. मैं इंदिरा जयसिंह से केस की सुनवाई के दौरान कई बार सुप्रीम कोर्ट में मिली हूं लेकिन उन्होंने कभी मेरा हालचाल नहीं लिया. अब वो दोषियों को माफ करने की बात कह रही हैं. ऐसे लोग ही रेप का समर्थन कर अपना जीवनयापन करते हैं, इसलिए रेप जैसी घटनाएं रुकती नहीं हैं.

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया के साथ दुष्कर्म हुआ था. 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा के साथ चलती बस में गैंगरेप हुआ था और आरोपियों ने उसके साथ बहुत ही दर्दनाक और शर्मनाक सुलूक किया था. छात्रा ने 29 दिसंबर 2012 को दम तोड़ दिया था. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फांसी की सजा सुनाई थी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *