निर्भया के दोषियों का तीसरा डेथ वारंट जारी, अब 3 मार्च को दी जाएगी फांसी, लेकिन अभी बचे हैं ये विकल्प-

निर्भया के दोषियों की फांसी की नई तारीख मतलब पटियाला हाउस कोर्ट ने तीसरी बार डेथ वारंट जारी किया है. अब चारों दोषियों को 3 मार्च सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी.

nirbhaya gang-rape case hearing on new death warrant issue
nirbhaya gang-rape case hearing on new death warrant issue

केस की सुनवाई के दौरान दोषियों के वकील एपी सिंह ने अदालत में कहा कि विनय शर्मा 11 फरवरी से भूख हड़ताल पर है और अक्षय के माता-पिता ने आधी-अधूरी दया याचिका दायर की थी इसलिए वो अक्षय की तरफ से नई दया याचिका डालेंगे. वहीं आज मुकेश की मां ने बेटे के लिए नए वकील करने का आवेदन अदालत में डाला, जिसके बाद मुकेश के लिए वकील रवि काजी को नियुक्त किया गया है जो पवन का भी केस लड़ रहे हैं.

विशेष सरकारी वकील राजीव मोहन ने अदालत में मामले की स्टेटस रिपोर्ट जमा करते हुए बताया कि चार में से तीन दोषियों के कानूनी विकल्प खत्म हो गए हैं. अब चारों दोषियों की कोई याचिका न तो कोर्ट में और न ही राष्ट्रपति के सामने लंबित हैं.

उधर पवन के वकील रवि काजी ने कोर्ट को बताया कि आज उन्होंने पवन से मुलाकात की थी. पवन सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन डालना चाहता है और राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजना चाहता है. इस पर जज ने कहा कि आप वो नई दलीलें अदालत के सामने रखिए जो पहले नहीं रखी गई थीं.

लेकिन अभी भी फांसी पर रोक लग सकती है. क्युकी दुष्कर्मी पवन ने अभी तक उपचारात्मक याचिका दायर नहीं की है. और राष्ट्रपति को भी दया याचिका नहीं भेजी है. अब अगर दो तीन दिन में पवन क्यूरेटिव पिटीशन या दया याचिका लगा देता है तो उसपर फैसला आने में दो तीन दिन लगेगा. फिर फैसला आने के बाद पवन को 14 दिन का आखिरी समय दिया जायेगा.

इस हिसाब से फांसी पर फिर से रोक लग सकती है. और अकेले तीन दोषियों को फांसी नहीं हो सकती है. क्युकी हाई कोर्ट पहले ही कह चुका है कि चारों को एक साथ फांसी होगी.

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया के साथ दुष्कर्म हुआ था. 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा के साथ चलती बस में गैंगरेप हुआ था और आरोपियों ने उसके साथ बहुत ही दर्दनाक और शर्मनाक सुलूक किया था. छात्रा ने 29 दिसंबर 2012 को दम तोड़ दिया था. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फांसी की सजा सुनाई थी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *