आज से देश में लागू हुए ये नए नियम, जानें आपकी जेब पर होगा कितना असर…

आज से यानी 01 अक्टूबर मंगलवार से देशभर में कई नियम बदल गए हैं. जिससे देश की अर्थव्‍यवस्‍था के साथ साथ आपकी जेब पर भी इसका सीधा असर पड़ने वाला है. थोड़ी राहत मिलेगी तो थोड़ा बोझ भी बढ़ जाएगा.

new rules will be implemented in the country from october 1

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसीबीआई) के क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल और डीजल खरीदने पर अब आपको कैशबैक नहीं मिलेगा. आज से बंद हो रही इस सुविधा के बारे में एसबीआई अपने ग्राहकों को मैसेजों के जरिए सूचित कर रहा है. बतादें कि अभी तक एसबीआई के क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल और डीजल की खरीदारी पर ग्राहकों को 0.75 फीसदी तक कैशबैक मिल जाता था.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया आज से निर्धारित मंथली एवरेज बैलेंस को नहीं बनाए रखने पर लगने वाले जुर्माने में 80 फीसदी तक कमी करने जा रहा है. मतलब की अगर आप SBI के खाता धारक हैं तो अपने अकाउंट में तीन हजार रुपये बनाए रखना होगा. खाते में निर्धारित रकम से अगर बैलेंस 75 फीसदी से कम रहता है तो जुर्माने के तौर पर 80 रुपये प्‍लस GST देना होगा और खाते में 50 से 75 फीसदी तक बैलेंस रखने वालों को 12 रुपये और GST देना होगा. वहीं 50 फीसद से कम बैलेंस होने पर 10 रुपये जुर्माना प्‍लस GST अदा करना होगा.

आपका ड्राइविंग लाइसेंस (DL) भी बदलने वाला है. सरकार ड्राइविंग लाइसेंस और RC से जुड़े नियमों में बदलाव कर रही है. जो 01 अक्टूबर, 2019 से लागू हो जायेंगे. अब सभी लोगों को अपना डीएल बदलवाना पड़ेगा. नए नियमों के अनुसार, अब डीएल और आरसी पंजीकरण प्रमाण-पत्र एक ही रंग के हो जाएंगे. यही नहीं अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी में माइक्रोचिप के अलावा क्यूआर कोड होंगे.

कई वस्‍तुओं पर टैक्स कम किया गया है. अब 1000 रुपए तक के किराए वाले होटलों पर टैक्स नहीं लगेगा. 7500 रुपए तक टैरिफ वाले कमरे के किराए पर केवल 12 फीसदी जीएसटी देना होगा. 10 से 13 सीटों तक के पेट्रोल और डीजल वाले वाहनों से सेस घटा दिया गया है. स्लाइड फास्टनर्स (जिप) पर जीएसटी 12 फीसदी कर दिया गया है.

पांच करोड़ सालाना से ज्यादा टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए जीएसटी रिटर्न का फॉर्म आज से बदल गया है. इन कारोबारियों को जीएटी एएनएक्स-1 फॉर्म भरना होगा जो जीएसटीआर-1 की जगह लेगा, ये सभी के लिए अनिवार्य होगा. बड़े करदाता अक्टूबर और नवंबर का जीएसटी रिटर्न जीएसटीआर 3बी फॉर्म से भरेंगे.

केंद्र सरकार आज से कर्मचारियों के पेंशन पॉलिसी में भी बदलाव कर रही है. नए नियम के अनुसार अगर किसी कर्मचारी की नौकरी के सात साल पूरे होने के बाद मृत्यु हो जाती है तो उसके आश्रितों को बढ़ी हुई पेंशन का फायदा मिलेगा. अभी तक ऐसी स्थिति में आखिरी वेतन के 50 फीसदी के हिसाब से ही पेंशन मिलती थी.

आज से मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के पास 15 फीसदी टैक्स भरने का विकल्प होगा. इसके बाद कंपनियों पर सरचार्ज और टैक्स समेत कुल चार्ज 17.01 फीसदी हो जाएगा. इसके पहले भारतीय कंपनियों को 30 फीसदी टैक्स के अलावा सरचार्ज भी देना पड़ता था.

भारतीय स्टेट बैंक के बचत खातों में नकदी जमा कराने के लिए कोई भी ग्राहक तीन ट्रांज़ैक्शन निःशुल्क कर सकता है, लेकिन उसके बाद खाताधारक से प्रत्येक ट्रांज़ैक्शन के लिए 50 रुपये तथा GST वसूल किया जाएगा.

842 total views, 1 views today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *